Published on 2015-12-23

स्काउट गाइड के प्रादेशिक प्रशिक्षण केन्द्र गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में उत्तराखंड के १३ जिलों एवं शांतिकुंज जिला के सचिवों सहित जनपदीय पदाधिकारियों की पांच दिवसीय राज्य स्तरीय कार्यशाला सम्पन्न हुई। शिविर में स्काउट गाइड उत्तराखंड के विकास एवं प्रगति के विभिन्न चरणों पर चर्चा- परिचर्चा हुई। साथ ही स्काउट गाइड के नये पाठ्यक्रमों को विद्यार्थियों तक पहुंचाने के विभिन्न विकल्पों पर गहन विचार विमर्श हुआ। यहाँ बताते चलें कि गायत्री तीर्थ शांतिकुंज को प्रादेशिक प्रशिक्षण केन्द्र के अलावा एक अलग जिला की मान्यता प्राप्त है जो युग निर्माण स्काउट- गाइड शांतिकुंंज के नाम से रजिस्टर्ड है।

अपने संदेश में गायत्री परिवार प्रमुख डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि स्काउट गाइड के माध्यम से विद्यार्थियों में सेवा, अनुशासन एवं चरित्रनिष्ठ जैसे गुणों का समावेश किया जा सकता है। स्काउट गाइड से जुड़ने के बाद छात्र- छात्राओं में राष्ट्र के प्रति सद्भाव जुड़ता है, सद्गुणों का विकास होता है। देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ पण्ड्या ने कहा कि राष्ट्र का निर्माण करना हो, तो विद्यार्थी जीवन से ही बच्चों में राष्ट्रहित के बीज बोने चाहिए। स्काउट गाइड के माध्यम से यह सहज हो सकता है।

पांच दिन तक चले इस कार्यशाला में स्काऊट- गाइड के पाठ्यक्रम, विद्यार्थियों को स्काउट गाइड से जोड़ना तथा उन्हें प्रशिक्षण देना, राज्य तथा राष्ट्रपति पुरस्कार तक पहुंचाना जैसे अनेक विषयों पर गहन मंत्रणा हुई। साथ ही उत्तराखंड के मैदानी व पहाड़ी क्षेत्र के विद्यार्थियों के लिए प्रशिक्षण व्यवस्था पर सबकी राय ली गयी।

कार्यशाला संचालक शांतिकुंज जनपद के सीताराम सिन्हा व नरेन्द्र ठाकुर के अनुसार इस शिविर में उत्तराखण्ड के देहरादून, हरिद्वार, चमौली सहित सभी १३ जिलों के साथ शांतिकुंज जनपद के कुल ७० पदाधिकारियों ने भागीदारी की। शिविर के दौरान सभी पदाधिकारियों ने मानव जीवन को उत्कृष्टता की ओर ले जाने वाले ध्यान, योग, हवन आदि में रुचिपूर्वक भाग लिया। तो वहीं १९२६ से सतत प्रज्वलित सिद्ध अखंड दीप के दर्शन कर उत्तराखण्ड राज्य के स्काऊट- गाइड के विकास के लिए प्रार्थना की। इसके साथ ही संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी, युग निर्माण स्काउट- गाइड शांतिकुंज के अध्यक्ष व व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा, विष्णु मित्तल, केपी दूबे आदि ने मार्गदर्शन दिया, तो वहीं माध्यमिक शिक्षा निदेशक श्री ग्वाल, राज्य सचिव रवीन्द्र सिंह काला, राज्य संगठन आयुक्त वीरेन्द्र सिंह विष्ट, प्रशिक्षक नरेन्द्र सिंह, श्रीमती आशा सोलंकी आदि ने भी विविध विषयों पर जानकारियाँ दीं। समापन अवसर पर शांतिकुंज जनपद के आयुक्त गेंदालाल चौरसिया, मंगलसिंह गढ़वाल, रामावतार आदि उपस्थित थे।





Write Your Comments Here:


img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....

img

शान्तिकुञ्ज में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया

प्रसिद्ध आध्यात्मिक संस्थान गायत्री तीर्थ शांतिकुंज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साह पूर्वक मनाया गया। शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुख एवं  देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति  श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पंड्या जी तथा संस्था की अधिष्ठात्री.....