Published on 2017-06-02

सच्चा सुख परमार्थ में : डॉ. पण्ड्याजी
विभिन्न रचनात्मक आंदोलनों के १३ मूर्धन्य हुए सम्मानित
विभिन्न धर्मों के प्रतिनिधियों ने कहा- चिंतन व चरित्र में हो सुधार

हरिद्वार २ जून।
गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय गंगा दशहरा एवं गायत्री जयंती पर्वोत्सव का आज शुभारंभ हो गया। इस अवसर पर पर्वोत्सव के साथ विश्व भर में समाज निर्माण का बिगुल बजाने वाले युगऋषि पं०श्रीराम शर्मा आचार्य जी की २७वीं पुण्यतिथि (गायत्री जयंती पर्व) मनाने आये हजारों सृजनसैनिकों की उपस्थिति में विभिन्न राज्यों में रचनात्मक आंदोलनों में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले १३ मनीषीगणों को सम्मानित किया गया।

अभिनंदन समारोह के अध्यक्ष एवं गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि मानवीय जीवन का सच्चा सुख परमार्थ में है। परमार्थ में स्वयं के साथ पूरा समाज का हित है। उपनिषदों के सूत्रों का उल्लेख करते हुए उन्होंने समाज में रचनात्मक कार्यक्रमों को गति देने का आवाहन किया। डॉ. पण्ड्याजी ने कहा कि गायत्री परिवार निःस्वार्थ भाव से बिना थके काम करने वाला उत्साही सृजन सैनिकों, युवाओं का परिवार है। गायत्री परिवार जरूरतमंदों की सेवा करने के लिए सदैव तत्पर रहता है। डॉ. पण्ड्याजी ने बाल संस्कारशाला, नारी जागरण, कुरीति उन्मूलन, निर्मल गंगा जन अभियान एवं जलस्रोतों की सफाई अभियान आदि रचनात्मक कार्यक्रमों को गति देने पर बल दिया। प्रज्ञा अभियान के संपादक श्री वीरेश्वर उपाध्याय ने कहा कि व्यक्ति का नहीं, वरन् उनके व्यक्तित्व एवं सज्जनता का सहयोग करते हुए उनके द्वारा किये जाने वाले सत्कार्य को अभिनंदन करना चाहिए।

इस अवसर पर बालोद (छत्तीसगढ़) के श्री केके विनोद को बाल संस्कारशाला संचालन एवं समाज को व्यसन मुक्त बनाने, जयपुर (राजस्थान) के श्री वीरेन्द्र अग्रवाल को सद्ज्ञान विस्तार, जोबट (राजस्थान) के डॉ. शिवनारायण् सक्सेना को पर्यावरण संतुलन व जलस्रोतों की स्वच्छता हेतु, बदायूं (उप्र) के श्री रामसिंह यादव को योग को सेना के तीनों अंगों के जवानों को उनके व्यवहारिक जीवन में उतरवाने, दुर्ग (छत्तीसगढ) के श्री प्रफुल्ल पटेल को ग्रामीणों को स्वावलंबी बनाने, महेसाणा (गुजरात) की श्रीमती रमिला बेन आर. पटेल को नारी जागरण के क्षेत्र में, बड़वानी (मप्र) के श्री डेमनिया भाई को लाखों आदिवासियों को व्यसन मुक्त करने, राजगढ (राजस्थान) के श्री संजय कश्यप को वृक्षारोपण के लिए, कर्णप्रयाग (उत्तराखण्ड) के श्री दिनेशचन्द्र मैखूरी को बलिप्रथा में बंद कराने, कानपुर (उप्र) के श्री रामचन्द्र गुप्ता एवं बागपत उप्र के श्री ओमपाल शर्मा जी को निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत गंगा के दोनों तटों के लोगों को जागरूक करने, खंडवा (मप्र) के श्री मदनलाल खण्डेलवाल को आदर्श गाँव स्थापित करने तथा राजसमंद (राजस्थान) के श्री मनोहर लाल माहेश्वरी को भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा में देश भर में सबसे ज्यादा विद्यार्थियों को जोड़ने हेतु विशेष रूप से प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिह्न, शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किये गये।

श्री कालीचरण शर्मार्, श्री संदीप कुमार, श्री सुधीर भारद्वाज, श्री अरविन्द कुमार एवं श्री शोकेन्द्राचार्य ने विभिन्न धर्म की मूलभूत बातों का उल्लेख करते हुए कहा कि मनुष्य को अपने चिंतन व चरित्र में सुधार करने से ही समाज का सच्चे अर्थों में विकास संभव है। तो वहीं श्री टीसी शर्मा ने आदर्श ग्रामों में गौ आधारित कृषि एवं कुटीर उद्योग पर विस्तार से जानकारी दी। प्रथम सत्र में व्यवस्थापक श्री गौरीशंकर शर्मा, श्री केसरी कपिल, डॉ. बृजमोहन गौड़, जोन समन्वयक सहित देश भर से आये सृजनसैनिकगण उपस्थित रहे।


Write Your Comments Here:


img

शराब से पीड़ित जनमानस की आवाज बनकर उभरा है गायत्री परिवार का प्रादेशिक युवा संगठन

शराबमुक्त स्वर्णिम मध्य प्रदेश

अखिल विश्व गायत्री परिवार की मध्य प्रदेश इकाई ने सितम्बर माह से अपने राज्य को शराबमुक्त करने के लिए एक संगठित, सुनियोजित अभियान चलाया है। इस महाभियान में केवल गायत्री परिवार ही नहीं, तमाम सामाजिक, स्वयंसेवी संगठनों.....

img

ग्राम तीर्थ जागरण यात्रा

चलो गाँव की  ओर ०२ से ०८ अक्टूबर २०१७हर शक्तिपीठ/प्रज्ञापीठ/मण्डल से जुडे कार्यकर्त्ता अपने- अपने कार्यक्षेत्र (मण्डल) के ग्रामों की यात्रा पर निकलेंसंस्कारयुक्त, व्यसनमुक्त, स्वच्छ, स्वस्थ, स्वावलम्बी, शिक्षित एवं सहयोग से से भरे- पूरे ग्राम बनाने के लिये अभियान चलायेंएक.....