Published on 2017-04-02

हरिद्वार २ अप्रैल।

गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि दुनिया में सद्ज्ञान से पवित्र कोई दूसरी चीज नहीं है। ज्ञान ही मनुष्य के स्तर का ऑकलन कराता है। ज्ञान के साथ उसका चिंतन, मनन व चरित्र मनुष्य को महापुरुष की श्रेणी में पहुँचा देता है। विश्व में जितने भी महापुरुष हुए हैं, उन सभी ने सामान्य जीवन जीते हुए सद्ज्ञान की विशेष साधनाएँ की हैं।

वे गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के मुख्य सत्संग हॉल में नवरात्र साधना के छठवें दिन प्रातःकालीन सभा में साधकों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर देश- विदेश से आये हजारों गायत्री साधक उपस्थित रहे। डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि श्रेष्ठ साहित्य का स्वाध्याय एक ऐसी प्रक्रिया है, जो मनुष्य को उनके कुविचारों, दुर्भावनाओं को गलाकर उसे बलिष्ठ व ज्ञानवान बनाता है। स्वामी विवेकानंद, विनोबा भावे, गायत्री परिवार के जनक पं. श्रीराम शर्मा आचार्य आदि महापुरुषों ने अपने जीवन में ज्ञान की विशेष आराधना की। उन्होंने इसी साधना के परिणामस्वरूप समाज को एक नई दिशा देने में सफलता पाई। डॉ. पण्ड्याजी ने रामायण, गीता, उपनिषद् आदि श्रेष्ठ साहित्य को जीवन का मार्ग प्रशस्त करने वाला बताया।

गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि चित्त व मन का कचरा स्वयं को परेशान करता है, इसलिए समय रहते जप, ध्यान व स्वाध्याय के माध्यम से इसकी सफाई कर लें। उन्होंने कहा कि नवरात्र साधना इसके लिए सबसे उपयुक्त समय है। डॉ. पण्ड्याजी ने पतंजलि योग में वर्णित तप, स्वाध्याय व ईश्वर प्रणिधान को नवरात्र साधना के प्रमुख अंग बताया।

डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि युवा क्रांति विस्तार वर्ष के क्रम में देश के चारों दिशाओं में अलग- अलग वीडियो रथ निकाले जायेंगे, जो अपने- अपने क्षेत्रों में युवाओं को रचनात्मकता की दिशा में प्रेरित करते हुए जनवरी- २०१८ में नागपुर पहुँचेंगे, जहाँ देशभर के लाखों युवा एक साथ विभिन्न रचनात्मक कार्यक्रमों को गति देने के लिए संकल्पित होंगे।

इससे पूर्व शांतिकुंज के संगीत टीम ने साधकों को "हम युग का निर्माण करेंगे.. " गीत से झंकृत कर दिया। महिला मंडल की ब्रह्मवादिनी द्वारा संचालित २७ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ में साधकों ने विश्व शांति एवं साधना की सफलता के लिए विशेष आहुतियां यज्ञ भागवान को समर्पित कीं।


Write Your Comments Here:


img

शराब से पीड़ित जनमानस की आवाज बनकर उभरा है गायत्री परिवार का प्रादेशिक युवा संगठन

शराबमुक्त स्वर्णिम मध्य प्रदेश

अखिल विश्व गायत्री परिवार की मध्य प्रदेश इकाई ने सितम्बर माह से अपने राज्य को शराबमुक्त करने के लिए एक संगठित, सुनियोजित अभियान चलाया है। इस महाभियान में केवल गायत्री परिवार ही नहीं, तमाम सामाजिक, स्वयंसेवी संगठनों.....

img

ग्राम तीर्थ जागरण यात्रा

चलो गाँव की  ओर ०२ से ०८ अक्टूबर २०१७हर शक्तिपीठ/प्रज्ञापीठ/मण्डल से जुडे कार्यकर्त्ता अपने- अपने कार्यक्षेत्र (मण्डल) के ग्रामों की यात्रा पर निकलेंसंस्कारयुक्त, व्यसनमुक्त, स्वच्छ, स्वस्थ, स्वावलम्बी, शिक्षित एवं सहयोग से से भरे- पूरे ग्राम बनाने के लिये अभियान चलायेंएक.....