Published on 2015-12-28
img


देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि मानव का उत्कर्ष तभी संभव है जब सच्चे अर्थों में मानवता को अपनाएं, उस पर अमल करे। दानवी प्रवृत्ति के साथ मानव कभी प्रगति नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि आज समाज में दानवी प्रवृृत्ति का साम्राज्य चहुंओर फैला दिखाई दे रहा है है, जिसे निरस्त करने के लिए देश के भावी कर्णधारों को आगे बढ़ कर कार्य करना होगा।

वे देवसंस्कृति विवि में आयोजित दूरस्थ शिक्षा की एक दिवसीय विशेष कार्यशाला के प्रथम सत्र को संबोधित कर रहे थे। इस कार्यशाला में पंजाब, हरियाणा, छत्तीसगढ़, राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, दिल्ली व उत्तराखंड आदि राज्यों से आये २०० से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया। प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि अन्न से मनुष्य को पोषण मिलता है और भोजन से वह जीवित रह सकता है। परन्तु उसे मनुष्य बनने लायक आधार शिक्षा से ही प्राप्त होता है। डॉ चिन्मय पण्ड्या ने युगऋषि पं० श्रीराम शर्मा आचार्य जी की सादा जीवन उच्च विचार वाली उक्ति को जीवन में उतारने पर बल दिया। कुलपति श्री शरद पारधी ने अपने व्यक्तिगत जीवन के महत्वपूर्ण पड़ाव को याद करते हुए बताया कि युवावस्था ही अपने लक्ष्य को साकार करने का स्वर्णिम अवसर होता है। इस दौरान उन्होंने सामान्य स्थिति से ऊँचे उठने वाले अपने मित्रों का उदाहरण देते हुए कहा कि सकारात्मक एवं रचनात्मक विचारधारा से जुड़कर ही समाज में आगे बढ़ा जा सकता।

दूरस्थ शिक्षा विभाग के निदेशक श्री महेन्द्र शर्मा के बताया कि योग, ध्यान, प्राणायाम आदि का यौगिक क्रियाओं का नियमित अभ्यास करने से शरीर स्वस्थ रहता है, बुद्धि प्रखर होती है तो वहीं आध्यात्मिक विकास भी होता है। सायं प्रज्ञेश्वर महादेव प्रागंण में भव्य दीपमहायज्ञ में सभी ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। शिविर को गोपाल शर्मा, ज्वलंत भावसार आदि ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर विवि के अनेक शिक्षक- शिक्षिकाएं उपस्थित थे।



















Write Your Comments Here:


img

समाज को सकारात्मकता एवं सृजनात्मक उत्कृष्टता की ओर प्रेरित करते कार्यक्रम

पीड़ित युवतियों के उत्थान के प्रयासरेस्क्यू फाउण्डेशन में जाकर मनाया जन्मदिवसबोरीवली, मुंबई। महाराष्ट्ररेस्क्यू फाउंडेशन देह व्यापार से छुड़ाई गई युवा लड़कियों के पुनर्वास के लिए काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था है, जो पूरे महाराष्ट्र में सक्रिय है। दिया, मुम्बई के.....

img

1126 जोड़ों का सामूहिक विवाह संस्कार

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश श्रम विभाग प्रयाजराज की ओर से दिनांक 13 मार्च को सामूहिक विवाह का विशाल समारोह आयोजित किया गया। माघ मेला, परेड ग्राउण्ड में आयोजित इस संस्कार समारोह में 1126 जोड़ों ने और 18 मुस्लिम जोड़ों ने गृहस्थ.....

img

छत्तीसगढ़ में नारी सशक्तीकरण के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण

‘विजन 2026’ के साथ हो रहे हैं कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के प्रान्तीय संगठन द्वारा ‘विजन-2026’ को लेकर 11 मार्च से 25 अप्रैल 2023 तक बहिनों का ऑनलाइन प्रशिक्षण शिविर चलाया जा रहा है। यह प्रशिक्षण परम वंदनीया माताजी की जन्मशताब्दी वर्ष.....