Published on 2016-03-25
img

कर्मठ युग निर्माणी

भवानीपटना, कालाहाण्डी (ओडिशा) निवासी श्री प्रदीप कुमार महाराणा को न अपनी गरीबी की चिन्ता है और न ही अभाव- अवरोधों की। एक ही लक्ष्य है कि अपने कार्यक्षेत्र में १००० ऐसे युवाओं की युगवाहिनी तैयार की जाये, जो समाज को बदलने के लिए तैयार ही न हों, उसकी दिशा और दशा बदलने में सक्रिय भूमिका निभा चुके हों। लकवाग्रस्त माता और बहिन के विवाह की चिंता भी उनकी युग निर्माणी उमंग को कम नहीं कर पा रही।

पाँच वर्ष पूर्व ४८ कि.मी. दूर थुआमुल रामपुर ब्लॉक की दुर्गम पहाड़ियों में बसे वनवासी बहुल ग्राम हाडखुर्सी को उन्होंने अपना कार्यक्षेत्र चुना था। तब से वहाँ सक्रिय धार्मिक, सामाजिक संगठनों एवं गायत्री परिवार के परिजनों के साथ मिलकर उन्होंने अथक परिश्रम और स्नेहासक्त व्यवहार से वहाँ बदलाव की जो बुनियाद रखी, आज उसके सत्परिणाम स्पष्ट दिखाई देते हैं।

जीता विश्वास, पाया जन सहयोग

गाँव में रहने वाले रामानन्द सम्प्रदाय के सेवाभावी लोगों के सहयोग से सेवा कार्यों में जुट गये।
पाँचवी कक्षा तक के बच्चों को पढ़ाया। उन्हें अच्छे संस्कार दिये, सुविचार दिये।
घर- घर घूमे, जनसंपर्क किया, लोगों को सत्साहित्य दिया और उनसे नियमित रूप से गायत्री उपासना एवं स्वाध्याय करने का अनुरोध किया।
गाँववालों को सरकारी योजनाओं से परिचित कराया और उनका लाभ दिलाया।
गाँव में बिजली लाने में अहम भूमिका निभाई, अपने कंधों पर खंभे ढोये।

गाँव में चली परिवर्तन की बयार

गाँव की महिलाओं ने शराब बेचना बंद कर दिया।
रास्तों की टूट- फूट को आपसी सहयोग से ही ठीक किया जाने लगा। पक्के रास्ते भी बनने लगे हैं।
पहले लोग पेड़ काटकर खेती करते थे, अब वे पेड़ लगाने लगे हैं।
पंचायत और सरकार भी उनके कार्यों का समर्थन कर रही हैं और गाँव के विकास में सहयोग ले रही है।
सरकारी सहयोग से सौर ऊर्जा संयंत्र लग रहे हैं।
गाँव में सिंचाई की सुविधा बढ़ाने के लिए पास के झरने से एक नहर बनायी जा रही है।
जैविक कृषि को भरपूर प्रोत्साहन मिल रहा है।
गरीबों के इलाज की सुविधाएँ जुटाई जा रही हैं। कई लोगों के जटिल रोगों के ऑपरेशन सरकारी या स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से कराये गये।

गो- बलि प्रथा बंद हो गयी

इस क्षेत्र में मनाये जाने वाले बहलेन पर्व में गोबलि की परम्परा सदियों से चली आ रही है, लेकिन प्रदीप जी के निरंतर प्रयासों से इस बार गोबलि नहीं हुई। लोगों ने गाय का पूजन कर उन्हें छोड़ दिया। जनमानस के परिवर्तन की दिशा में यह एक बड़ी उपलब्धि है।

अगला लक्ष्य- स्वालम्बन

जिले में उच्च कोटि का कपास, दोने- पत्तल बनाने में उपयोग में आने वाला सियाली पत्ता, वनौषधियाँ, बाँस, आदि प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं। आवश्यकता लोगों को स्वावलम्बी बनाने की है। यदि वहाँ के लोग नशा छोड़कर स्वावलबी बन जायें तो क्षेत्र की काया ही बदल जायेगी।

