Published on 2016-01-08

देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति व अभिभावक डॉ प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि इंटर्नशिप अपने अंदर छिपी प्रतिभा को उभारने का नाम है। वे देसंविवि में आयोजित इंटर्नशिप प्रशिक्षण शिविर के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि जिस तरह स्वामी विवेकानंद, स्वामी रामतीर्थ, गायत्री परिवार के जनक पूज्य पं० श्रीराम शर्मा आचार्य आदि महापुरुषों ने निष्कपट भाव से समाज के लिए जिया और समाज को नई दिशा दी है, उसी तरह ऐसे कुछ कार्य करें कि जिससे देसंविवि परिवार के साथ पूरा समाज आप पर गर्व करे। गीता के विभिन्न श्लोकों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भगवान अपने सीसीटीवी से आपकी पारदर्शिता को देखेगा। इसके साथ ही डॉ पण्ड्याजी ने विद्यार्थी के दैनिक जीवन की मूलभूत जानकारियों पर प्रकाश डाला।

मुख्य अतिथि पुलिस महानिरीक्षक, गढ़वाल के श्री संजय गुंज्याल ने कहा कि इंटर्नशिप जीवन की लम्बी दूरी के लिए प्रथम पग की तरह मायने रखता है। उन्होंने कहा कि मानवीय मूल्यों के जो शिक्षण इस देवसंस्कृति विवि में मिला है, उसे सदैव याद रखेंगे तो आशा करता हूँ जीवन में आने वाली बाधाएँ दूर हो जायेंगी या कम हो जायेंगी। उन्होंने अपने व्यक्तिगत जीवन के अनुभवों को याद करते हुए कहा कि सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ेंगे, तो सफलताएँ ही मिलेंगी। पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि व्यक्तिगत भाव को छोड़कर सेवा भाव में जुटने से ही सुखद अनुभूति होगी।

कुलपति श्री शरद पारधी ने कहा कि मानवीय मूल्यों पर आधारित शिक्षण पद्धति के कारण ही यहाँ के विद्यार्थियों में एक अलग की चमक दिखाई देती है। प्र्रति कुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि देवसंस्कृति विवि की अनुठी इंटर्नशिप प्रक्रिया के तहत यहाँ अध्ययनरत विद्यार्थियों को अपना पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद एक निश्चित अवधि के लिए परिव्रज्या करनी होती है। इसके पश्चात ही उन्हें डिग्री दी जाती है। उन्होंने कहा कि युवावर्ग की समस्याओं को युवा ही बेहतर ढंग से समझ सकते हैं और समझदार, सुलझे हुए युवा ही उसका सर्वश्रेष्ठ समाधान सुझा सकते है

इंटर्नशिप में जाने वाले ये विद्यार्थी देवसंस्कृति विवि के एमए, एमएससी में अध्ययनरत व डिप्लोमा सहित कई पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद समाज सेवा के लिए एक माह का समयदान कर रहे हैं। इन युवाओं की टोली भारतवर्ष के २२ राज्यों के साथ नेपाल के विभिन्न शहरों में देवसंस्कृति की अलख जगायेंगी। इनके कार्यक्रमों का मुख्य उद्देश्य भागदौड़ भरी जिंदगी जी रहे युवाओं को कुछ समय निकालकर समाज व राष्ट्र के लिए अपना योगदान देने के लिए प्रेरित करना है। कुलसचिव श्री संदीप कुमार ने सभी का आभार प्रकट किया। उद्घाटन सत्र का संचालन गोपाल शर्मा ने किया। इस अवसर पर देवसंस्कृति विवि परिवार के अलावा अनेक पुलिस अधिकारी उपस्थित थे। 


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....