राष्ट्रनिर्माण के आन्दोलन में गायत्री परिवार अन्ना के साथ- डॉ. प्रणव पण्ड्या । देश की जनता ही देश की सच्ची मालिक है। राष्ट्र का नवनिर्माण उसे जगाने से ही संभव है। केवल सत्ता परिवर्तन से देश का भविष्य नहीं बदलेगा। देश का भाग्य बदलने के लिए सत्ता परिवर्तन नहीं, व्यवस्था परिवर्तन की आवश्यकता है।
 http://video.awgp.org/video.php?id=2846"> http://video.awgp.org/video.php?id=2846">Watch Video
    देश के लोकप्रिय जननायक माननीय अन्ना हजारे ने अपनी उत्तराखंड की जनजागरण यात्रा आरंभ करने से पूर्व देव संस्कृति विश्वविद्यालय के मृत्युंजय सभागार में उपस्थित लोकसेवी और विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए उपरोक्त विचार व्यक्त किये। इस अवसर पर उनके साथ गायत्री परिवार प्रमुख और देसंविवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्या, अन्ना के प्रमुख सहयोगी वरिष्ठ पत्रकार संतोष भारतीय, शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता डॉ. बृजमोहन गौड़, देसंविवि के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या और कुलसचिव संदीप कुमार मंचासीन थे।
    इस सभा के तुरंत बाद परम पूज्य पं.श्रीराम शर्मा आचार्य एवं परम वंदनीया माता भगवती देवी शर्मा जी के स्मारक ‘प्रखर प्रज्ञा-सजल श्रद्धा’ पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए अन्ना ने अपनी उत्तराखंड की जनतंत्र जागरण यात्रा का शुभारंभ किया।
    अन्ना ने मृत्युंजय सभागार में दिये अपने संक्षिप्त वक्तव्य में आचार्यश्री की पुस्तक ‘मालिकों को http://video.awgp.org/video.php?id=2846">जगाओ, प्रजातंत्र बचाओ’ का बार-बार उल्लेख करते हुए कहा कि यही उनका अभियान है। उन्होंने कहा कि हमारे देश के संविधान में दलगत चुनाव की व्यवस्था नहीं है। जनता को अपना प्रत्याशी स्वयं चुनने और विधान मंडलों में भेजने की व्यवस्था है, लेकिन धोखे से हमारे देश में दलगत प्रत्याशियों को चुनने की परंपरा चल पड़ी है। चुनाव की इस सामूहिक परंपरा ने भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया है। हमें इस व्यवस्था को बदलना है, अपना प्रतिनिधि खुद चुनकर उसे जनता के प्रति जवाबदेह बनाकर संसद तक भेजना है। ऐसी व्यवस्था होगी, तभी सत्ता और प्रशासन देश की भलाई के प्रति संवेदनशील होंगे।
    अन्ना ने अपने व्यवस्था परिवर्तन के सूत्रों के अंतर्गत आदर्श गाँवों के निर्माण पर विशेष बल दिया। उन्होंने कहा कि कई गाँवों में हुए ऐसे प्रयोगों के बड़े सुखद परिणाम आये हैं। जिन गाँवों में 30 एकड़ भूमि में एक बार की फसल की सिंचाई की व्यवस्था नहीं थी, वहाँ मात्र वर्षाजल को रोकने से आज 1500 एकड़ भूमि पर दो समय की फसल की सिंचाई की व्यवस्था है। 16 वर्ष पूर्व जिस गाँव में 40 शराब की भठ्ठियाँ थीं, वहाँ आज तंबाकू, खैनी तक का सेवन नहीं होता। युवाओं को विश्वास दिलाते हुए उन्होंने कहा कि यह कठिन है, लेकिन असंभव नहीं। देश ऐसे ही परिवर्तनों से बदलेगा।
    अन्ना ने जीवन का ध्येय आनंद की प्राप्ति बताते हुए शांतिकुंज वासियों की सेवाभावना की प्रशंसा की। उन्होंने आचार्यश्री की तपोभूमि शांतिकुंज से नयी ऊर्जा मिलने की बात कहते हुए यहाँ उभरा अपना संकल्प व्यक्त किया कि जब तक जनतंत्र नहीं आयेगा, तब तक मरना नहीं है।
    इससे पूर्व डॉ. प्रणव पण्ड्या जी ने अन्ना का भावभरा स्वागत किया। उन्होंने विश्वास दिलाया कि देश भ्रमण से अन्ना ने एक वर्ष के जिन एक लाख समयदानियों की चाह रखी है, उनमें से अधिकांश गायत्री परिवार के होंगे। उन्होंने गायत्री परिवार द्वारा 400 गाँवों को गोद लेकर उन्हें आदर्श बनाते हुए अपनी आदर्श ग्राम विकास योजना को प्राथमिकता से गति देने का विश्वास दिलाया।
    शांतिकुंज के एक दिन के प्रवास में डॉ. पण्ड्या जी, शैल जीजी और शांतिकुज के कई वरिष्ठ कार्यकर्त्ताओं से अन्ना की विस्तार से चर्चा हुई। इस क्रम में आचार्यश्री के राष्ट्र निर्माण के सूत्रों से उन्हें अवगत कराया गया।



Write Your Comments Here:


img

डॉ. चिन्मय पंड्या की नीदरलैंड यात्रा

देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पंड्या जी ने नीदलैंड्स की यात्रा के मध्य हेग में भारत के राजदूत श्री वेणु राजामोनी जी एवं उनकी सहधर्मिणी डॉ थापा जी से भेंट वार्ता की। इस क्रम में.....

img

डॉ. चिन्मय पंड्या की नीदरलैंड यात्रा

देव संस्कृति विश्वविद्यालय हरिद्वार के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पंड्या जी ने नीदलैंड्स की यात्रा के मध्य हेग में भारत के राजदूत श्री वेणु राजामोनी जी एवं उनकी सहधर्मिणी डॉ थापा जी से भेंट वार्ता की। इस क्रम में.....

img

डॉ. चिन्मय पंड्या की इक्वाडोर के राजदूत श्री हेक्टर क्वेवा के साथ भेंट

स्मृति के झरोखों से देव संस्कृति विश्वविद्यालय में इक्वाडोर के राजदूत श्री हेक्टर क्वेवा पधारे एवं विश्व विद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ चिन्मय पंड्या जी से मुलाकात की। उनकी यात्रा के दौरान इक्वाडोर से आए प्रतिभागियों के.....