एक करोड़ लोगों तक पहुँचायेंगे गुरुदेव के विचार

पिछले पाँच वर्षों में १६ लाख लोगों तक पहुँचे

पुणे, महाराष्ट्र के युवा कार्यकर्त्ता श्री राजेश टेकरीवाल ने अपनी प्रतिभा, समय और धन का सदुपयोग करते हुए एक करोड़ लोगों को गुरुदेव के विचारों से जोड़ने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने जीवन के हर क्षण में उत्साह बढ़ाने वाले, राह दिखाने वाले गुरुदेव के विचारों की एक छोटी- सी पुस्तिका छपवाई है और उसे स्कूल, कॉलेज, अस्पताल, सार्वजनिक स्थानों पर बाँट रहे हैं। इनके माध्यम से जनसंपर्क बढ़ रहा है और जन- जन को युगधर्म का बोध कराने का अवसर मिल रहा है।
 
श्री टेकरीवाल जी का विचार क्रांति अभियान पुणे और पटना (बिहार) में चल रहा है। पुणे और पटना दोनों ही स्थानों पर व्यवसाय है। औषधि व्यवसाय से जुड़े होने एवं लायन्स क्लब, अग्रवाल क्लब के सदस्य होने के कारण सेवा कार्यों के लिए जनसंपर्क में आसानी होती है और सहयोग भी खूब मिलता है।

विचार क्रांति का यह अभियान पिछले पाँच वर्षों से चल रहा है। स्कूल, कॉलेजों में पहुँचकर विद्यार्थियों में पुस्तिका बाँटना, प्रार्थना के समय एक- एक सूत्र को दोहरवाना, ८- १० मिनट का उद्बोधन देने का उनका क्रम रहा है। कई विद्यालयों में यह दैनिक क्रम बन गया है। इन विद्यालयों में उनकी टीम द्वारा व्यसनमुक्ति के भी भरपूर प्रयास हुए, जगह- जगह व्यसनमुक्ति रैलियाँ निकाली गयीं, बच्चों को संकल्प दिलाये गये।

श्री राजेश टेकरीवाल अब तक १६ लाख पुस्तिकाएँ अपनी ओर से निःशुल्क वितरित कर चुके हैं। जहाँ से भी माँग आती है, वे उदारता पूर्वक यह पुस्तिका उन्हें भेज देते हैं।

लायन्स क्लब और अग्रवाल क्लब के साथ मिलकर उन्होंने झुग्गी- झोंपड़ी वाली बस्तियों में गरीबों की आँखों की जाँच कराने और मोतियाबिंद के निःशुल्क ऑपरेशन कराने का कार्य भी हाथ में लिया है। इसमें उन्हें बी.जे. मेडिकल कॉलेज की टीम का सहयोग मिल रहा है।

यदि तुम्हें असाधारण अवसर मिल जाये तो तत्काल दुस्साध्य कार्य को कर डालो।



Write Your Comments Here:


img

माँ भगवती महिला मंडल जमालपुर के संयोजन में नवम नवचेतना ५ कुंडिया त्री महायज्ञ का आयोजन ंगायत्री प्रज्ञा पीठ शिशु मंदिर मुंगरौरा जमालपुर में किया गया. गाय

माँ भगवती महिला मंडल के संयोजन में नवचेतना विस्तार गायत्री महायज्ञ की श्रंखला का नवम 5 कुंडिया कुंडिया गायत्री महायज्ञ का आयोजन दिनांक 27 /08 /2023 को गायत्री प्रज्ञापीठ शिशु मंदिर मुंगरौरा स्कूल जमालपुर में सफलता पूर्वक.....

img

माँ भगवती महिला मंडल जमालपुर द्वारा नवचेतना विस्तार 5 कुंडिया गायत्री महायज्ञ का आयोजन रामपुर ठाकुरबाड़ी में किया गया

ज्ञ से उत्पन्न ऊर्जा के रचनात्मक नियोजन से समाज की सर्वांगीण प्रगति संभव-मनोज मिश्र/जमालपुर, मां भगवती महिला मंडल के संयोजन में नवचेतना विस्तार गामत्री महायज्ञ की श्रृंखला में आठवां पंचकुंडीय गायत्री महायज्ञ में रामपुर बस्ती के ठाकुड़वाड़ी शिवाला में.....

img

s

ssssssssssss.....