Published on 2015-11-25

इण्टरनेशनल कॉन्फ्रेन्स ऑफ इंडोलॉजी का ४० सदस्यीय अति विशिष्ट राजकीय अतिथियों का एक दल राष्ट्रपति महामहिम प्रणव मुखर्जी के प्रस्ताव पर भारतीय संस्कृति की झलक देखने शांतिकुंज पहुंचा। इस दौरान उन्होंने भारतीय संस्कृति और जीवन विद्या के बारे में जाना। गौरतलब है कि यह दल अपने प्रवास के दौरान देवभूमि उत्तराखंड एवं भारतीय संस्कृति के उत्थान में जुटे संस्थानों के माध्यम से विश्व की प्राचीनतम संस्कृति को जानने आया है।

दल के शांतिकुंज पहुंचने पर गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने मंगल तिलक कर स्वागत किया। इस अवसर पर डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि भारतीय संस्कृति वास्तव में विश्वसंस्कृति है। पूर्व में भी भारत से निःसृत ज्ञान- विज्ञान को अपना कर मानवता ने उन्नति के नये शिखरों को छुआ था। जिसके प्रमाण आज भी मिलते हैं। आज जीवन जीने की इस विद्या को पुनः जन सामान्य तक पहुँचाने का अभिनव कार्य गायत्री परिवार एवं देवसंस्कृति विश्वविद्यालय मिलकर कर रहा है। देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के मॉडल से प्रभावित होकर आधुनिक गुरूकुल की इस परंपरा को इंडोलॉजी कॉन्फ्रेन्स के सदस्यों ने विश्व भर में अपनाये जाने की आवश्यकता पर बल दिया।

इस अवसर पर देवसंस्कृति विद्यालय के सांस्कृतिक प्रकोष्ठ ने अतिथियों को अनोखा भारत नामक सांस्कृतिक कार्यक्रम के माध्यम से देवभूमि उत्तराखंड एवं ऋषि संस्कृति की झलकियाँ प्रस्तुत कीं। इससे पूर्व डॉ प्रणव पण्ड्याजी राजभवन में राज्यपाल के निमंत्रण पर इन अतिथियों से मिले और उन्हें देवसंस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा किये जा रहे शोध तथा अनुसंधानों से परिचित कराया।

चालीस सदस्यीय इण्टरनेशनल कॉन्फ्रेन्स ऑफ इंडोलॉजी के इस दल में यूएसए के प्रो डेविड फ्रावले, पौलेण्ड के डेनुटा स्लाविया, स्पेन के जेवीर रुइज, ब्राजील के मि. आस्कर, चीली के शेरजीवो मिल्टन सहित जर्मनी, इटली, रूस, अर्जेण्टिना, तुर्की, कनाडा, चेक रिपब्लिक, रोमानिया, श्रीलंका, मारिशस, डेनमार्क, चीन, इंडोनेशिया, नार्वे आदि के उच्च स्तरीय सदस्यों के अलावा आईसीसीआर के अधिकारी शामिल हैं।




Write Your Comments Here:


img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....

img

शान्तिकुञ्ज में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया

प्रसिद्ध आध्यात्मिक संस्थान गायत्री तीर्थ शांतिकुंज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साह पूर्वक मनाया गया। शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुख एवं  देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति  श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पंड्या जी तथा संस्था की अधिष्ठात्री.....