Published on 2016-01-11
img

युवाओं की दिशा एवं दशा पर बहुत कुछ निर्भर होता है। उसी से पता चलता है कि उसका समाज या राष्ट्र कैसा है। इसके मद्देनजर गायत्री परिवार ने राष्ट्रीय युवा दिवस को एक अलग ढंग से मनाता आ रहा है। इस वर्ष युवा संन्यासी स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर एक विशेष कार्यक्रम आयोजित होगा। इसके अंतर्गत पूरे देश के करोड़ों युवाओं को एक निर्धारित समय में राष्ट्रोत्थान के लिए संकल्पित कराया जायेगा।

गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने बताया कि देश में आज करीब ७० करोड़ से अधिक युवा हैं। इन युवा ऊर्जा एवं युवा शक्ति को एक दिशा देकर राष्ट्र के विकास में सुनियोजित किया जाना है। उन्होंने इन युवाओं को रचनात्मक दिशा देने के लिए अपने करोड़ों अनुयायियों को जुटने का आवाहन किया। यहाँ बताते चलें कि पूरे देश में गायत्री परिवार सदस्य एक साथ- एक समय में युवा संन्यासी स्वामी जी की जयंती के अवसर पर एक युवा क्रांति का बिगुल बजायेगा और वर्ष भर युवाओं को सकारात्मक दिशा देने जैसे कार्यक्रमों को प्राथमिकता के साथ पूरा किया जायेगा।

शांतिकुंज युवा प्रकोष्ठ के निर्देशन में हो रहे इस कार्यक्रमों की विस्तृत रूपरेखा देश भर में भेज दी गयी है जिसके तहत युवाओं को उनके जीवन की सफलता, जागरूक युवा की तरह कठोर श्रम करना, घर- पड़ोस के वातावरण को स्वच्छ व सुन्दर बनाये रखना आदि कार्यक्रमों में भागीदारी करने हेतु प्रेरित किये जायेंगे। ज्ञात हो कि आईआईटी कानपुर में होने वाले युवाओं के विशेष कार्यक्रम को गायत्री परिवार प्रमुख एवं देवसंस्कृति विवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी सम्बोधित करेंगे। 


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....