Published on 2017-09-05
img

हरिद्वार ५ सितंबर। 
प्रादेशिक स्काउट गाइड प्रशिक्षण केन्द्र शांतिकुंज में चल रहे सात दिवसीय रोवर लीडर, स्काउट मास्टर एवं गाइड कैप्टन शिविर का आज समापन हो गया। शिविर में राज्य के जनपद शांतिकुंज, हरिद्वार, देहरादून, काशीपुर व टिहरी के प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया। 
प्रतिभागियों से भेंट परामर्श के क्रम में अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि स्काउटिंग जीवन को सुदृढ़ बनाने की विधा है और इससे सेवाभावी व कर्त्तव्य परायणता जैसे सद्गुण विकसित होते हैं। उन्होंने प्रशिक्षण से मिली जानकारी को ज्यादा से ज्यादा विद्यार्थियों तक पहुँचाने की बात कही।संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदीजी ने कहा कि प्रत्येक विद्यार्थियों को बेसिक जानकारी होनी चाहिए, इसके लिए समय- समय पर शिविर आयोजित होते रहना चाहिए। 
समापन सत्र के मुख्य अतिथि शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री कालीचरण शर्मा ने कहा कि युवाओं को स्काउटिंग के सूत्रों को अपनाने हेतु विद्यालयीन स्तर पर प्रशिक्षण चलाने चाहिए। स्काउटिंग से साहस का संचार होता है और ये गुण आगे बढ़ने के लिए आवश्यक है। एलओसी श्री आरएस शेखावत ने कहा कि प्रशिक्षण में आगे बढ़ने के लिए मूल्यपरक प्रेरणा भरी जाती है, जिससे वे एक आदर्श युवा की भांति अपने आपको बना सके। प्रशिक्षण के दौरान प्रतिभागियों को पायनियरिंग, गाँठें, बंधन, फर्स्ट एड, स्काउट ध्वज व स्काउट के नियम, प्रतिज्ञा सहित विभिन्न विषयों पर जानकारी दी गयी। प्रशिक्षक के रूप में श्री लालपत राय कुमावत, नरेन्द्र सिंह, सीताराम सिन्हा, सत्येन्द्र कुमार आदि उपस्थित रहे। राज्य संगठन आयुक्त वीएस विष्ट, राज्य प्रशिक्षण आयुक्त श्री रामसिंह नेगी, शांतिकुंज जनपद आयुक्त श्री गेंदालाल चौरसिया, रोवर मंगल सिंह, अतुल, नरेन्द्र, सूरत, सूर्यनाथ आदि प्रमुख रूप से शामिल रहे। 


Write Your Comments Here:


img

दक्षिण भारत में देव संस्कृति दिग्विजय अभियान (दिनाँक-२ से ५ जनवरी २०२०)

दक्षिण भारत में अश्वमेध यज्ञों की शृंखला का छठवाँ अश्वमेध गायत्री महायज्ञ हैदराबाद (तेलंगाना) में होने जा रहा है। इससे पूर्व.....

img

डॉ. अमिताभ सर्राफ प्रो. सतीश धवन राज्य सम्मान ‘युवा अभियंता- 2018’ से सम्मानि

बंगलुरू। कर्नाटक गायत्री परिवार बंगलूरू के वरिष्ठ विद्वान कार्यकर्त्ता डॉ. अमिताभ सर्राफ को कर्नाटक सरकार की ओर से ‘प्रो......

img

dqsdqsd

sqsqdsqdqs.....