भारतीय संस्कृति के उदात्त आदर्शों का अवलम्बन करते हुए सात विदेशी नागरिकों ने गायत्री महामंत्र की दीक्षा लेने के बाद शांतिकुंज में रहकर सवालाख गायत्री महामंत्र जप अनुष्ठान किया। रूस, यूक्रेन और लात्विया के नागरिकों के दल को दीक्षा दिलाते समय आद. डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने उनके भारतीय नाम रखते हुए नये जीवन लक्ष्य के साथ नयी पहचान दी। मारीना और तान्या को मीरा और सुगीता नाम दिया गया, जबकि यवगेनी और यूरा अब कृष्णा व विदुर  कहलाने लगे।

आध्यात्मिक जिज्ञासाओं से लबरेज दल के सदस्य परम पूज्य गुरुदेव के जीवन में अभीष्ट आदर्शों को पाकर गद्गद हुए। गुरुरूप में उनका वरण कर वे उन आदर्शों को जीवन में उतारने और विश्व में शांति- सद्भाव का संदेश फैलाने के लिए उत्साहित हैं। वे यहाँ रहकर भारतीय संस्कृति और संस्कृत भाषा का गहन अध्ययन कर रहे हैं। युगऋषि का संदेश अपने क्षेत्र में पहुँचाने के लिए वे समयदान- अंशदान करते रहेंगे।   



Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....