देश में जैविक खेती होने से स्वास्थ्य के नाम पर हो रहे चिकित्सा खर्च कम हो जायेगा, वहीं इससे गौवध का अनुपात कम होगा। जैविक खेती से उत्पन्न अनाज में पौष्टिक तत्व अधिक रहता है जबकि रासायनिक खेती से उत्पन्न अनाज के सेवन से शरीर में कई तरह की बीमारियाँ  उत्पन्न हो रही हैं। जैविक खेती होने से गौ माता, भगवान गोविन्द, गायत्री की कृपा गौ भक्तों पर बरसती है। 

यह तथ्य राजस्थान के सिरोही जनपद के गोलोक तीर्थ नंदगांव में चल रहे गौ नवरात्रि अनुष्ठान एवं सुरभि महायज्ञ में पहुंचे देशभर के प्रमुख संतो, गौ सेवकों की चर्चा में उभरा। उपस्थित प्रमुख संतों ने गौ सेवा, गंगा की निर्मलता व गायत्री की आराधना पर जोर दिया। वहीं  इस मौके पर उपस्थित मुख्य अतिथि अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि सच्चे ब्राह्मण वही जो अपने जीवन से समाज को शिक्षा देता है। ऐसे ब्राह्मण- संतों को पुनः जिंदा करना होगा। देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ पण्ड्याजी ने कहा कि गंगा मैय्या की शुद्धता के लिए निर्मल गंगा जन अभियान चला रहा है। गौ संरक्षण, गंगा स्वच्छता के लिए गायत्री परिवार के करोड़ों लोग भागीदारी कर रहे हैं। डॉ पण्ड्या ने चमड़े प्रयोग  की भर्त्सना करते हुए देश में चलने वाले कत्लखानों को बंद करने की अपील की। स्वामी दत्तशरणानंद ने कहा कि जिस प्रकार गायत्री की कृपा के बिना सद्बुद्धि नहीं मिलती, उसी प्रकार गाय के बिना सद्गति (प्रगति) नहीं हो सकती। उन्होंने ने कहा कि गाय मानव को नहीं पूरी प्रकृति को देती है। गोमाता की उपेक्षा से विश्व में समस्याएं बढ़ रही हैँ। सुख- समृद्धि व शांति के लिए गोमाता की सेवा जरूरी है। इस अनुसार पथमेड़ागोधाम की प्रमुख गोमैया समृद्धि को स्वर्ण तथा नंदी, ऋषभ, वत्स सहित गोमाताओं को शृंगारित कर ग्वालों का अभिनंदन किया गया। वहीं आचार्य राजेन्द्रदास, गोवत्स राधाकृष्ण, गोविन्दवल्लभ ब्रह्मचारी, सुमन सुलभ ब्रह्मचारी, अनन्त चैतन्य, देवेश चैतन्य, गोविन्द गिरी जी आदि संतों ने अपने विचार प्रकट किये। इस मौके पर गायत्री परिवार प्रमुख डॉ पण्ड्याजी ने अनेक संतों की उपस्थिति में गोलोक तीर्थ में चौबीस कुटिया का उद्घाटन किया, जहाँ नियमित रूप से गौ संरक्षण के लिए अनुष्ठान किये जायेंगे। 





Write Your Comments Here:


img

anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री मंत्र और गायत्री माँ के चम्त्कार् के बारे मैं बताया

मैं यशवीन् मैंने आज राजस्थान के barmer के बालोतरा मैं anganwadi स्कूल मैं जाके गायत्री माँ के बारे मैं बच्चों को जागरूक किया और वेद माता के कुछ बातें बताई और महा मंत्र गायत्री का जाप कराया जिसे आने वाले.....

img

युग निर्माण हेतु भावी पीढ़ी में सुसंस्कारों की आवश्यकता जिसकी आधारशिला है भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा -शांतिकुंज प्रतिनिधि आ.रामयश तिवारी जी

वाराणसी व मऊ उपजोन की *संगोष्ठी गायत्री शक्तिपीठ,लंका,वाराणसी के पावन प्रांगण में संपन्न* हुई।जहां ज्ञान गंगा की गंगोत्री,*महाकाल का घोंसला,मानव गढ़ने की टकसाल एवं हम सभी के प्राण का केंद्र अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज,हरिद्वार* से पधारे युगऋषि के अग्रज.....

img

Yoga Day celebration

Yoga day celebration in Dharampur taluka district ValsadGaytri pariwar Dharampur.....