Published on 2015-05-20
img

वर्तमान समय के भागदौड़ भरी जिंदगी के बीच स्वस्थ रहकर लंबी उम्र की इच्छा हो, तो योग को अपनाना ही होगा। योग ही एक ऐसा सरल व सुगम उपाय है, जिससे शरीर को स्वस्थ व सुदृढ़ रखा जा सकता है।

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर युनेस्को ने आगामी २१जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के रूप में घोषित किया, ऐसे में देवभूमि उत्तराखंड स्थित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय एवं अखिल विश्व गायत्री परिवार संयुक्त रूप से भारत के विभिन्न जिलों में योग के कार्यक्रम आयोजित करेगा।

योग की गंगा बहाने वाली हरिद्वार स्थित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री परिवार के योगाचार्यों एवं स्वयंसेवक कार्य में जुट गये हैं। गायत्री परिवार प्रमुख डॉ प्रणव पण्ड्याजी जी के मागदर्शन में शांतिकुंज के जोन प्रभारी कालीचरण शर्माजी भारत भर के विभिन्न जोनों में कार्यक्रम की रूपरेखा बनाने में जुटे हैं। श्री शर्माजी ने बताया कि विश्व भर में फैले अपने प्रज्ञा संस्थानों में निःशुल्क योग शिविर का आयोजन होगा।

गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व विकास के लिए उसका शारीरिक व मानसिक स्तर का स्वस्थ होना आवश्यक होता है। योग ही एक ऐसा माध्यम है, जिसका शरीर व मन दोनों पर समान रूप से असर होता है। योग विद्यार्थियों में एकाग्रता की क्षमता बढ़ाने में सहायक है, तो वहीं छोटे बच्चों में शारीरिक विकास में टॉनिक का काम करता है। योग का लोहा अब पूरा विश्व मानने लगा है। नई पीढ़ी के नवनिर्माण में योग की अहम भूमिका रही है। योग केवल शारीरिक व्यायाम तक सीमित नहीं है वरन् सभ्य समाज की संरचना में सहायक है। उन्होंने कहा कि युगऋषि पं० श्रीराम शर्मा आचार्य अपने १८ सत्सकंल्पों में से दूसरे सत्संकल्प में योग की परिभाषा दी है।

हरिद्वार स्थित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या ने बताया कि २१ जून को मनाये जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की तैयारियों में पूरा विवि परिवार जुटा है। विद्यार्थी अपने योगासानों को तैयार करने में तन, मन, धन से जुटे हैं। 


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....