Published on 2017-04-10

रांची : भारत दुनिया का खेवनहार है। यह सबसे जवां देश है भले ही दुनिया बूढ़ी हो रही हो। यह भगवान का चुना हुआ देश है। भारत का जीवन दर्शन है-वसुधैव कुटुंबकम्। भारत का कथन है, पूरी वसुधा ही हमारा परिवार है। यह बातें शांतिकुंज हरिद्वार से आए आद. केदार प्रसाद दुबे ने कही। वे धुर्वा में तीन दिवसीय युवा क्रांति सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि आत्म निर्माण से ही समाज व राष्ट्र निर्माण संभव होगा। युवा क्रांति सम्मेलन का उद्देश्य है, युवकों को अध्यात्म के प्रति आस्था पैदा करना। आस्था और निष्ठा का संचार करना। ईश्वर विश्वास से जोड़ना। यह योजना युग निर्माण की है, जो परमात्मा की दिव्य योजना है।

युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि पूरा विश्व नकारात्मक सोच से ग्रसित है। भारत ही एक ऐसा देश है, जिसमें 60 करोड़ युवा पीढ़ी रहती है। अगर एक करोड़ युवा भी जड़ गए तो कमाल हो जाएगा। विश्व का मानचित्र बदल जाएगा। इस अवसर पर सात सूत्रीय आंदोलन के बारे में भी विस्तार से बताया।

उन्होंने नौजवानों को संदेश दिया, उठो, जमाना बदल रहा है। नव सृजन का काम तेज होना है। उन्होंने संदेश दिया-हम आस्तिक बने। चरित्रवान बनें। आदर्श को अपनाएं। अपने आचरण को बदलें। समाज खुद बदल जाएगा। हमें एक नए भारत के निर्माण में अपनी भूमिका तय करनी है। यह गुरु का काम है। हमें करना होगा।




Write Your Comments Here:


img

गुण, कर्म, स्वभाव का परिष्कार करने वाली विद्या को प्रोत्साहन मिले। श्रद्धेय डॉ. प्रणव जी

देव संस्कृति विश्वविद्यालय का 35वाँ ज्ञानदीक्षा समारोह 21 जुलाई 2019 को कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी की अध्यक्षता में.....

img

शिक्षण संस्थानों में परिचय के नाम पर उत्पीड़न नहीं, विद्यारंभ संस्कार होना चाहिए

देव संस्कृति विश्वविद्यालय के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री का संदेश   यह ज्ञानदीक्षा समारोह जीवन के.....

img

तीर्थनगरी हरिद्वार में पाँच कार्यक्रम हुए शान्तिकुञ्ज के वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने दिये प्रभावशाली संदेश

हरिद्वार। उत्तराखंड तीर्थ नगरी हरिद्वार में श्री आर.डी. गौतम एवं उनके सहयोगियों के प्रयासों से पाँच स्थानों पर गुरुपूर्णिमा.....