Published on 2017-01-04

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ५०० युवाओं का विशेष प्रशिक्षण सत्र का शुभारंभ हुआ। शिविर में उप्र के लखनऊ, कानपुर, एटा, बुलन्दशहर, फरूर्खाबाद, बरेली, बिजनौर सहित २४ जिलों के युवक- युवतियाँ शामिल हैं। 
शिविर के प्रथम दिन युवा क्रांति एक समग्र दृष्टि विषय पर संबोधित करते हुए अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि जोश, उत्साह, उमंग एवं कार्य करने की क्षमता से भरा होना ही युवा है। युवाओं को भाग्य पर नहीं, कर्म पर विश्वास होना चाहिए। कहा कि मनःस्थिति को बदलकर परिस्थिति को बदल देने की क्षमता रखने वाले युवाओं की फौज तैयार करने की जरूरत है, जो नवनिर्माण की दहलीज पर खड़ा समाज व देश को बुलंदियों तक पहुँचा सके। 


देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि भारत के अनेक युवाओं ने बाधाओं को चीरते हुए देश को स्वतंत्र कराने में अपना सब कुछ झोंक दिया था। उन युवाओं के शौर्य एवं नेतृत्व क्षमता के बल पर ही भारत आजाद हो पाया था। आज ऐसे ही युवाओं की जरूरत है जो भ्रष्टाचार, काला बाजारी, कुरीतियों के जकड़न में उलझे देश को उबार सके। गीता मर्मज्ञ डॉ. पण्ड्याजी ने श्रीमद्गीता के विभिन्न श्लोकों की व्याख्या के साथ आन्तरिक दुर्बलताओं से लड़ने के लिए प्रेरित किया। 

उन्होंने कहा कि अगले दिनों ४ वीडियो रथ निकाले जायेंगे, जिसके माध्यम से व्यसनमुक्त- संस्कारयुक्त स्वावलंबी गाँव के निर्माण, वर्ष २०१७ में एक करोड़ पौधे लगाने, १००८ स्मृति उपवन बनाने, निर्मल गंगा जनअभियान व जलस्रोतों की सफाई में भागीदारी तथा बालसंस्कार शालाएँ चलाने के लिए गाँव- गाँव, शहर- शहर जाकर लोगों को प्रेरित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि २५२५ किमी की दूरी तय करने वाली गंगा को स्वच्छ व निर्मल बनाने के लिए भी खासकर गंगा तट के युवाओं को भागीरथ पुरुषार्थ करना है। इस अभियान में देश के दस लाख से अधिक परिजन जुटे हैं। 

इससे पूर्व शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्ता श्री वीरेश्वर उपाध्याय ने कहा कि मनुष्य में साहस, संयम जैसे कई सद्गुण विद्यमान रहते है। उनको सहारे अपनी आंतरिक विभूतियों को विकसित किया जा सकता है। बाल्यकाल से यदि सही दिशा में मेहनत करना प्रारंभ दे, तो युवावस्था में बहुत कुछ प्राप्त कर सकता है। कार्यक्रम का संचालन युवा प्रकोष्ठ के समन्वयक श्री केदार प्रसाद दुबे ने किया। इस अवसर पर शांतिकुंज के अनेक वरिष्ठ कार्यकर्ता भी उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

संस्कारित युवा पीढ़ी के निर्माण से होगा राष्ट्र निर्माण: नीलिमा

अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में स्थानीय रामकृष्ण आश्रम परिसर में जिला युवा प्रकोष्ठ द्वारा 5 दिवसीय युवा व्यक्तित्व निर्माण शिविर का आयोजन किया गया है | जहाँ शिविरार्थी योग, आसान, ध्यान  समेत आध्यात्मिक और बौद्धिक ज्ञान प्राप्त कर.....

img

नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में गायत्री परिवार का प्रतिनिधित्व

Nepal 8/8/17:-अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य में नेपाल में आयोजित अंतरराष्ट्रीय विश्व युवा सम्मेलन में भारत देश की तरफ से अखिल विश्व गायत्री परिवार के (DIYA TEAM)  के सदस्य श्री पी डी सारस्वत व श्री अनुज कुमार वर्मा सम्मेलन में.....