शांतिकुंज में ओडिशा प्रांत के शिक्षकों का दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ

Published on 2017-05-11

सही अर्थों में जीवन जीना सीखें- सिखायें : डॉ. पण्ड्याजी

हरिद्वार ११ मई।
अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि सही अर्थों में जीवन जीना सीख जायें, तो परिवार, समाज के साथ राष्ट्र की प्रगति में योगदान दे सकते हैं। गायत्री परिवार देश भर में विभिन्न प्रशिक्षण शिविरों एवं आंदोलनों के माध्यम से विद्यार्थियों एवं युवाओं को प्रेरित करने का कार्य कर रहा है। शिक्षक इस दिशा की प्रथम कड़ी है।

वे शांतिकुंज में आयोजित भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के ओड़िशा प्रांत के जिला व तहसील समन्वयकों तथा शिक्षकों की दो दिवसीय शिक्षक गरिमा शिविर को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने विद्यालय में संस्कृति मण्डलों का गठन के माध्यम से युवाओं में संस्कृति, संस्कार एवं सत्प्रवृत्तियों के संवर्धन हेतु विविध सूत्रों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने गायत्री परिवार द्वारा चलाये जा रहे आंदोलनों- वृक्षारोपण, बालसंस्कार, कन्या कौशल शिविर आदि का उल्लेख करते हुए इसमें सक्रिय भागीदारी करने का आवाहन किया। उन्होंने कहा कि यह समय कुरीतियों को मिटाने का है, इसके लिए युवाओं को प्रेरित करने एवं उन्हें जाग्रत करने के लिए सभी को एकजुट होकर कार्य करना है। डॉ. पण्ड्याजी ने विभिन्न उदाहरणों के माध्यम से समाज में व्याप्त बुराइयों को जड़ से मिटाने हेतु आगे बढ़कर कार्य करने के लिए प्रेरित किया।
इससे पूर्व शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री केसरी कपिल जी ने कहा कि चरित्रवान शिक्षक ही राष्ट्र निर्माता छात्र का निर्माण करते हैं। गायत्री तीर्थ शांतिकुंज व देवसंस्कृति विश्वविद्यालय युवाओं को स्वावलंबी बनाने के साथ- साथ उन्हें गढ़ने एवं राष्ट्रीयता का भाव जगाने का महत्त्वपूर्ण कार्य कर रहा है।

भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा प्रकोष्ठ के प्रभारी श्री प्रदीप दीक्षितजी ने बताया कि अखिल विश्व गायत्री परिवार विद्यार्थियों एवं युवाओं को भारतीय संस्कृति की ओर आकर्षित करने के उद्देश्य से वर्ष १९९४ से देशभर में प्रत्येक वर्ष भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा आयोजित करता आ रहा है। इसके लिए प्रत्येक राज्य में अलग- अलग टीमें बनाई गयीं है। इनकी शृंखलाबद्ध प्रशिक्षण का क्रम प्रारंभ किया गया है। इस संगोष्ठी में ओड़िशा प्रांत के १६ जिलों के ४०० से अधिक शिक्षक व भासंज्ञाप समन्वयकगण सम्मिलित हैं। इस अवसर पर डॉ. पीडी गुप्ता, सीडी थपलियाल, मोहन सिंह भदौरिया, राजेश मिश्रा, पीसी वर्मा आदि भासंज्ञाप से जुड़े कार्यकर्त्तागण उपस्थित रहे।

img

शराब से पीड़ित जनमानस की आवाज बनकर उभरा है गायत्री परिवार का प्रादेशिक युवा संगठन

शराबमुक्त स्वर्णिम मध्य प्रदेश

अखिल विश्व गायत्री परिवार की मध्य प्रदेश इकाई ने सितम्बर माह से अपने राज्य को शराबमुक्त करने के लिए एक संगठित, सुनियोजित अभियान चलाया है। इस महाभियान में केवल गायत्री परिवार ही नहीं, तमाम सामाजिक, स्वयंसेवी संगठनों.....

img

ग्राम तीर्थ जागरण यात्रा

चलो गाँव की  ओर ०२ से ०८ अक्टूबर २०१७हर शक्तिपीठ/प्रज्ञापीठ/मण्डल से जुडे कार्यकर्त्ता अपने- अपने कार्यक्षेत्र (मण्डल) के ग्रामों की यात्रा पर निकलेंसंस्कारयुक्त, व्यसनमुक्त, स्वच्छ, स्वस्थ, स्वावलम्बी, शिक्षित एवं सहयोग से से भरे- पूरे ग्राम बनाने के लिये अभियान चलायेंएक.....