विद्यालयों का वातावरण बदलने का प्रभावशाली अभियान

Published on 2017-07-12
img

हरिद्वार जनपद के विद्यालयों के वातावरण निर्माण में विनाइल- सनबोर्ड पर लगाये गये टिकाऊ सद्वाक्यों की विशेष भूमिका है। परम पूज्य गुरुदेव सहित विभिन्न महापुरुषों के ये सद्वाक्य शिक्षक, पालक, विद्यार्थी सभी को बहुत आकर्षित कर रहे हैं। लगभग चार लाख रुपये के सद्वाक्य भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा कोश में से जनपद के विद्यालयों में लगवाये गये हैं।

हरिद्वार, उत्तरखंड
हरिद्वार जनपद की भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा इकाई ने पिछले तीन वर्षों से विद्यालयों में वातावरण निर्माण का जो प्रयास किया है उसके अत्यंत सार्थक और सुंदर परिणाम स्पष्ट दिखाई दे रहे हैं। इन नैष्ठिक परिणामों का ही प्रयास है कि सन् २०१४ से पूर्व इस परीक्षा में मात्र ८० विद्यालयों के १७ हजार विद्यार्थी शामिल होते थे, आज ३११ विद्यालयों के ४० हजार से अधिक बच्चे परीक्षा में शामिल हो रहे हैं। केवल परीक्षा ही नहीं हो रही, वहाँ के विद्यार्थियों, शिक्षकों के विचार और संस्कार बदलने के लिए बहुआयामी सक्रियता अपनायी जा रही है। जिला संयोजक श्री आर.डी. गौतम के अनुसार अब तक मिली सफलता सार- संक्षेप में इस प्रकार है :-

• ५० विद्यालयों में २'x३' के विनाइल एवं सनबोर्ड पर टिकाऊ सत्संकल्प लगाये गये। इतने ही विद्यालयों में ८ सूत्रीय छात्र निर्माण के सद्वाक्य लगाये गये।
• सभी ३११ विद्यालयों में १'x३' के (४ से लेकर ६४ तक की संख्या में) सद्वाक्य भी लगाये गये हैं। अब इन सभी विद्यालयों में गायत्री मंत्र (भावार्थ सहित) लगवाया जा रहा है।
• ७७ विद्यालयों में व्यक्तित्व परिष्कार संबंधी विविध विषयों पर उद्बोधन हुए।
• ९ विद्याययों में पुस्तक मेले लगाये गये।
• ४ विद्यालयों में व्यसनमुक्ति प्रदर्शनियाँ लगायी गयीं।
• जनपद में ४ बाल संस्कार शालाएँ नियमित रूप से चलायी जा रही हैं।
• विद्यालयों में योग की कक्षाएँ आयोजित हुर्इं।
• २ विद्यालयों में पाँच कुण्डीय गायत्री यज्ञ के साथ ज्ञानदीक्षा कार्यक्रम और एक में विदाई समारोह का आयोजन हुआ।
• वर्ष २०१६ में प्रांतीय पुरस्कार वितरण समारोह शांतिकुंज की बजाय दिल्ली पब्लिक स्कूल में आयोजित किया गया।
• बीएसएम इं. कॉलेज, रुड़की, राजकीय इं. कॉलेज, लालढांग, शिक्षाराज इं. कॉलेज, सुलतानपुर तथा शांतिकुंज में शिक्षक गरिमा कार्यशालाएँ सम्पन्न हुईं, जिनमें ४०० से अधिक शिक्षक- प्रधानाचार्यों ने भाग लिया।

img

सभ्य समाज के निर्माण में चिकित्सकों का योगदान

गाज़ियाबाद में हुए दो सेमीनार, गर्भवती बहनों में जागरूकता बढ़ाएँगे३५० चिकित्सकों ने लाभ लिया।अपने क्लीनिक के स्वागत कक्ष पर पोस्टर, बैनर, हैंगर टांगने तथा ब्रोशर व संबंधित पुस्तक, संबंधित टीवी प्रेज़ेण्टेशन आदि माध्यमों से गर्भवती बहनों को इस संदर्भ में.....

img

झुग्गी-झोपड़ियों के बच्चों को सँवारेगा शांतिकुंज

२७ नवंबर को हरकी पौड़ी के निकटवर्ती झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले बच्चों के लिए नई बाल संस्कार शाला का शुभारंभ हुआ।  शांतिकुंज व्यवस्थापक श्री शिवप्रसाद मिश्र एवं हरिद्वार के एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके की धर्मपत्नी श्रीमती शीबा केके.....

img

अलवर में अनेक स्थानों पर बाल संस्कारशाला का सफल सञ्चालन

अलवर  | Rajasthanअलवर में चल रही है बाल संस्कार शाला के दृश्य |  महाराणा प्रताप बाल संस्कार शाला, प्रताप नगर,  पंडित दीनदयाल बाल संस्कार शाला,  आदर्श कॉलोनी, गोस्वामी तुलसीदास बाल संस्कार शाला, किशनगढ़ (अलवर),  संत कबीर बाल संस्कार शाला किशनगढ़(अलवर) | .....