Published on 2016-07-07


हरिद्वार ७ जुलाई। 

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, पश्चिम बंगाल एवं उत्तराखण्ड की प्रतिभाशाली बहिनों की पाँच दिवसीय विशेष प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ गुरुवार को गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में हुआ। जिसमें महिलाओं की वर्तमान स्थिति से लेकर भविष्य की स्थापनाओं पर विचार मंथन किया जायेगा। शिविर के उद्घाटन सत्र की मुख्य अतिथि शेफाली पण्ड्याजी ने नारी जागरण को वर्तमान समय की सबसे बड़ी आवश्यकता के रूप में परिभाषित किया। 

उन्होंने कहा कि इन दिनों नारियों को अपने सम्मान के लिए, अपने आत्म विश्वास के साथ व्यक्तित्व विकास के आगे बढ़ना होगा, जिससे समाज की रुढ़िवादिता को मिटाकर अपने गौरव- गरिमा के साथ सुनहरा भविष्य का निर्माण कर सके। श्रीमती पण्ड्या ने कहा कि बहिनों को समाज  के विकास में हरसंभव सहयोग करने के लिए आगे आना है। इसके लिए वे अपने व्यक्तित्व के विकास के लिए सद्साहित्यों को नियमित रूप से अध्ययन करें तथा आत्म विश्वास जगाने के लिए सद्बुद्धि की अधिष्ठात्री मां गायत्री की नियमित उपासना करें। ये दो कार्य ऐसे हैं, जो उन्हें आगे बढ़ने मे के लिए संजीवनी की तरह सहयोग करेगा। 

‘नारी जागरण अभियान’ विषय पर बोलते हुए एक अन्य वक्ता श्रीमती अपर्णा पॅवार ने कहा कि सामाजिक परिवर्तन के लिए नारी की विशेष भूमिका होती है। घर परिवार से ऊपर उठकर समाज  के विकास में सहयोग करेंगी, तो समाज अवश्य सुधरेगा। उन्होंने कहा कि मनुष्य के भोगवादी विचारधारा को समाजोत्थान की ओर लगाने में भी नारी सक्षम है। कहा कि आवश्यकता तो है केवल संकल्प शक्ति की और उस दिशा में सार्थक पहल करने की। श्रीमती पॅवार ने समाज की घटित हो रही विभिन्न घटनाओं का जिक्र करते हुए बहिनों को दुष्प्रवृत्तियों, कुरीतियों आदि से मिटाने का सहयोग करने की अपील की। 

महिला मण्डल की प्रमुख यशोदा शर्मा के अनुसार पाँच दिन तक चलने वाले इस शिविर में २२ सत्र होंगे। बहिनों की इस शिविर को विषय विशेषज्ञ बहिनें ही संचालन करेंगी। श्यामा मित्तलजी, दुर्गा देवांगनजी आदि सहित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, पश्चिम बंगाल एवं उत्तराखण्ड के विभिन्न जिलों से आयीं बहिनों ने शिविर में अपनी भागीदारी दर्ज की। 


Write Your Comments Here:


img

प्राणियों, वनस्पतियों व पारिस्थितिक तंत्र के अधिकारों की रक्षा हेतु गायत्री परिवार से विनम्र आव्हान/अनुरोध

हम विश्वास दिलाते हैं की जीव, जगत, वनस्पति व पारिस्थितिकी तंत्र के व्यापक हित में उसके अधिकार को वापस दिलवाना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य और मिशन है| जलवायु संकट की वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए तथा जीव-जगत को.....

img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....