Published on 2015-12-28
img


देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि मानव का उत्कर्ष तभी संभव है जब सच्चे अर्थों में मानवता को अपनाएं, उस पर अमल करे। दानवी प्रवृत्ति के साथ मानव कभी प्रगति नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि आज समाज में दानवी प्रवृृत्ति का साम्राज्य चहुंओर फैला दिखाई दे रहा है है, जिसे निरस्त करने के लिए देश के भावी कर्णधारों को आगे बढ़ कर कार्य करना होगा।

वे देवसंस्कृति विवि में आयोजित दूरस्थ शिक्षा की एक दिवसीय विशेष कार्यशाला के प्रथम सत्र को संबोधित कर रहे थे। इस कार्यशाला में पंजाब, हरियाणा, छत्तीसगढ़, राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, दिल्ली व उत्तराखंड आदि राज्यों से आये २०० से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया। प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि अन्न से मनुष्य को पोषण मिलता है और भोजन से वह जीवित रह सकता है। परन्तु उसे मनुष्य बनने लायक आधार शिक्षा से ही प्राप्त होता है। डॉ चिन्मय पण्ड्या ने युगऋषि पं० श्रीराम शर्मा आचार्य जी की सादा जीवन उच्च विचार वाली उक्ति को जीवन में उतारने पर बल दिया। कुलपति श्री शरद पारधी ने अपने व्यक्तिगत जीवन के महत्वपूर्ण पड़ाव को याद करते हुए बताया कि युवावस्था ही अपने लक्ष्य को साकार करने का स्वर्णिम अवसर होता है। इस दौरान उन्होंने सामान्य स्थिति से ऊँचे उठने वाले अपने मित्रों का उदाहरण देते हुए कहा कि सकारात्मक एवं रचनात्मक विचारधारा से जुड़कर ही समाज में आगे बढ़ा जा सकता।

दूरस्थ शिक्षा विभाग के निदेशक श्री महेन्द्र शर्मा के बताया कि योग, ध्यान, प्राणायाम आदि का यौगिक क्रियाओं का नियमित अभ्यास करने से शरीर स्वस्थ रहता है, बुद्धि प्रखर होती है तो वहीं आध्यात्मिक विकास भी होता है। सायं प्रज्ञेश्वर महादेव प्रागंण में भव्य दीपमहायज्ञ में सभी ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। शिविर को गोपाल शर्मा, ज्वलंत भावसार आदि ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर विवि के अनेक शिक्षक- शिक्षिकाएं उपस्थित थे।



















Write Your Comments Here:


img

गृह मंत्री अमित शाह बोले- वर्तमान एजुकेशन सिस्टम हमें बौद्धिक विकास दे सकता है, पर आध्यात्मिक शांति नहीं दे सकता

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करते हैं जो हमारे देश की संस्कृति और सनातन धर्म को प्रोत्साहित करती हैं। पिछले 50 वर्षों की अवधि में, हम हम सुधारेंगे तो युग बदलेगा वाक्य.....

img

शान्तिकुञ्ज में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साहपूर्वक मनाया गया

प्रसिद्ध आध्यात्मिक संस्थान गायत्री तीर्थ शांतिकुंज, देव संस्कृति विश्वविद्यालय एवं गायत्री विद्यापीठ में 75वाँ स्वतंत्रता दिवस उत्साह पूर्वक मनाया गया। शांतिकुंज में गायत्री परिवार प्रमुख एवं  देव संस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति  श्रद्धेय डॉक्टर प्रणव पंड्या जी तथा संस्था की अधिष्ठात्री.....