Published on 2016-11-21

तीसरा अध्याय

सुख और शान्तिपूर्वक स्थित होकर आदर के साथ उस ज्ञान को प्राप्त करने के लिए बैठो, जो उच्च मन की उच्च कक्षा द्वारा तुम्हें प्राप्त होने को है।

पिछले पाठ में तुमने समझा था कि 'मैं' शरीर से परे कोई मानसिक चीज है, जिसमें विचार, भावना और वृत्तियाँ भरी हुई हैं। अब इससे आगे बढ़ना होगा और अनुभव करना होगा कि यह विचारणीय वस्तुएँ आत्मा से भिन्न हैं।

विचार करो कि द्वेष, क्रोध, ममता, ईर्ष्या, घृणा, उन्नति आदि की असंख्य भावनाएँ मस्तिष्क में आती रहती हैं। उनमें से हर एक को तुम अलग का सकते हो, जाँच कर सकते हो, विचार कर सकते हो, खण्डित कर सकते हो, उनके उदय, वेग और अन्त को भी जान सकते हो। कुछ दिन के अभ्यास से अपनी भावनाओं की परीक्षा करने का ऐसा अभ्यास प्राप्त कर लोगे मानो अपने किसी दूसरे मित्र की भावनाओं के उदय, वेग और अन्त का परीक्षण कर रहे हो। यह सब भावनाएँ तुम्हारे चिन्तन केन्द्र में मिलेंगी। उनके स्वरूप का अनुभव कर सकते हो और उन्हें टटोल तथा हिला-डुलाकर देख सकते हो। अनुभव करो कि यह भावनाएँ तुम नहीं हो। ये केवल ऐसी वस्तुएँ हैं, जिन्हें आप मन के थैले में लादे फिरते हो। अब उन्हें त्यागकर आत्म स्वरूप की कल्पना करो। ऐसी भावना सरलता पूर्वक कर सकोगे।

क्रमशः जारी
पं श्रीराम शर्मा आचार्य


Write Your Comments Here:


img

शांतिकुंज में पर्यावरण दिवस पर हुए विविध कार्यक्रम

वृक्षारोपण वायु प्रदूषण से बचने का सर्वमान्य उपाय - श्रद्धेय डॉ. पण्ड्याजीसंस्था की अधिष्ठात्री ने नागकेशर के पौधा का किया पूजनसायंकालीन सभा में भारतीय संस्कृति व पर्यावरण संरक्षण के लिए हुए संकल्पितहरिद्वार 5 जून।अखिल विश्व गायत्री परिवार के मुख्यालय शांतिकुंज.....

img

चट्टानी जमीन पर रोपे ११०० पौधे

कठिन परिस्थितियाँ, पक्का इरादातरुपुत्र महायज्ञ संयोजक गायत्री परिवार के श्री मनोज तिवारी एवं श्री कीर्ति कुमार जैन ने बताया-चट्टानी जमीन पर वृक्षारोपण के लिए आठ दिन पहले से ही गड्ढे खोदे जा रहे थे।सिंचाई के लिए निकट ही ५०० बोरी.....