जनहित का संकल्प लेकर देसंविवि का जत्था रवाना,
देसंविवि के २०६ युवा सात राज्यों में करेंगे परिव्रज्या |

हरिद्वार स्थित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा संचालित इंटर्नशीप कार्यक्रम के तहत २०६ युवाओं का एक जत्था आज परिव्रज्या के लिए रवाना हुआ। ये युवक- युवतियाँ अपने शिक्षण के दौरान मिले ज्ञान को समाज के बीच बाँटेंगे, वहीं योग, हवन, सत्संग सहित कई कार्यक्रम भी संचालित करेंगे। 

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय अपने अनूठी कार्यक्रम व नित नये प्रयोग के कारण देश आशाभरी नजर से देख रहा है। मात्र १४ वर्ष की अवधि में शिक्षा, शोध, सेवा और उपलब्धियों के अनेकों कीर्तिमान गढ़े हैं। इन उपलब्धियों में और नगीना गढ़ने के उद्देश्य से युवाओं की ६८ टोलियाँ बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, दिल्ली, मप्र, उप्र, महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों के लिए आज रवाना हुई। एक टोली में तीन से चार विद्यार्थी हैं। 

टोली को विदाई पाथेय देते हुए देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि किसी के काम जो आये, उसे इंसान कहते हैं, पराया दर्द जो अपनाये उसे भगवान कहते हैं। उन्होंने कहा कि पढ़ा हुआ ज्ञान तभी सार्थक है, जब उसका सदुपयोग हो। समाज हित   के कार्यों में अपना ज्ञान लगाने से वह दिन दूनी रात चौगुनी की तरह बढ़ता है। कुलाधिपति ने इन छात्र- छात्राओं को योग एवं वैकल्पिक चिकित्सा के माध्यम से रोग मुक्त भारत के निर्माण  में सहभागी बनने का आवाहन किया। 

कुलसचिव संदीप कुमार के अनुसार इंटर्नशीप में इस वर्ष बीएड के १००, धर्मविज्ञान के २४, समग्र स्वास्थ्य प्रबंधन के २२, सर्टिफिकेट योग के २७, एनीमेशन के ५, पीजी योग के ११ ग्राम  प्रबंधन के १५ व जल प्रबंधन के दो विद्यार्थी शामिल हैं। इनमें छात्राओं की संख्या अधिक हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षार्थी अपने आचरण व व्यवहार से ही विद्यार्थी बनता है। आप लोगों ने विवि के कुलपिता एवं कुलमाता के गर्भ में रहकर विद्यार्जन की है। जिसे चरितार्थ करना है। ये   विद्यार्थी एक माह से लेकर एक साल तक समयदान करेंगे। 





Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....