Published on 2015-05-24

इस दल में वैज्ञानिक एवं चिकित्सक स्तर के कार्यकर्ता सम्मिलित है |
अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस में विभिन्न देशों के हाई कमीशन में रहेगी इन प्रतिनिधियों की भूमिका- डॉ०प्रणव पण्ड्याजी
|


२१ जून को संयुक्त राष्ट्र द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर भारत में लगभग १०० शहरों में एवं दो दर्जन से ज्यादा देशों में आयोजन सम्पन्न करने का दायित्व गायत्री परिवार को मिला है। उसके निमित्त ११ प्रतिनिधियों के दल को गायत्री जयंती के अवसर पर अमेरिका, कनाडा, इंग्लैंड, एवं ईस्ट अफ्रीका (तंजानिया, केन्या, युगाण्डा, जिम्बाबवे, मोम्बासा) भेजा जा रहा है। भारत सरकार ने इन देशों में योग दिवस में गायत्री परिवार की भागीदारी चाही थी। यह दल गायत्री जयंती में इन देशों में माँ गायत्री एवं गंगा की पवित्रता- निर्मलता की महत्ता बतायेंगे वहीं युवाओं को भारतीय संस्कृति से जोड़ने हेतु युवा चेतना शिविर- दीया के कार्यक्रम- यूथ केम्प आयोजित करेंगे, नेपाल में आई आपदा में गायत्री परिवार की भूमिका बताने- सहयोग के लिए संकल्प उभारने, निर्मल गंगा जन अभियान से जोड़ने का कार्य करेंगे- यह विचार अखिल विश्व गायत्री परिवार के प्रमुख एवं देसंविवि के कुलाधिपति डॉ०प्रणव पण्ड्या के थे जो उन्होंने 11 सदस्यीय दल को विदा देते समय बताया।

शांतिकुञ्ज के व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने बताया कि इस दल में डॉ०दत्ता, डॉ०ओम प्रकाश शर्मा एवं डॉ०गायत्री शर्मा, जैसे वैज्ञानिक, चिकित्सक स्तर के कार्यकर्ता हैं वहीं श्री प्रदीप दीक्षित- पर्यावरण वैज्ञानिक, श्री जितेन्द्र मिश्र- वेद विभाग से सम्बद्ध हैं। इस दल में श्री छविलाल जी, हरि प्रसाद जी, दिलथिर यादव, गणेश पॅवार, मनीष युग गायक एवं युग पुरोहित स्तर के हैं जो 24 से 108 कुण्डीय स्तर के गायत्री महायज्ञ के साथ विभिन्न संस्कार सम्पन्न करवायेंगे। उल्लेखनीय है शांतिकुञ्ज से चार सदस्यीय दल आस्ट्रेलिया- न्यूजीलैंड, फीजी में, दो सदस्यीय साउथ अफ्रीका में, 11 सदस्यीय दल अमेरिका एवं विभिन्न देशों के गायत्री चेतना केंद्रों में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पण्ड्या जी जून- जूलाई माह में अमेरिका के टेक्सास प्रांत में ह्युस्टन शहर में स्थापित विशाल गायत्री चेतना केंद्र का उद्घाटन करेंगे, अमेरिका कनाडा देशों के सम्मिलित न्यूजर्सी में आयोजित यूथ केम्प आपकी गरिमामय उपस्थिति रहेगी। यह दल वस्तुतः उनकी तैयारी के लिए प्रस्थान कर रहा है।

डॉ.गायत्री शर्मा एवं श्रीपर्णा दत्ता अमेरिका एवं इंग्लैंड में नारी जागरण एवं पुंसवन संस्कार की वैज्ञानिकता विषय पर सेमिनार करेंगे। विदाई के अवसर पर श्रद्धेया जीजी ने कहा- इन देशों में प्यार एवं अपनत्व की कमी हैं। प्रवासी भारतीय एवं मूल निवासियों को कहें भारत उनका अपना देश हैं। प्रत्येक के सुख- एवं दुख में उनके साथ हैं। केदारनाथ एवं नेपाल आपदा में भारत के श्रद्धालुओं एवं प्रवासी भारतीयों ने जो सहयोग प्रदान किया है उसके प्रति भी उन्होंने आभार व्यक्त किया। उनके सहयोग से ही त्वरित रेस्क्यू, रीलिफ एवं पुनर्वास का कार्य केदारनाथ में संभव हो पाया। अब नेपाल में भी यह कार्य किया जाना है। जो बड़ी चुनौती है।      


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....