देशभर के मेधावी बच्चे पहुंचे गायत्री तीर्थ

Published on 2015-05-24
img

भासंज्ञाप में राज्य स्तर पर सर्वोत्तम अंक प्राप्त इन विद्यार्थियों का विशेष प्रशिक्षण शिविर |
उप्र, छग, गुजरात, मप्र, पंजाब सहित २२ राज्यों के तीन सौ से अधिक विद्यार्थी शामिल
|


गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि आत्मिक व सामाजिक उत्थान की आधारशिला भारतीय संस्कृति है। इनकी मूलभूत जानकारियों को विद्यार्थियों में पिरोने से वह मानव से महामानव की ओर अग्रसर हो सकता है। कहा कि भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के माध्यम से विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ- साथ विद्या से नहलाकरा उन्हें प्रखर बनाया जाता है जिससे वे सफलता की सीढ़ी- दर सीढ़ी चढ़ते जाएँ।

डॉ. पण्ड्याजी भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा- २०१४ में प्रांतीय स्तर पर सर्वोत्तम अंक प्राप्त देश भर के विद्यार्थियों से भेंट- परामर्श के दौरान चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के माध्यम से बच्चों में सुसंस्कार देने का क्रम सन् १९९४ में मप्र से प्रारंभ हुआ है, जो आज देश के २२ राज्यों में पहुंच गया है। डॉ पण्ड्या ने इन मेधावी विद्यार्थियों को देवसंस्कृति विवि का भ्रमण करने की सलाह दी, ताकि वे देख व समझ सकें कि यह विवि अन्य शैक्षणिक संस्थानों से भिन्न है, जहाँ पारिवारिकता के साथ विद्यार्थी अपने पढ़ाई के साथ कई क्षेत्रों में सफलता के झंडे बुलंद किये हैं।

संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने ममत्व व अपनत्व का भाव उड़ेलते हुए कहा कि जब कभी किसी तरह की कोई परेशानी या समस्या जीवन में आएं, तो उसमें हमें अवश्य भागीदारी बनायें। हम लोग उसके समाधान के लिए रास्ता अवश्य निकालेंगे।

शिविर संयोजक श्री पीडी गुप्ता ने बताया कि नौनिहालों को भारतीय संस्कृति की ओर आकर्षित करने के उद्देश्य से देश भर में भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा चलाये जा रहे हैं। इस परीक्षा में प्रावीण्य सूची में स्थान प्राप्त छात्र- छात्राओं का चार दिवसीय व्यक्तित्व परिष्कार शिविर का शांतिकुंज में चल रहा है। कक्षा पांच से लेकर महाविद्यालय तक के तीन सौ से अधिक विद्यार्थी इस शिविर में शामिल हैं। ये वे मेधावी विद्यार्थी हैं, जिन्होंने अपनी- अपनी कक्षा में प्रांतीय स्तर पर प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया है और उप्र, गुजरात, छग, मप्र, बिहार, पंजाब, झारखंड सहित देश २२ राज्यों से आये हैं। भासंज्ञाप के अतुल द्विवेदी ने पावर पाइंट के माध्यम से विद्यार्थियों में व्यक्तित्व परिष्कार के विविध पहलुओं पर विस्तार से जानकारी दी।

शिविर संयोजक के अनुसार चार दिन तक चलने वाले इस शिविर में छात्र- छात्राओं को योग, आसन, प्राणायाम, हवन आदि का सैद्धांतिक एवं व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया जायेगा। तो वहीं प्रतिभागी बच्चों के शारीरिक व मानसिक विकास के विविध पहलुओं पर प्रायोगिक प्रशिक्षण कार्यक्रम निर्धारित है। शिविर के दौरान प्रतिभागियों को कैरियर बनाने के सूत्र, मानवी संस्कृति का आधार, गायत्री मंत्र का महत्त्व आदि विषयों पर विषय विशेषज्ञ मार्गदर्शन करेंगे। इस अवसर पर मोहनसिंह भदौरिया, पीसी माथुर, रामनरेश सिंह, राजेश मिश्रा,आदि मौजूद थे।      





img

सभ्य समाज के निर्माण में चिकित्सकों का योगदान

गाज़ियाबाद में हुए दो सेमीनार, गर्भवती बहनों में जागरूकता बढ़ाएँगे३५० चिकित्सकों ने लाभ लिया।अपने क्लीनिक के स्वागत कक्ष पर पोस्टर, बैनर, हैंगर टांगने तथा ब्रोशर व संबंधित पुस्तक, संबंधित टीवी प्रेज़ेण्टेशन आदि माध्यमों से गर्भवती बहनों को इस संदर्भ में.....

img

झुग्गी-झोपड़ियों के बच्चों को सँवारेगा शांतिकुंज

२७ नवंबर को हरकी पौड़ी के निकटवर्ती झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले बच्चों के लिए नई बाल संस्कार शाला का शुभारंभ हुआ।  शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र एवं हरिद्वार के एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके की धर्मपत्नी श्रीमती शीबा केके.....

img

अलवर में अनेक स्थानों पर बाल संस्कारशाला का सफल सञ्चालन

अलवर  | Rajasthanअलवर में चल रही है बाल संस्कार शाला के दृश्य |  महाराणा प्रताप बाल संस्कार शाला, प्रताप नगर,  पंडित दीनदयाल बाल संस्कार शाला,  आदर्श कॉलोनी, गोस्वामी तुलसीदास बाल संस्कार शाला, किशनगढ़ (अलवर),  संत कबीर बाल संस्कार शाला किशनगढ़(अलवर) | .....