Published on 2016-01-20

जल, पर्यावरण, कृषि, बेरोजगारी जैसे सामयिक संकटों के समाधान के लिए युवाओं में जगाया उत्साह
भुसावल (जलगाँव)
महाराष्ट्र के युग निर्माणी युवाओं ने भुसावल में आयोजित प्रांतीय युवा चेतना शिविर में पुन: एक बार अपनी राष्ट्रभक्ति, शौर्य, साहस, ज्ञान विस्तार की आदर्श परम्पराओं को दोहराने का संकल्प लिया है। २ से ४ जनवरी की तारीखों में भुसावल में आयोजित प्रान्तीय युवा चेतना शिविर में उपस्थित हजारों युवाओं में इस आशय के संकल्प उभरे। युवा क्रांति वर्ष की पूर्व वेला में आयोजित इस शिविर में कृषि, बेरोजगारी, जल एवं पर्यावरण संरक्षण, आस्था संवर्धन जैसी अनेक ज्वलंत समस्याओं पर चर्चा हुई और संकल्प लिये गये। 
आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी प्रांतीय युवा चेतना शिविर, भुसावल के प्रमुख पथ प्रदर्शक थे। उनके अलावा शांतिकुंज से जोन समन्वयक श्री कालीचरण शर्मा, श्री सदानंद आंबेकर और श्री आशीष सिंह ने युवा क्रांति वर्ष की कार्ययोजनाओं पर विस्तार से चर्चा की। 

संत, सुधारक, शूरवीरों की पुण्य परम्परा दोहरायें महाराष्ट्र के युवा : आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी
आदरणीय डॉ. साहब ने युग निर्माण आन्दोलन में सहयोगी युवाओं को उनके सौभाग्य का बोध कराया। उन्होंने कहा-आप सौभाग्यशाली हैं जिन्होंने युग के प्रवाह को पलटने की चुनौती स्वीकार की है। गुरुदेव की प्रेरणा और ऊर्जा अनुदान आपको हर पल महानता के पथ पर अग्रसर करते रहेंगे। वे सदा युवा बनाये रखेंगे, कभी बूढ़ा नहीं होने देंगे। परम पूज्य गुरुदेव कहा करते थे, ''तुम मुझे क्षुद्रता दो, मैं तुम्हें महान बना दूँगा।"
आदरणीय डॉ. साहब ने जाग्रत् युवाशक्ति से संत, सुधारक, शहीदों की पुण्यभूमि महाराष्ट्र के गौरवशाली इतिहास को दोहराने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि शिवाजी, ज्योतिबा फुले, तिलक, गोखले जैसे वीर मराठा सपूतों ने कुरीतियों को पनपने नहीं दिया। तुम्हें पश्चिम के प्रवाह में बहने की अपेक्षा वेदमाता गायत्री की साधना से अपना विवेक जाग्रत् करना है और प्रवाह को चीरकर मानवता का आदर्श प्रस्तुत करना है। 
भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत के समय अर्जुन से कहा था-तुझे इस निर्णायक घड़ी में क्लीवता, नपुंसकता शोभा नहीं देती। वह गीता संदेश हमारे लिए आज भी प्रासंगिक है। आलस्य, ईष्र्या, हृदय की दुर्बलता हमें शोभा नहीं देती। व्यसन, फैशन, दहेज जैसी कुरीतियाँ हमें शोभा नहीं देतीं। 
दीपयज्ञ की मंगलवेला में आदरणीय डॉ. साहब ने युवा क्रांति वर्ष-२०१६ की योजनाएँ बतायीं और हर जिले में इन्हें पूरे जोश और उत्साह के साथ सम्पन्न कराने के संकल्प दिलाये। 

समस्याओं का सरोकार युवाओं से है, युवा ही उनके समाधान खोजें : आदरणीय श्री कालीचरण शर्मा जी
श्री कालीचरण शर्मा जी ने महाराष्ट्र की ज्वलंत समस्याओं पर प्रकाश डालते हुए उनके निवारण के लिए युवाशक्ति आगे आने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि व्यसन, फैशन, बेरोजगारी, दहेज, नारी उत्पीडऩ जैसी अनेक समस्याओं का सरोकार अधिकतर युवाओं से ही है, इसलिए उनके समाधान के लिए युवाओं को ही आगे आना चाहिए। साधना से युवाओं में सद्बुद्धि जागेगी, अपने सामाजिक कत्र्तव्यों का बोध होगा, तभी इन समस्याओं का समाधान हो सकेगा। 
युग निर्माण आन्दोलन को महाराष्ट्र के हर क्षेत्र में अभीष्ट गति देने के लिए मिशन के संगठन में युवा प्रतिनिधित्व बढऩा चाहिए। हर प्रज्ञा मण्डल, महिला मण्डल का एक अनुवर्ती युवा मण्डल बनना चाहिए। 

