Published on 2016-11-21

तीसरा अध्याय

सुख और शान्तिपूर्वक स्थित होकर आदर के साथ उस ज्ञान को प्राप्त करने के लिए बैठो, जो उच्च मन की उच्च कक्षा द्वारा तुम्हें प्राप्त होने को है।

पिछले पाठ में तुमने समझा था कि 'मैं' शरीर से परे कोई मानसिक चीज है, जिसमें विचार, भावना और वृत्तियाँ भरी हुई हैं। अब इससे आगे बढ़ना होगा और अनुभव करना होगा कि यह विचारणीय वस्तुएँ आत्मा से भिन्न हैं।

विचार करो कि द्वेष, क्रोध, ममता, ईर्ष्या, घृणा, उन्नति आदि की असंख्य भावनाएँ मस्तिष्क में आती रहती हैं। उनमें से हर एक को तुम अलग का सकते हो, जाँच कर सकते हो, विचार कर सकते हो, खण्डित कर सकते हो, उनके उदय, वेग और अन्त को भी जान सकते हो। कुछ दिन के अभ्यास से अपनी भावनाओं की परीक्षा करने का ऐसा अभ्यास प्राप्त कर लोगे मानो अपने किसी दूसरे मित्र की भावनाओं के उदय, वेग और अन्त का परीक्षण कर रहे हो। यह सब भावनाएँ तुम्हारे चिन्तन केन्द्र में मिलेंगी। उनके स्वरूप का अनुभव कर सकते हो और उन्हें टटोल तथा हिला-डुलाकर देख सकते हो। अनुभव करो कि यह भावनाएँ तुम नहीं हो। ये केवल ऐसी वस्तुएँ हैं, जिन्हें आप मन के थैले में लादे फिरते हो। अब उन्हें त्यागकर आत्म स्वरूप की कल्पना करो। ऐसी भावना सरलता पूर्वक कर सकोगे।

क्रमशः जारी
पं श्रीराम शर्मा आचार्य


Write Your Comments Here:


img

पंचवटी स्थापना के साथ वृक्ष गंगा अभियान की शुरुआत की

गुरु पूर्णिमा के अवसर पर गायत्री परिवार के युवा संगठन दिव्य भारत युवा संघ दीया द्वारा पौधरोपण अभियान का शुभारंभ किया गया। दीया के प्रवक्ता राजेंद्रसिंह सिसोदिया ने बताया कि शांतिकुंज हरिद्वार से संचालित वृक्ष गंगा अभियान के अंतर्गत हर.....

img

21 वर्षों से हो रहा है वृक्षारोपण

चौमहला, झालावाड़। राजस्थान 11 अगस्त को गायत्री शक्तिपीठ चौमहला द्वारा पारापीपली ग्राम पंचायत के गाँव भड़का में बृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम सम्पन्न.....