Published on 2015-07-22
img

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के नये सत्र में भारत के २१ राज्य के साथ सात देशों के विद्यार्थियों का चयन हुआ है। ये विद्यार्थी एम.एससी, एमए, बीए.ससी, बीए, एनीमेशन सहित कुल ३९ पाठ्यक्रमों में शामिल होंगे। समाचार लिखे जाने तक नये सत्र हेतु चयनित विद्यार्थी की कुल संख्या ४४९ है।

देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या के अनुसार योग, मनोविज्ञान, पत्रकारिता, पर्यावरण विज्ञान, भारतीय इतिहास एवं संस्कृति, संस्कृत, हिन्दी सहित कुल ३९ विषयों में एम.एससी, एमए, बीएससी, बीए, डिप्लोमा, सर्टीफिकेट डिग्री के लिए विद्यार्थियों को चयन किया गया है। उन्होंने बताया कि इस सत्र से दो नये पाठ्यक्रम बीएससी- एनिमेशन तथा बीए- जर्नलिज्म भी प्रारंभ किये गए हैं। इनमें बड़ी संख्या में युवाओं ने आवेदन किये। उन्होंने बताया कि बिहार, उप्र, उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश, दिल्ली, गुजरात, केरल, कर्नाटक, सिक्किम, पश्चिम बंगाल सहित देश के २१ राज्य तथा रूस, यूक्रेन, जर्मनी, ब्राजील, लक्जमबर्ग, लिथुवानिया, नेपाल के विद्यार्थी नये सत्र के लिए चयनित हुए हैं। इन नवप्रवेशी छात्र- छात्राओं की प्रवेश प्रक्रिया जारी है। उन्होंने बताया कि प्रति सेमेस्टर के अनुसार अनुरक्षण राशि जमा की जायेगी।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....