Published on 2015-07-09

राष्ट्रीय राजधानी के प्रसिद्ध स्वामी नारायण अक्षरधाम मंदिर के प्रमुख स्वामी आत्म स्वरूप अपने सहयोगियों के साथ गुरुवार को गायत्री धाम शांतिकुंज पहुंचे। वे स्वामी नारायण परिवार को केंद्रित कर पूर्व राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम द्वारा रचित साहित्य गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या को भेंट करने आए थे। इन दिनों डॉ. पण्ड्या अमेरिका व कनाडा के युवाओं को मार्गदर्शन देने के लिए विदेश प्रवास पर हैं, इसलिए उनके प्रतिनिधि के रूप में शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्ता पं. शिवप्रसाद मिश्र ने स्वामी की भेंट को सप्रेम स्वीकार किया। वहीं शांतिकुंज की ओर से स्वामी को गायत्री मंत्र अंकित चादर व युगसाहित्य भेंट कर सम्मानित किया गया। 

स्वामी आत्म स्वरूप ने वर्ष 1926 से ही सतत प्रज्ज्वलित पावन अखंड दीपक के दर्शन कर मानव समुदाय के लिए सुख-शांति की कामना की तथा युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य की पावन समाधि के दर्शन किए।

वरिष्ठ कार्यकर्ता डॉ. बृजमोहन गौड़ ने स्वामी नारायण मंदिर के प्रमुख को गायत्री परिवार द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों से अवगत कराया तथा भारतीय संस्कृति के प्रचारक के रूप में देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के माध्यम युवाओं की फौज तैयार करने, पीड़ित मानवता की नि:स्वार्थ सेवा करने जैसे कई पहलुओं पर विस्तार से जानकारी दी।

इस अवसर पर आत्म स्वरूप के सहयोगी स्वामी भद्रेशदास एवं शांतिकुंज के कई परिजन उपस्थित थे। 

http://ianshindi.com/index.php?param=news/423359" title="" target="">इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।






Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....