देसंविवि में ५ वां अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव अक्टूबर से

Published on 2015-09-21
img

योग के क्षेत्र में एक अलग पहचान बना चुके देवभूमि हरिद्वार स्थित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में पांचवां अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव १ से ६ अक्टूबर तक होने जा रहा है। ‘योग, संस्कृति एवं अध्यात्म’ विषय पर आधारित इस महोत्सव में राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय स्तर के विद्वान-मनीषीगण, योग प्रशिक्षु एवं योगाचार्य सम्मिलित होंगे। इस महोत्सव में ज्ञानचर्चा तथा प्रेरक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित होंगे। विश्व भर के योग, संस्कृति एवं अध्यात्म से जुड़े छात्र अपने लघु शोध पत्र प्रस्तुत करेंगे। ज्ञात हो कि इससे पूर्व ‘योग, संस्कृति एवं अध्यात्म’ पर चार अंतरर्राष्ट्रीय योग महोत्सव सम्पन्न हो चुके हैं, जिससे कई देशों में योग के प्रचार-प्रसार में विशेष सफलता हासिल हुई है। उल्लेखनीय है कि विश्वशांति वायलिन भी पिछले वर्ष चतुर्थ अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव में शांति संदेश लेकर हरिद्वार पहुँची थी।

देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या ने बताया कि योग एक आध्यात्मिक प्रक्रिया है जिसमें शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने (योग) का काम होता है। देसंविवि के योग विभाग से मिली जानकारी के अनुसार योग महोत्सव के प्रथम सत्र का उद्घाटन केन्द्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाईक एवं देसंविवि के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या करेंगे। इस अवसर पर देश-विदेश के योगाचार्य एवं विद्वानों के अलावा कई प्रशासनिक अधिकारी भी भागीदारी करेंगे। महोत्सव के समन्वयक ने बताया कि इस महोत्सव में भारत के अलावा यूएसए, लाटविया, पूर्तगाल, नार्वे, स्पेन आदि देशों के प्रतिभागी भी प्रतिभाग करेंगे।


Write Your Comments Here:


img

झारखंड के हर जिले में रक्तदान शिविर आयोजित हुए

जगह- जगह एक ही दिन शिविर आयोजित हुएटाटानगर। झारखंडगायत्री परिवार युवा प्रकोष्ठ झारखंड की प्रांतीय इकाई ने ५ नवंबर को प्रत्येक जिले में रक्तदान शिविर आयोजित किये। पीड़ित मानवता की सेवा में किया गया यह प्रशंसनीय प्रयोग काफी सफल रहा।.....

img

बिहार बाढ़ राहत शिविर

बिहार बाढ़ राहत शिविर

जिला कटिहार गायत्री परिवार द्वारा ग्राम झौंआ में परिवार सर्वेक्षण कार्य के लिये तीन दल भेजे गये। दूसरे राहत शिविर में ग्राम मनिया में डा० आनन्दी केशव द्वारा अन्य दो डाक्टरों के सहयोग से चिकित्सा शिविर चलाया.....

img

बहनों ने सैनिकों को राखी बाँधी

बहनों ने सैनिकों को राखी बाँधी भारतीय सेना विश्व की श्रेष्ठतम सेनाओं में से एक है जिसमें सीमित संसाधनों के द्वारा भी विजय प्राप्त करने की क्षमता विधमान है।देश की सेवा करने वाले इन बहादुर सैनिको को त्यौहारों के दिन भी.....