Published on 2016-12-05

सक्रियता युवा की असली पहचान : डॉ. पण्ड्या जी  

हरिद्वार ०५ दिसम्बर। 

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में नेपाल प्रांत से आये करीब ५०० युवाओं का पाँच दिवसीय भविष्य निर्माता प्रशिक्षण शिविर का आज समापन हो गया। इस शिविर में कुल २४ सत्र हुए, जिसमें युवाओं के विकास, पर्यावरण  संरक्षण, नेपाल की गंगा मानी जाने वाली बाग्मती नदी व सरोवरो की स्वच्छता, स्वावलंबन, कुरीति उन्मूलन एवं सत्प्रवृत्ति संवर्धन आदि पहलुओं पर चर्चा हुई। 

विदाई से पूर्व प्रतिभागियों के भेंट परामर्श के क्रम में गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि समय की माँग को देखते हुए सक्रिय हो जाना युवा की असली पहचान है। उन्होंने कहा कि अपना देश, समाज यदि उठता है, तो उसके मूल में ऐसी ही सृजनात्मक प्रवृत्तियों का योगदान होगा। युवकों में शौर्य, साहस और पराक्रम का जोश होता है। उन्होंने नेपाल की आध्यात्मिक उन्नति एवं विकास के लिए वीरगंज में अक्टूबर २०१७ में अश्वमेध महायज्ञ का आयोजन करने की घोषणा की। इस अवसर पर संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने युवाओं को रचनात्मक कार्यक्रमों में भागीदारी करने के लिए प्रेरित किया तथा उसमें आने वाली संभावित समस्याओं के निवारण हेतु सूत्र भी बताये। 

शिविर के समापन सत्र को संबोधित करते हुए वरिष्ठ कार्यकर्ता श्री केसरी कपिल ने कहा कि युवाओं में जबरदस्त शक्ति होती है। अगर वे संगठित व अनुशासित होकर सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ें तो उन्हें इच्छित सफलता अवश्य मिल सकती है। युवा क्रांति के अंतर्गत स्थान- स्थान पर युवा जोड़ो, युवाओं की शक्ति को जगाने एवं उसे सार्थक रूख देने जैसे कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं, इसमें सक्रियता के साथ भागीदारी करें। 

शिविर समन्वयक व युवा प्रकोष्ठ के समन्वयक श्री केदार प्रसाद दुबे ने बताया कि इस शिविर में नेपाल प्रांत के ५० जिलों के करीब ५०० युवा शामिल रहे। कुल २४ सत्र हुए, जिसमें प्रातःकालीन के सत्रों में आत्म निर्माण के पक्षों को उभारने के लिए विषय विशेषज्ञों ने मार्गदर्शन दिया, तो वहीं दिन के अन्य सत्रों में बौद्धिक विकास, रचनात्मक कार्यक्रमों में भागीदारी एवं समाज निर्माण की गतिविधियों के आयोजन, संचालन  के लिए निर्धारित था। वीरगंज में होने वाले अश्वमेध महायज्ञ के लिए ११ सदस्यीय टीम का गठन किया गया। इस अवसर पर शिविर समन्वयक ने प्रतिभागियों की विविध शंकाओं का समाधान भी किया। 

पाँच दिन तक चले इस शिविर में नेपाल के विकास में युवाओं के योगदान से संबंधित विभिन्न विषयों पर प्रज्ञा अभियान के संपादक श्री वीरेश्वर उपाध्याय, देसंविवि के कुलपति श्री शरद पारधी, प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या, डॉ. ओपी शर्मा, श्री आशीष सिंह आदि ने सम्बोधित किया।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

संस्कारित युवा पीढ़ी के निर्माण से होगा राष्ट्र निर्माण: नीलिमा

अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में स्थानीय रामकृष्ण आश्रम परिसर में जिला युवा प्रकोष्ठ द्वारा 5 दिवसीय युवा व्यक्तित्व निर्माण शिविर का आयोजन किया गया है | जहाँ शिविरार्थी योग, आसान, ध्यान  समेत आध्यात्मिक और बौद्धिक ज्ञान प्राप्त कर.....

img

नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में गायत्री परिवार का प्रतिनिधित्व

Nepal 8/8/17:-अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में भारत देश की तरफ से अखिल विश्व गायत्री परिवार के (DIYA TEAM)  के सदस्य श्री पी डी सारस्वत व श्री अनुज कुमार वर्मा सम्मेलन में.....