जबलपुर में हो रहा है बाल संस्कार शाला से युग निर्माण

Published on 2016-03-27
img

जबलपुर निवासी श्रीमती रुचिता राव का परिवार संलग्न है बाल संस्कार शाला संचालन में । 
श्रीमती रुचिता जी का परिवार  1983 से गायत्री परिवार से जुड़ा हुआ है, मेरे पापाजी ने 24 लाख गायत्री मंत्र का लेखन किया उन्ही  की  प्रेरणा से मेरी मम्मी और मैंने बाल संस्कार शाला अपने  ही अपार्टमेंट मे शुरू करने की योजना बनाई। 

सबसे पहले हमने अपने अपार्टमेंट के सभी घरों में संपर्क किए और गुरुजी की बाते और बाल संस्कार शाला की रूपरेखा बताई ।  फिर हमने बच्चों अभिभावकों  की मीटिंग का आयोजन किया एवं उन सभी अभिभावकों के सामने अपनी बातें रखी एवं उनकी बातें भी सुनी, इस मीटिंग में बच्चों के अभिभावकों ने अपने विचार रखते हुए वर्तमान समय में बच्चों में बढ़ रही समस्याओं के बारें में बताया । इन समस्याओं के समाधान के रूप में हमने बाल संस्कार शाला प्रारम्भ करने का अनुरोध अभिभावकों से किया जिसे उन्होंने सहर्ष स्वीकार कर लिया । 
आख़िर वो शुभ दिन आ ही गया, गुरुजी के आशीर्वाद से, 8 December 2014, हुमने शुरू कर दी.

इस संस्कार शाला मे सभी धर्म के बच्चे बड़ी उत्साह के साथ हर रविवार को आते हैं ।  मुस्लिम और ईसाई बच्चियाँ भी आती हैं । शाला का समय सुबह 11 बजे से दोफर 1 बजे तक हैं. बच्चों मे इतनी उत्सुकता  रहती है की सुबह 9 बजे से हमारे घर की कॉल बेल बजने लगती हैं।  यह बताते हुए मुझे हर्ष हो रहा हैं कि सभी धर्म के बच्चों के अभिभावकों  ने संस्कार शाला मे अपने बच्चों को खुशी खुशी भेजा, मुस्लिम और ईसाई घर की बच्ची सब से ज़्यादा उत्साहित हैं ।  

बाल संस्कार शाला में संचालित किये जाने वाले प्रमुख कार्य 

  • हर त्यौहार का महत्त्व बताते हुए उस पर्व को बच्चों के साथ मनाते है । 
  • बच्चों को खेल खेल में जीवन  विद्या के सूत्र समझाते  है । 
  • बच्चों में छोटी -छोटी पुस्तकों को पढ़ने की आदत डलवाने का प्रयास हम करते है । 
  • महापुरुषों की जयन्तियों पर उस महापुरुष के जीवन से सम्बंधित प्रसंगों को बताते हुए उनकी जयन्तियां मनाते है । 

img

सभ्य समाज के निर्माण में चिकित्सकों का योगदान

गाज़ियाबाद में हुए दो सेमीनार, गर्भवती बहनों में जागरूकता बढ़ाएँगे३५० चिकित्सकों ने लाभ लिया।अपने क्लीनिक के स्वागत कक्ष पर पोस्टर, बैनर, हैंगर टांगने तथा ब्रोशर व संबंधित पुस्तक, संबंधित टीवी प्रेज़ेण्टेशन आदि माध्यमों से गर्भवती बहनों को इस संदर्भ में.....

img

झुग्गी-झोपड़ियों के बच्चों को सँवारेगा शांतिकुंज

२७ नवंबर को हरकी पौड़ी के निकटवर्ती झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले बच्चों के लिए नई बाल संस्कार शाला का शुभारंभ हुआ।  शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र एवं हरिद्वार के एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके की धर्मपत्नी श्रीमती शीबा केके.....

img

अलवर में अनेक स्थानों पर बाल संस्कारशाला का सफल सञ्चालन

अलवर  | Rajasthanअलवर में चल रही है बाल संस्कार शाला के दृश्य |  महाराणा प्रताप बाल संस्कार शाला, प्रताप नगर,  पंडित दीनदयाल बाल संस्कार शाला,  आदर्श कॉलोनी, गोस्वामी तुलसीदास बाल संस्कार शाला, किशनगढ़ (अलवर),  संत कबीर बाल संस्कार शाला किशनगढ़(अलवर) | .....