गायत्री तीर्थ में उल्लास के साथ मनाया गया जन्माष्टमी का पर्व

Published on 2017-08-16

हरिद्वार १६ अगस्त। 

अखिल विश्व गायत्री परिवार के केन्द्र शान्तिकुञ्ज में संस्कृति के संरक्षक भगवान् श्रीकृष्ण के जन्म के अवसर पर विधिविधान के साथ उनके पूजन- अर्चन कर हर्षोल्लास के साथ उत्सव मनाया गया। उत्सव में सम्मिलित सभी परिजन 'जब जन्में श्रीकृष्ण भगवान...', 'जो तुम मिटाना चाहो जीवन की तृष्णा, तो मिलकर गाओ कृष्णा- कृष्णा...' आदि गीतों के साथ झूमते रहे। 

अपने संदेश में अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि भगवान् श्रीकृष्ण एक ऐसे महापुरुष का नाम है, जो विपरीतताओं की घनी अँधेरी रात में भी शीतल चाँदनी फैलाकर अपना मार्ग प्रशस्त करने वाले हैं। जन्म से ही वे इस तरह की बाधा- विपत्तियों  की काली घटाओं का साहस के साथ सामना करते रहे। कहा कि श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव पर यदि हमारा जीवन श्रीकृष्णमय बन सके, तभी उत्सव मनाना सार्थक है। 

अपने संदेश में संस्था की अधिष्ठात्री श्रद्धेया शैल दीदीजी ने कहा कि यह उत्सव एक ऐसे सांस्कृतिक पुरुष का है जिनका जीवन तमाम संघर्षों के बीच भी सदा उत्सव से ही भरा रहा है। संघर्षमय परिस्थितियाँ साधारणतः मनुष्य को हतोत्साहित कर देती हैं जबकि भगवान् श्रीकृष्ण उनके बीच भी सदा मुस्कराते ही रहे। श्रीकृष्ण जन्मोत्सव में शांतिकुंज, गायत्री कुंज, ब्रह्मवर्चस एवं देश- विदेश से आये हजारों परिजन सम्मिलित थे। पूजन कार्यक्रम का संचालन श्याम बिहारी दुबे ने किया। 


Write Your Comments Here:


img

शराब से पीड़ित जनमानस की आवाज बनकर उभरा है गायत्री परिवार का प्रादेशिक युवा संगठन

शराबमुक्त स्वर्णिम मध्य प्रदेश

अखिल विश्व गायत्री परिवार की मध्य प्रदेश इकाई ने सितम्बर माह से अपने राज्य को शराबमुक्त करने के लिए एक संगठित, सुनियोजित अभियान चलाया है। इस महाभियान में केवल गायत्री परिवार ही नहीं, तमाम सामाजिक, स्वयंसेवी संगठनों.....

img

ग्राम तीर्थ जागरण यात्रा

चलो गाँव की  ओर ०२ से ०८ अक्टूबर २०१७हर शक्तिपीठ/प्रज्ञापीठ/मण्डल से जुडे कार्यकर्त्ता अपने- अपने कार्यक्षेत्र (मण्डल) के ग्रामों की यात्रा पर निकलेंसंस्कारयुक्त, व्यसनमुक्त, स्वच्छ, स्वस्थ, स्वावलम्बी, शिक्षित एवं सहयोग से से भरे- पूरे ग्राम बनाने के लिये अभियान चलायेंएक.....