साधना, खेलकूद, सांस्कृतिक कार्यक्रमों से उभरा दिव्य प्रवाह
भुसावल का प्रांतीय युवा चेतना शिविर आस्था के दिव्य प्रवाह से लेकर सहकार, सद्भाव, सहयोग की सुंदर झाँकी प्रस्तुत करने वाला था। 
तीनों दिन की प्रात:कालीन ध्यान साधना भाव विभोर कर देने वाली थी। श्री कालीचरण शर्मा जी ने ध्यान के पश्चात्  क्रमश: ध्यान योग से व्यक्तित्व परिष्कार से लेकर राष्ट्र निर्माण के कार्य में कुशलता संवर्धन के संदर्भ में मार्मिक मार्गदर्शन दिया। 
खेल प्रतियोगिताएँ उत्साहवर्धक थीं। रस्साकसी, कबड्डी, लेझिम आदि देशी खेलों की प्रतियोगिताओं ने शिविरार्थियों को आनंदित कर दिया। दिया कार्यकत्र्ताओं ने बैण्ड वादन किया।सांस्कृतिक कार्यक्रमों का शुभारंभ आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी द्वारा दीप प्रज्वलन के साथ हुआ। स्थानीय कलाकारों ने अपनी मनोरम प्रस्तुतियों से महाराष्ट्र की उदात्त संस्कृति का स्मरण कराया। व्यसन, भ्रष्टाचार, नारी अत्याचार जैसी सामयिक समस्याओं के प्रति ध्यानाकर्षित करने वाली प्रस्तुतियाँ बड़ी मार्मिक थीं। एकल एवं समूह नृत्यों ने सृजनात्मक संदेश दिये। पंढरपुर की पालखी के साथ जब कार्यक्रम का समापन हो रहा था तो प्रत्येक प्रतिभागी भक्ति की शक्ति के वशीभूत होता दिखाई दिया। 

अनुभवी युग सृजेताओं द्वारा प्रशिक्षण-मार्गदर्शन
सक्रियता का आदर्श प्रस्तुत कर रहे संगठनों का प्रत्यक्ष मार्गदर्शन इस शिविर की विशेषता थी। 
आदर्श ग्राम
सेंधवा, बड़वानी (मध्य प्रदेश) से आये श्री मेवालाल पाटीदार ने आदर्श ग्राम योजना पर प्रकाश डाला। गो आधारित सामाजिक स्वास्थ्य, कृषि, स्वावलम्बन के संदर्भ में उनके द्वारा किये गये सफल प्रयोगों की जानकारी उन्होंने दी। 
स्वावलम्बन
छत्तीसगढ़ से आयी प्रफुल्ल पटेल, शिवचरण साहू, सूर्यकांत की टोली ने आर्थिक स्वावलम्बन के लिए वनौषधि आधारित फिनाइल, मंजन, साबुन, सर्फ, जैम, जेली, अचार, मुरब्बे आदि बनाने और उनका व्यापार करने के तरीके समझाये। चार घंटे चला यह स्वावलम्बन प्रशिक्षण शिविर इतना प्रभावशाली था कि लोगों ने अगले दिनों अलग से एक प्रांतीय स्तर का स्वावलम्बन प्रशिक्षण शिविर आयोजित करने का मन बनाया है। 
पर्यावरण संरक्षण
जल एवं पर्यावरण संरक्षण सूखा प्रभावित महाराष्ट्र की बड़ी आवश्यकता है। बुरहानपुर, मध्य प्रदेश में इस अभियान को सफलता पूर्वक चलाते हुए ३० से अधिक पहाडिय़ों को हराभरा करने वाले श्री मनोज तिवारी ने इस संदर्भ में मार्गदर्शन दिया। उन्होंने वृक्षों के प्रति लोगों की आत्मीयता, आस्था जगाने और वृक्षों के पोषण-संरक्षण की विधियाँ बतायीं।
बाल संस्कार, व्यसनमुक्ति, स्वच्छता अभियान
युवा प्रकोष्ठ शांतिकुंज के प्रतिनिधि श्री सदानंद आंबेकर एवं श्री आशीष सिंह ने  बाल संस्कार शाला प्रशिक्षण, गभोत्सव संस्कार, व्यसनमुक्ति आन्दोलन, निर्मल गंगा जनअभियान जैसे कई लोकप्रिय अभियानों को महाराष्ट्र में गति दिये जाने के संदर्भ में चर्चा की। 

