आंध्रप्रदेश में होने वाले अश्वमेध महायज्ञ के लिए शक्तिकलश का हुआ विशेष पूजन

Published on 2017-05-16

उत्तर से दक्षिण में पहुँचेगा ज्ञान विस्तार का रथ : डॉ पण्ड्याजी

हरिद्वार १५ मई।
देवसंस्कृति दिग्विजय अभियान के अंतर्गत शांतिकुंज द्वारा चलाये जा रहे अश्वमेध गायत्री महायज्ञ शृंखला की अगली कड़ी में आंध्रप्रदेश के गुंटुर जिले में ५ से ८ जनवरी २०१८ को होना निर्धारित है। इस निमित्त शक्ति कलश व आवश्यक मार्गदर्शन के लिए आँध्रप्रदेश व तेलंगाना राज्य से ४०० से अधिक कार्यकर्त्ता भाई- बहिन गायत्री तीर्थ पहुँचे हैं। गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी एवं श्रद्धेया शैलदीदी जी ने अश्वमेध महायज्ञ के शक्तिकलश में २४०० तीर्थों के जल- रज की प्रतिष्ठा कर विशेष पूजा अर्चना की। तत्पश्चात् उन्होंने दक्षिण राज्यों के समन्वयक श्री अश्विनी सुब्बाराव को सौंपा।

इस अवसर पर अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. पण्ड्याजी ने आंध्रप्रदेश व तेलंगाना राज्य के गाँव- गाँव, घर- घर गायत्री के सद्विचार को पहुंचाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि बदलते परिवेश में सद्विचार ही लोगों को सही राह दिखायेगा। सद्बुद्धि की अधिष्ठात्री माँ गायत्री की उपासना एवं सत्साहित्यों के नियमित अध्ययन के साथ सत्संग करते रहने पर जोर दिया। डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि अश्वमेध महायज्ञ तक आंध्रप्रदेश एवं तेलंगाना राज्य के १० लाख से अधिक नये परिवारों को युगऋषि के विचारों से जोड़ना है। संस्था की अधिष्ठात्री शैल दीदी जी ने कहा कि अश्वमेध महायज्ञ के माध्यम से दक्षिण के राज्यों में सद्विचारों को फैलाना है। शैलदीदी जी ने सत्प्रवृत्ति संवर्धन एवं कुरीति उन्मूलन की दिशा में सार्थक पहल करने पर जोर दिया।

पूजन के क्रम में दक्षिण भारत जोन के प्रभारी डॉ. बृजमोहन गौड़ ने कहा कि शक्तिकलश को घर- घर और गाँव- गाँव लेकर जाना है। डॉ. गौड़ ने बताया कि पूजन के अवसर पर विशाखापत्तनम, विजयनगरम, अमलापुरम, श्रीकाकुलम, अनन्तपुरम, विजयवाड़ा, गुण्टूर, मंगलगिरी, हिन्दूपुर, प्रकाशम्, नेल्लूर, कर्नूल, वारंगल, एलंदू, करीमनगर, हैदराबाद, सिकन्द्राबाद, यादगिरी, बेल्लारी (कर्नाटक) आदि जिलों आये परिजन उपस्थित रहे। संयोजक श्री सुब्बाराव ने बताया कि अश्वमेध महायज्ञ के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय मंत्रियों, आंध्रप्रदेश व तेलंगाना के मुख्यमंत्रियों, मंत्रियों सहित अनेक गणमान्य नागरिकों को आमंत्रण पत्र भेजा जा रहा है।

img

तीन दिवसीय राष्ट्रीय प्रतिभाशालियों की प्रशिक्षण शिविर का समापन

सद्गुणों की खेती करना सिखाती है संस्कृतिः डॉ पण्ड्याजीमेधावियों को किया गया सम्मानित, विद्यार्थियों ने कहा- अनमोल है यह सम्मानहरिद्वार, १८ मई।गायत्री परिवार के अभिभावक डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि भारतीय संस्कृति सद्गुणों की खेती करना सिखाती है। जिस.....

img

शांतिकुंज पहुँचे विहिप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष

हरिद्वार, १२ मई।विश्व हिन्दू परिषद के नवनिर्वाचित अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री विष्णु सदाशिव कोकजे गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी व शैलदीदीजी से भेंट परामर्श करने प्रातः ८.३० बजे गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पहुँचे। यहाँ करीब चालीस मिनट तक चले भेंट में.....

img

ग्रांड मास्टर ऑफ योगा प्रतियोगिता में छाये देसंविवि के विद्यार्थी

ग्रांड मास्टर ऑफ योगा प्रतियोगिता में छाये देसंविवि के विद्यार्थी१३ राज्यों के प्रतिभागियों को पछाड कर प्रथम व तृतीय रहेहरिद्वार, १० मई।प्रगति मैदान दिल्ली में आयोजित ग्रांड मास्टर ऑफ योगा प्रतियोगिता में देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने उत्कृष्ट प्र्रदर्शन करते.....


Write Your Comments Here: