Published on 2016-02-09
img

अखिल विश्व गायत्री परिवार के अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय वसंतोत्सव १० फरवरी से प्रारंभ होगा। प्रथम दिन अंतर महाविद्यालयीन स्तर पर निबंध, भाषण प्रतियोगिता एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। दूसरे दिन शोभायात्रा निकाली जायेगी, अंतर विद्यालयीन स्तर पर कवि सम्मेलन, सत्संग एवं गीत- संगीत का आयोजन होगा। तो वहीं वसंतोत्सव का मुख्य कार्यक्रम वसंत पंचमी के दिन (१२ फरवरी) वासंती उल्लास से भरपूर सांस्कृतिक कार्यक्रम, विशेष सत्संग होंगे, साथ ही विभिन्न सामूहिक संस्कार भी निःशुल्क सम्पन्न कराये जायेंगे। यह जानकारी शांतिकुंज के व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा ने दी। उन्होंने बताया कि १९२६ के वसन्त पर्व के दिन अखिल विश्व गायत्री परिवार के संस्थापक पं. श्रीराम शर्मा आचार्य जी को आत्मबोध प्राप्त हुआ था और इसके साथ ही गायत्री परिवार का जन्म हुआ। इसीलिए वसन्त पर्व इस परिवार के लिए बहुत मायने रखता है और इसे हर्ष उल्लास के साथ मनाता है। वर्ष भर के प्रमुख कार्यक्रमों का निर्धारण- घोषणा भी वसन्त पर्व को होता है।


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....