तीन दिवसीय शिविर की विशिष्ट झलकियाँ 
  • प्रबुद्ध युवा बनेंगे 'प्रवासी युवा' - 
    महाराष्ट्र के १० युवाओं ने 'प्रवासी युवा' के रूप में समयदान करने का संकल्प लिया है। भुसावल के श्री रोजश चौरसिया (एम.बी.ए.) तथा जलगाँव के श्री सुनील राणे (बी.ई.) ने १०-१० वर्ष के और श्रीमती शिल्पा विजय गोयल ने ५ वर्ष समयदान का संकल्प लिया। 
  • मनूर, जलगाँव शाखा का असाधारण पुरुषार्थ जलगाँव जिले की मनूर शाखा के कार्यकत्र्ताओं ने समस्त कार्यक्रम की व्यवस्थाएँ सँभाली। उल्लेखनीय है कि शाखा कार्यवाहक श्री अनिरुद्ध पाटील मिशन के एक आदर्श कार्यकत्र्ता हैं। गाँव में अनेक कार्यक्रम उनके द्वारा चलाये जा रहे हैं। पूरा मनेर गाँव गायत्रीमय है। प्राय: सभी कार्यकत्र्ता अपने घरों पर ताला लगाकर कार्यक्रम की व्यवस्था में बड़े समर्पित भाव से सक्रिय रहे। 
  • शिविर का शुभारंभ श्री कालीचरण शर्मा जी द्वारा ध्वजारोहण से हुआ। 
  • श्री रामसेवक मेश्राम, नागपुर ने प्रांतीय और श्री चंद्रकांत सिरसाठ ने स्थानीय प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। 
  • समूह चर्चा के तीन से चार घंटे के लम्बे सत्र चले। आदरणीय डॉ. साहब पूरे समय परिजनों के बीच रहे। सभी जिलों से उनकी सक्रियता की रिपोर्ट ली, परामर्श एवं प्रोत्साहन दिया। 
  • व्यसनमुक्ति-कुरीति उन्मूलन के लिए सफल अभियान चलाने वाले छत्तीसगढ़ के प्राणवान कार्यकत्र्ता श्री प्राणेश विश्वास ने अपनी प्रदर्शनी लगायी। 
  • पैठण से आये कार्यकत्र्ता   श्री संतोष तोतला ने २४ नये स्टिकर तैयार किये हैं, जिनका विमोचन आदरणीय डॉ. साहब द्वारा किया गया। 
  • शिविर के आयोजन में महिला मंडल ने अविस्मरणीय योगदान दिया। शिविर के अंत में बहिनों ने ही आदरणीय डॉ. साहब को विदाई दी।  
  • स्थानीय विधायक श्री संजय सावकारे ने सपत्नीक दीपयज्ञ के मुख्य यजमान के रूप में भाग लिया। 
  • सम्मेलन में दक्षिण पश्चिम जोन समन्वयक शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री कैलाश महाजन व पियूष रस्तोगी भी उपस्थित थे। उन्होंने भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा, पत्रिकाओं की सदस्यता और साहित्य विस्तार जैसी कई योजनाओं को प्रोत्साहित करने के लिए कार्यकत्र्ताओं चर्चा की, योजना बनाई। 
भावी सक्रियता के संकल्प 
  • 138 एक दिवसीय
  • 21 तीन दिवसीय युवा चेतना शिविर
  • 160 लोगों ने समयदान के संकल्प लिये
  • 36 स्मृति उपवन
  • 69000 वृक्षारोपण
  • 930 नये युवा मंडल
  • 55 दिया कार्यशाला
  • 173 नदी, तालाब, कुओं की सफाई करेंगे। अन्यान्य विषयों संबंधी संकल्प भी बड़ी संख्या में उभरे। 
अगला सम्मेलन  
  •    औरंगाबाद में 2017 में अगले प्रांतीय सम्मेलन की जिम्मेदारी औरंगाबाद जिले के कार्यकत्र्ताओं को सौंपी गयी है। 


Write Your Comments Here:


img

संस्कारित युवा पीढ़ी के निर्माण से होगा राष्ट्र निर्माण: नीलिमा

अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में स्थानीय रामकृष्ण आश्रम परिसर में जिला युवा प्रकोष्ठ द्वारा 5 दिवसीय युवा व्यक्तित्व निर्माण शिविर का आयोजन किया गया है | जहाँ शिविरार्थी योग, आसान, ध्यान  समेत आध्यात्मिक और बौद्धिक ज्ञान प्राप्त कर.....

img

नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में गायत्री परिवार का प्रतिनिधित्व

Nepal 8/8/17:-अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में भारत देश की तरफ से अखिल विश्व गायत्री परिवार के (DIYA TEAM)  के सदस्य श्री पी डी सारस्वत व श्री अनुज कुमार वर्मा सम्मेलन में.....

img

नव सृजन युवा संकल्प समारोह, नागपुर

नव सृजन युवा संकल्प समारोह, नागपुर दिनांक 26, 27, 28 जनवरी 2018
यौवन जीवन का वसंत है तो युवा देश का गौरव है। दुनिया का इतिहास इसी यौवन की कथा-गाथा है।  कवि ने कितना सत्य कहा है - दुनिया का इतिहास.....