Published on 2015-04-01


गायत्री विद्यापीठ शांतिकुञ्ज में चल रहे कत्थक नृत्य सेमीनार में बच्चों ने अपनी कला का हुनर दिखाया। जाह्नवी, श्रद्धा, पयश, आहुति, स्तुति, लावण्या, प्रज्ञा आदि बच्चों ने अपनी मनमोहक प्रस्तुतियों से उपस्थित लोगों का मन मोह लिया। बच्चों ने जयपुर, लखनउ व रागयढ़ घराने पर अपनी प्रस्तुतियां दीं। इसमें नर्तकों ने नृत्त, ठाट, आमद, सलामी, पडन, परमेलु, गत आदि का उपयोग किया। इस नृत्य सेमीनार में विद्यापीठ के 45 बच्चों ने भागीदारी की।

     कत्थक नृत्य के उद्घाटन करते हुए विद्यापीठ की प्रबंध समिति की वरिष्ठ सदस्या श्रीमती शेफाली पण्ड्या ने कहा कि कत्थक नृत्य भारतीय संस्कृति का परिचय देता है। भावों की प्रधानता होने के कारण इसमें एकाग्रता के विकास में सहायक होता है। उन्होंने कहा कि इस नृत्य की विशेषता नृत्य में भाव, हाथों की मुद्रा, अभिनव रस की प्रधानता होती है। देसंविवि सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के प्रभारी डाॅ शिवनारायण प्रसाद ने कहा कि भारतीय संस्कृति के प्रचार प्रसार हेतु देसंविवि के साथ अब गायत्री विद्यापीठ जुड़ गया है। कला के माध्यम से संस्कृति के प्रचार में युवाओं की भागीदारी के लिए प्रयास किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में विद्यालयों से लेकर महाविद्यालयों तक के विद्यार्थियों को भी जोड़ा जा रहा है, ताकि भारतीय संस्कृति की ओर बच्चों में रूझान पैदा हो सके। 

     कार्यक्रम के समापन अवसर पर विद्यापीठ के प्रधानाचार्य प्रो0 श्याम नारायण मिश्रा ने कहा कि बच्चों द्वारा कई चक्कर व विभिन्न ताल में जटिल रचनाओं को नृत्य के माध्यम से प्रस्तुती का यह पहला प्रयास है। कत्थक नृत्य का प्रशिक्षण मानवी वशिष्ठ ने दिया। समापन अवसर पर विद्यापीठ के शिक्षक-शिक्षिकाएं सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

 


Write Your Comments Here:


img

ऑनलाइन योग सप्ताह आयोजन द्वादश योग :गायत्री योग

परम पूज्य गुरुदेव द्वारा लिखित पुस्तक  गायत्री योग, जिसके अंतर्गत द्वादश योग की चर्चा की गई है, का ऑनलाइन वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से पांच दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया गया| इस कार्यक्रम में विशेष आकर्षण वीडियो कांफ्रेंस.....

img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....

img

शान्तिकुञ्ज में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया

प्रसिद्ध आध्यात्मिक संस्थान गायत्री तीर्थ शांतिकुंज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साह पूर्वक मनाया गया। शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुख एवं  देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति  श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पंड्या जी तथा संस्था की अधिष्ठात्री.....