Published on 2015-07-22
img

रचनात्मक कार्यक्रमों में सतत सक्रिय रहने वाले शांतिकुंज के स्वयंसेवकों ने श्रमदान-सेवा सप्ताह के अंतर्गत प्रथम दिन खूब पसीना बहाया। पांच साल के बच्चों से लेकर ८४ सालके उत्साही लोगों के हाथ में झाडू, फावड़ा आदि सफाई के साधन देखकर लगा कि मानों ये अपना पूजाघर की साफ-सफाई कर रहे हों।

सफाई दल का नेतृत्व कर रहे व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा के अनुसार लोगों को प्रेरणा देने के उद्देश्य से स्वयंसेवकों की यह प्रशिक्षण शिविर आयोजित की गई है।हालांकि शांतिकुंज प्रत्येक माह के २४ तारीख को महाश्रमदान दिवस के रूप में मनाता है। इस दिन अंतेःवासी कार्यकर्त्ता भाई-

बहिनों के अलावा विभिन्न प्रशिक्षण सत्रों में आयेप्रशिक्षणार्थी वृहत् सफाई अभियान में भागीदारी करते हैं। इसी क्रम को और गति देने के उद्देश्य से पहली बार २१ से २९ जुलाई की नौ दिवसीय संजीवनी साधना सत्र को श्रमदान सेवा सप्ताह प्रधान के रूप में मनाया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि मंगलवार से शुरू हुए इस सत्र में जप, साधना, योग आदि नियमित दिनचर्या के अनुसार चलती रहेंगी। इसके बीच शांतिकुंज में निवास करने वालेप्रायः सभी लोग नित्य तीन से पांच घंटे तक का समय विशेष से रूप से सफाई अभियान में लगा रहे हैं। उन्होंने बताया कि सफाई अभियान के दौरान निकले कूड़े-कचरों केनिस्तारण के लिए दो ट्रेक्टर लगाये गये हैं, जो देवसंस्कृति विश्वविद्यालय-गायत्रीकुंज परिसर में कूड़ों को खाद के रूप में परिवर्तन के लिए लगाये गये प्लांट में इकट्ठा किया जा रहाहै। ज्ञातव्य है कि प्रताप, मार्कण्डेय, भारद्वाज, प्रखर, विवेकानंद, परशुराम, चरक नाम से बनी टीम में भाई शामल हैं तो वहीं महिला मंडल में बहिनें भी शामिल होकर श्रमदान-

सेवा कार्य में जुटी हैं। इंदौर से आये ८२ वर्षीय साहित्यकार तुलसीराम प्रजापति कहते हैं स्वच्छता की दिशा में यह अत्यन्त सुन्दर प्रयास है, अन्यों को इससे प्रेरणा लेकर अपनेघरों, आश्रमों व संस्थानों में लागू करना चाहिए।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....