Published on 2017-09-03
img

प.दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र 
भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा समिति, पश्चिम दिल्ली द्वारा १६ जुलाई को आर्य समाज मन्दिर, जनकपुरी में 'संस्कृति, कल्चर और हम' विषय पर एक सभा आयोजित की। संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार की दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी बोर्ड के अध्यक्ष और इन्द्रप्रस्थ साहित्य भारती के अध्यक्ष डॉ. राम शरण गौड समारोह के मुख्य अतिथि थे। 
भासंज्ञाप संयोजक श्री खैराती लाल सचदेवा ने स्वागत उद्बोधन में गायत्री परिवार की विचारधारा प्रस्तुत की। हस्तसाल राजकीय विद्यालय के प्राचार्य श्री मदनलाल गंगवार, एस.डी. पब्लिक स्कूल पीतमपुरा की प्राचार्या श्रीमती अनीता शर्मा, प्रो. कुलविन्दर सिंह, प्राचार्य श्री आरक़े.मिश्रा, दिल्ली प्रांत के बौद्धिक प्रमुख रहे श्री गोविंद राम अग्रवाल सहित अनेक विद्वानों ने इस विषय को अत्यंत महत्वपूर्ण बताते हुए अपने विचार प्रस्तुत किये। 
डॉ. राम शरण गौड़ ने संस्कृति और कल्चर का अंतर हृदयस्पर्शी उदाहरणों के साथ समझाया। उन्होंने कहा कि कल्चर कागज अथवा प्लास्टिक के फूलों की तरह है लेकिन संस्कृति रस और सुगंध प्रदान करने वाले रंग- बिरंगे फूलों की वाटिका है। संयुक्त परिवार संस्कृति है तो ओल्ड एज होम कल्चर है। उन्होंने इस महत्वपूर्ण विषय पर संगोष्ठी के लिए आयोजकों को बधाई दी और छात्रों को संस्कार देने के कार्य में लगे सभी कार्यकर्ताओं का अभिनन्दन किया। 
शांतिकुंज प्रतिनिधि श्री जमुना प्रसाद साहू तथा गायत्री चेतना केन्द्र, नोएडा के प्रभारी श्री आऱएऩ सिंह ने प्रवीण्य सूची के छात्रों को नकद पुरस्कार राशि, प्रशस्ति पत्र तथा सत्साहित्य भेंट कर किये। इस अवसर पर सहयोगी शिक्षकों को भी 'संस्कृति पुरोधा' सम्मान प्रदान किया गया। इस कार्यक्रम में अनेक विद्यालयों के प्रधानाचार्य, शिक्षक, शिक्षाविद, समाजसेवी एवं अनेक गणमान्य नागरिक और अभिभावक भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन राष्ट्र- किंकर संपादक विनोद बब्बर ने किया। 


Write Your Comments Here:


img

Op

gaytri shatipith jobat m p.....

img

Meeting with Shri Vikas Swaroop ji

देव संस्कृति विश्वविद्यालय प्रति कुलपति महोदय ने अपने मध्यप्रदेश दौरे से लौटने के साथ ही विदेश मंत्रालय के सचिव (CPV & OIA) एवं प्रतिभावान लेखक श्री विकास स्वरुप जी से मुलाक़ात की और अखिल विश्व गायत्री परिवार व देव.....