img

विद्यारंभ संस्कार से होता है, विद्यार्थियों का बौद्धिक विकास

हरिद्वार,
    गायत्री विद्यापीठ में अध्ययनरत प्ले वे, नर्सरी, प्रथम व द्वितीय कक्षा के करीब दो सौ विद्यार्थियों का गुरुवार को सामूहिक विद्यारंभ संस्कार हुआ। विद्यापीठ के मुख्य सभागार में विद्यार्थियों के अभिभावकों की उपस्थिति में हुए इस कार्यक्रम का संचालन कक्षा 10 की छात्रा कु. पूर्णिमा व दिव्या ने किया, तो वहीं संस्कार-कर्मकांड के विभिन्न चरणों की टिप्पणी कक्षा 12 की छात्रा कु. प्रतिष्ठा ने की।
    इस अवसर पर गायत्री विद्यापीठ की प्रबंधन समिति के अध्यक्ष श्री गौरीशंकर शर्मा ने कहा कि ऋषि प्रणीत षोडस संस्कारों की परंपरा के कारण ही हमारा देश महामानवों, नर-रत्नों की खान रहा है। हमारे देश में गुरुकुल व आरण्यकों में ज्ञानार्जन की परंपरा रही है, जहाँ ज्ञानदीक्षा के साथ उनका विद्यारंभ होता था। आचार्यगण संस्कार के संकल्प के अनुरूप उनके सर्वांगीण विकास के लिए प्रयत्नशील रहते थे। उन्होंने कहा कि श्रीकृष्ण को ऋषि संदीपनी तथा श्रीराम को ऋषि विश्वामित्र व ऋषि वशिष्ठ के गुरुकुल में प्रवेश कराते समय उनका विद्यारंभ संस्कार कराया गया था, उसके पश्चात ही उनकी शिक्षा का क्रम प्रारंभ हुआ था। उन्होंने कहा कि विद्यारंभ संस्कार विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास में सहायक होता है। संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने सभी बच्चों को आशीष देते हुए मुँह मीठा कराया। वहीं प्रबंधन समिति के वरिष्ठ सदस्य श्री हरीश ठक्कर ने बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए अपनी शुभकामनाएँ दी।
    प्रधानाचार्य श्री कैलाश महाजन ने कहा कि विद्यारंभ संस्कार के समय गणेश व विद्या की देवी सरस्वती की पूजा कर उनसे विवेक व ज्ञान की अर्भ्यथना की जाती है। उनकी ही कृपा से विद्यार्थी का बौद्धिक विकास होता है। हरिपुर कलां, ज्वालापुर, कनखल, भोपतवाला, श्यामपुर, रायवाला आदि क्षेत्रों के विद्यापीठ में अध्ययनरत विद्यार्थियों एवं उनके अभिभावकों ने इसे एक रचनात्मक पहल बताया। इस अवसर पर देसंविवि के जनसंपर्क एवं सेवायोजन विभाग के समन्वयक श्री महेन्द्र शर्मा, डॉ. रमाकांत रमन, श्रीमती शेफाली पण्डया, डॉ देवाशीष भारद्वाज सहित विद्यापीठ के सभी शिक्षणगण उपस्थित थे।


Write Your Comments Here:


img

डॉ. चिन्मय पंड्या की नीदरलैंड यात्रा

देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पंड्या जी ने नीदलैंड्स की यात्रा के मध्य हेग में भारत के राजदूत श्री वेणु राजामोनी जी एवं उनकी सहधर्मिणी डॉ थापा जी से भेंट वार्ता की। इस क्रम में.....

img

डॉ. चिन्मय पंड्या की नीदरलैंड यात्रा

देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पंड्या जी ने नीदलैंड्स की यात्रा के मध्य हेग में भारत के राजदूत श्री वेणु राजामोनी जी एवं उनकी सहधर्मिणी डॉ थापा जी से भेंट वार्ता की। इस क्रम में.....

img

डॉ. चिन्मय पंड्या की इक्वाडोर के राजदूत श्री हेक्टर क्वेवा के साथ भेंट

स्मृति के झरोखों से देव संस्कृति विश्वविद्यालय में इक्वाडोर के राजदूत श्री हेक्टर क्वेवा पधारे एवं विश्व विद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पंड्या जी से मुलाकात की। उनकी यात्रा के दौरान इक्वाडोर से आए प्रतिभागियों के.....