img

हरिद्वार
    गायत्री विद्यापीठ शांतिकुंज के आशुतोष वैष्णव ने जेईई द्वारा निर्धारित कटआफ में शामिल हो विद्यापीठ को खुश होने का मौका दिया है।
शांतिकुंज के समर्पित कार्यकर्ता श्री राजकुमार वैष्णव के सुपुत्र चि0 आशुतोष इस परीक्षा पास होने वाले गायत्री विद्यापीठ के प्रथम छात्र हैं। उन्होंने 197 अंक लेकर इसे पास किया है।
     परम पूज्य पं० श्रीराम शर्मा आचार्य एवं माता भगवती देवी शर्मा जी को अपना आराध्या मानने वाले चि0 आशुतोष ने इस सफलता का श्रेय अपने मार्गदर्शक डॉ0प्रणव पण्ड्या एवं शैलजीजी के अपनत्व एवं प्रोत्साहन को दिया। गायत्री विद्यापीठ के प्राचार्य श्री कैलाश महाजन एवं फिजीक्स, केमेस्ट्री एवं गणित के साथ फिजिकल के शिक्षकों ने हर पग पर सहायता की। चि. आशुतोष इलेक्ट्रिकल इंजीनियर, शोध वैज्ञानिक के रूप में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं। पढ़ाई में हर क्षण सहयोग करने वाली एवं साथ रहने वाली उनकी माता श्रीमती शालिनी के अनुसार चि. आशुतोष के दो वर्षों की 16 घण्टे की पढ़ाई, गायत्री महामंत्र जप, प्राणायाम के साथ घर के हर सदस्य की प्रार्थना का परिणाम है। बचपन से ही उच्च शिक्षा प्राप्त कर देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में सेवा करने  के लक्ष्य को लेकर आगे बढ़ रहा है। उल्लेखनीय है कि दसवीं बोर्ड में भी वह सभी विषयों में 10 सीजीपीए अंक अर्जित कर चुका है। विभिन्न गतिविधियों में भागीदारी के साथ प्रत्येक कक्षा में वह मेधावी छात्र के रूप में जाना जाता है।


Write Your Comments Here:


img

समाज को सकारात्मकता एवं सृजनात्मक उत्कृष्टता की ओर प्रेरित करते कार्यक्रम

पीड़ित युवतियों के उत्थान के प्रयासरेस्क्यू फाउण्डेशन में जाकर मनाया जन्मदिवसबोरीवली, मुंबई। महाराष्ट्ररेस्क्यू फाउंडेशन देह व्यापार से छुड़ाई गई युवा लड़कियों के पुनर्वास के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था है, जो पूरे महाराष्ट्र में सक्रिय है। दिया, मुम्बई के.....

img

1126 जोड़ों का सामूहिक विवाह संस्कार

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश श्रम विभाग प्रयाजराज की ओर से दिनांक 13 मार्च को सामूहिक विवाह का विशाल समारोह आयोजित किया गया। माघ मेला, परेड ग्राउण्ड में आयोजित इस संस्कार समारोह में 1126 जोड़ों ने और 18 मुस्लिम जोड़ों ने गृहस्थ.....

img

छत्तीसगढ़ में नारी सशक्तीकरण के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण

‘विजन 2026’ के साथ हो रहे हैं कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के प्रान्तीय संगठन द्वारा ‘विजन-2026’ को लेकर 11 मार्च से 25 अप्रैल 2023 तक बहिनों का ऑनलाइन प्रशिक्षण शिविर चलाया जा रहा है। यह प्रशिक्षण परम वंदनीया माताजी की जन्मशताब्दी वर्ष.....