Published on 0000-00-00

बच्चों एवं बहिनों ने भी बढ़-चढ़कर लिया हिस्सा

        गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में चल रहे खेल महोत्सव का आज समापन हो गया। इस महोत्सव में कुल शारीरिक के १० व बौद्धिक ८ प्रकार के खेलों में ६०३ खिलाड़ियों ने प्रतिभाग किया। विजेता खिलाड़ियों व टीमों को शांतिकुंज के वरिष्ठजनों ने पुरस्कृत कर मेडल, शिल्ड व प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया।

        खेल आयोजकों के अनुसार युगऋषि को जानो, अंत्याक्षरी, कविता पाठ एवं गायन में बहनों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए कई पदक अपने नाम किये। वहीं कबड्डी, खो-खो, गोला फेंक, धीमी साइकिलिंग, लंबी कूद, ऊँची कूद, कुर्सी दौड़ में भाइयों ने अच्छा दमखम दिखाया। बच्चों ने अपने-अपने वर्ग के खो-खो, कबड्डी आदि खेलों में प्रतिभाग करते हुए अपनी प्रतिभा को लोहा मनवाया। महोत्सव में अलग-अलग आयु वर्ग के लिए अलग-अलग खेलों का आयोजन किया गया था।

        इन खेलों के विजेता खिलाड़ियों एवं टीम को शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री वीरेश्वर उपाध्याय, श्री हरीश ठक्कर, श्री बृजमोहन गौड़, शचीन्द्र भटनागर एवं प्रो० एसएन मिश्रा ने पदक, शिल्ड, प्रशस्ति पत्र व जीवनोपयोगी युग साहित्य भेंटकर सम्मानित किये।

        इस अवसर पर श्री उपाध्याय ने कहा कि इस महोत्सव में खेल व खिलाड़ियों की जीत हुई है। ८५ वर्ष के वरिष्ठ सदस्य भी अपनी युवावस्था की यादों को ताजा करते हुए शारीरिक खेलों में प्रतिभाग किया, जो अपनी आयु को उत्साह उमंग के आगे काफी पीछे छोड़ दिया। खेल मनुष्य के जीवन में खुशियाँ ले आते हैं, इसलिए ऐसे आयोजन होते रहने चाहिए।



Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....