Published on 2017-01-07

108 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ कमारेड्डी तेलंगाना मंगल कलश यात्रा :-

गायत्री ज्ञान मन्दिर बोइनपल्ली, सिकंदराबाद द्वारा 108 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ कमारेड्डी नगर 7, 8 जनवरी 2017 में संपन्न हुआ। जिसमें 5000 से अधिक तेलुगु लोगों ने भाग लिया। 1100 बहिनों नें मंगल शोभा यात्रा में कलश सिर पर धारण कर नगर भ्रमण किया। कलश यात्रा में प्रमुख कलश को श्रीमती बालाईया जी के सिर पर रखा। हनुमान मन्दिर से श्री गम्पा गोवर्धन MLA Govt. VIP ने हरी झंडी दिखा कर शोभा यात्रा का शुभरम्भ किया। तीन किलो मीटर की लम्बी यात्रा में रास्ते में छतों से पुष्प वर्षा की गयी, और उत्साह में लोगो ने पटाके चलाये, रामालय में कलश यात्रा का भव्य स्वागत-आरती कर समापन किया गया।

विराट दीप महायज्ञ :-
कलश यात्रा के समापन अवसर पर 5555 दीप सजाये गए थे, यहाँ के लोगों ने दीप यज्ञ की इतनी मनोराम छटा और संक्षिप्त सूत्र  रूप, सारगर्भित, भावपूर्ण कर्मकाण्ड कभी देखा-सुना न था। संपूर्ण दीप यज्ञ तेलुगु भाषा में प्रशान्ति शर्मा ने उपासना, साधना, आराधना को विस्तार से बताया, साथ ही अपने जन्मदिन, विवाहदिन दीप यज्ञ द्वारा करने का संकल्प दिलाया।

यज्ञशाला में कृषि मंत्री :-
तेलंगाना स्टेट के एग्रीकल्चर मिनिस्टर श्री पंचवारि श्रीनिवास रेड्डी जी सपत्नीक ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। यज्ञशाला के देवमंच पर गुरु सत्ता के चरण पादुकाओं पर पुष्पांजलि समर्पित की, गायत्री ज्ञान मन्दिर के व्यवस्थापक श्री रंगाराव जी एवं श्रीमती श्रीवाणी ने तिलक लगा कर स्वागत किया, शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि श्री उमेश कुमार शर्मा जी ने मन्त्र चादर उढ़ा कर युग ऋषि का तेलुगु साहित्य भेंट किया। यज्ञ की व्यवस्था, व् कर्मकाण्ड से प्रभावित होकर 2018 अश्वमेध मंगलगिरी में अपना सहयोग देने और भागीदारी करने का मन जताया।

देवपूजन, मन्त्र दीक्षा, यजन :-
कार्यक्रम प्रातः 08:00 बजे से गुरु वंदना के साथ प्रारम्भ हुआ। शान्तिकुञ्ज प्रतिनिधि श्रीमती प्रशान्ति शर्मा ने यज्ञ के महत्त्व और उसकी वैज्ञानिकता पर तेलुगु भाषा में प्रकाश डाला। कर्मकाण्ड श्री उमेश कुमार शर्मा ने कराया, तेलुगु टिप्पणियाँ प्रशान्ति ने की और गुरु व यज्ञोपवीत के तत्वदर्शन के साथ गुरुदेव की जीवन यात्रा को विस्तार से बताया। 3000 लोगों ने दीक्षा ली। तीन परियों में यज्ञ संपन्न हुआ। परिक्रमा कर रहे लोग आनन्द में डूब गये। साभी ने माँ भगवती भोजनालय में महाप्रसाद ग्रहण कर ब्रह्मभोज 100/- का साहित्य 50/-  में ख़रीदा। इस कार्यक्रम में कमारेड्डी नगर के पाँच प्रमुखों ने पूरी भूमिका निभाई श्री गुब्बाला बलैय्या, श्री याध नागेश्वर राव, चिला प्राभकर राव, श्री कैलाश श्रीनिवास, श्री नुकला उदय स्वामी, श्री सेनिसेट्टी गौरीशंकर जी सराहनीय, सफल, सहकार उक्त कार्य किया।

प्रयाज कार्यक्रम देवस्थापन :-
एक वर्ष से चल रहे प्रयाज कार्यक्रम के तहत पाँच जिलों में 30 स्थानों पर 24 कुण्डीय गायत्री यज्ञ, 75 स्थानों पर 5 कुण्डीय यज्ञ, 1100 घरों में देवस्थापना में सभी का पारिवारिक विवरण के साथ फार्म भराया गया एवं युग शक्ति गायत्री तेलुगु मासिक पत्रिका के सदस्य बनें, 2 लाख रुपये का तेलुगु साहित्य लोगों ने ख़रीदा। दो ज्ञान रथ तैयार किये गये। पाँच सक्रिय कार्यकर्त्ताओं की टीम बना कर कार्य किया जा रहा है।

संकल्प, घोषणायें :-
◆ बैकुण्ठ एकादशी पर प्रतिवर्ष 108 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ कमारेड्डी में करने की घोषणा श्री याध नागेश्वर राव जी ने वैश्य समाज की ओर से की।
◆ 108 लोग कमारेड्डी से मार्च माह में अपने गुरुद्वारा शान्तिकुञ्ज, हरिद्वार आने का कार्यक्रम बनाया।


Write Your Comments Here:


img

शराब से पीड़ित जनमानस की आवाज बनकर उभरा है गायत्री परिवार का प्रादेशिक युवा संगठन

शराबमुक्त स्वर्णिम मध्य प्रदेश

अखिल विश्व गायत्री परिवार की मध्य प्रदेश इकाई ने सितम्बर माह से अपने राज्य को शराबमुक्त करने के लिए एक संगठित, सुनियोजित अभियान चलाया है। इस महाभियान में केवल गायत्री परिवार ही नहीं, तमाम सामाजिक, स्वयंसेवी संगठनों.....

img

ग्राम तीर्थ जागरण यात्रा

चलो गाँव की  ओर ०२ से ०८ अक्टूबर २०१७हर शक्तिपीठ/प्रज्ञापीठ/मण्डल से जुडे कार्यकर्त्ता अपने- अपने कार्यक्षेत्र (मण्डल) के ग्रामों की यात्रा पर निकलेंसंस्कारयुक्त, व्यसनमुक्त, स्वच्छ, स्वस्थ, स्वावलम्बी, शिक्षित एवं सहयोग से से भरे- पूरे ग्राम बनाने के लिये अभियान चलायेंएक.....