Published on 2016-08-07

देवभूमि उत्तराखण्ड के अब तक के इतिहास में यह पहला मौका है कि जब किसी संस्थान में तीन देशों के राजदूतों, राज्य के राज्यपाल ने कुलाधिपति की अध्यक्षता वाले किसी कार्यक्रम में शिरकत की है। यह कीर्तिमान देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में एशिया का प्रथम बाल्टिक सेंटर के उद्घाटन समारोह में गढ़ा गया। इस सेंटर के माध्यम से विश्व संस्कृति एवं शिक्षा को बाल्टिक देशों के सदस्य लात्विया, एस्टोनिया एवं लिथुआनिया देशों में विस्तार मिलेगा।

हरा समुद्र के निकट बसे लात्विया, एस्टोनिया एवं लिथुआनिया देशों में अन्य संस्कृतियों के प्रति जिज्ञासा होने के कारण एशिया के इस पहले केन्द्र को आशा भरी नजरों से देखा जा रहा है। ऐसे में देवनगरी से होने वाला शंखनाद देवसंस्कृति को जन जन तक पहुँचाने वाले सन्देश वाहक का संकेत माना जा रहा है।

लात्विया के राजदूत माननीय एवरिस ग्रोजा, एस्टोनिया के राजदूत माननीय रिहो क्रुव, लिथुआनिया के राजदूत माननीय लैमोनास तलत-केल्प्सा एवं लात्विया विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. इना द्रुविते एवं उत्तराखण्ड के राज्यपाल महामहिम डॉ. केके पॉल, देसंविवि के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने देवसंस्कृति विश्वविद्यालय परिसर में स्थापित बाल्टिक सेंटर का संयुक्त उद्घाटन किया। इसके उपरांत अतिथियों सहित कुलाधिपति महोदय ने विश्वविद्यालय परिसर में स्थापित मृत्युजंय सभागार में आयोजित उद्घाटन समारोह की गरिमा बढ़ाई।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

देसंविवि के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ करते हुए डॉ. पण्ड्या ने कहा - कर्मों के प्रति समर्पण श्रेष्ठतम साधना

हरिद्वार 26 जुलाई।देसंविवि के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या ने विश्वविद्यालय के नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के नये शैक्षिक सत्र का शुभारंभ के अवसर पर गीता का मर्म सिखाया। इसके साथ ही विद्यार्थियों के विधिवत् पाठ्यक्रम का पठन-पाठन का क्रम की शुरुआत.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....