देव संस्कृति के दिव्य आलोक में डूबे कनाडा- अमेरिका के प्रवासी भारतीय

Published on 2017-08-28
img

आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवं डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी के दस दिवसीय प्रवास से हुआ नई ऊर्जा का संचार 
इस वर्ष आदरणीय डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवं डॉ. चिन्मय पण्ड्या जी २१ जुलाई से २ अगस्त तक कनाडा के प्रवास पर थे। उनका यह प्रवास युवा क्रांति वर्ष की सक्रियता और सफलताओं पर नैष्ठिक कार्यकर्त्ताओं की पीठ थपथपाने, उन्हें मातृशक्ति श्रद्धांजलि महापुरश्चरण की योजनाओं से अवगत कराने के लिए समर्पित था। उनके सान्निध्य में नन्हे बच्चों से लेकर प्रौढ़ों तक में युग के नवसृजन प्रवाह से जन- जन को अनुप्राणित करने का जबरदस्त उत्साह उभरा। विभिन्न क्षेत्रों में साधना एवं सृजन अभियान को गति दिने की योजनाएँ बनीं। गुरुसत्ता के दिव्य अनुदान और संरक्षण के प्रति विश्वास दृढ़ हुआ। 

शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री राजकुमार वैष्णव भी उनके साथ गये थे। इससे पूर्व वहाँ शांतिकुंज की प्रो. विश्वप्रकाश त्रिपाठी, श्री ओंकार पाटीदार एवं श्री छबिलाल जी की टोली पिछले लगभग ३ माह से सक्रिय थी, जिन्होंने सैकड़ों कार्यक्रम सम्पन्न कराते हुए आदरणीय डॉ. साहब के वर्तमान प्रवास के कार्यक्रमों की सफलता की पृष्ठभूमि रची थी। 

आदरणीय डॉ. साहब, डॉ. चिन्मय जी एवं श्री राजकुमार वैष्णव २१ जुलाई को जब टोरंटो के पियरसन एअरपोर्ट पर पहुँचे तो वहाँ शांतिकुंज प्रतिनिधियों के संग प्रतीक्षा कर रहे ५०- ६० प्रमुख कार्यकर्त्ताओं के चेहरे अद्भुत उल्लास से भर गये। सुधीरभाई, मधुभाई पटेल, राकेश शर्मा, श्री शरद- पूर्णिमा पटेल, न्यूजर्सी से आये पार्थ देसाई, केटकी से आये हेमाबेन, आस्था, चेतन देसाई, वैशाली आदि ने पुष्पगुच्छ प्रदान करते हुए उनका हार्दिक स्वागत किया। 

शांतिकुंज प्रतिनिधियों का स्वागत करने कार्यकर्त्तागण बड़ी दूर- दूर से आये थे। आदरणीय डॉ. साहब ने अपनी १४००० मील की लम्बी यात्रा की थकान की बिलकुल परवाह न करते हुए बड़ी आत्मीयता के साथ सबसे व्यक्तिगत रूप से मिले, कुशलक्षेम पूछी। गुरुधाम के आशीर्वाद पाकर सभी अभिभूत दिखाई दिये। 

तत्पश्चात् तीनों शांतिकुंज प्रतिनिधि टोरंटो के ओकविल- मिल्टन में श्री मधुभाई पटेल के साथ श्री इंद्रजीत ज्योतिबाला पटेल के घर पहुँचे। यहीं उनका निवास था। श्री मधुभाई भी उनके पड़ोसी हैं, जिनके यहाँ पहले से प्रो. विश्वप्रकाश त्रिपाठी की टोली ठहरी थी।

img

शराब से पीड़ित जनमानस की आवाज बनकर उभरा है गायत्री परिवार का प्रादेशिक युवा संगठन

शराबमुक्त स्वर्णिम मध्य प्रदेश

अखिल विश्व गायत्री परिवार की मध्य प्रदेश इकाई ने सितम्बर माह से अपने राज्य को शराबमुक्त करने के लिए एक संगठित, सुनियोजित अभियान चलाया है। इस महाभियान में केवल गायत्री परिवार ही नहीं, तमाम सामाजिक, स्वयंसेवी संगठनों.....

img

ग्राम तीर्थ जागरण यात्रा

चलो गाँव की  ओर ०२ से ०८ अक्टूबर २०१७हर शक्तिपीठ/प्रज्ञापीठ/मण्डल से जुडे कार्यकर्त्ता अपने- अपने कार्यक्षेत्र (मण्डल) के ग्रामों की यात्रा पर निकलेंसंस्कारयुक्त, व्यसनमुक्त, स्वच्छ, स्वस्थ, स्वावलम्बी, शिक्षित एवं सहयोग से से भरे- पूरे ग्राम बनाने के लिये अभियान चलायेंएक.....