img

यू.के. : इन दिनों यूके में सक्रिय शांतिकुंज प्रतिनिधि प्रो. विश्वप्रकाश त्रिपाठी, श्री छबिलाल गढिय़ा एवं श्री रमेश तिवारी की टोली के सान्निध्य में अलग-अलग नगरों में गुरुपूर्णिमा पर्व के कई समारोह  आयोजित हुए। इस क्रम में भारतीय दूतावास में मनाया गया कार्यक्रम अद्वितीय था, ऐतिहासिक था।

भारतीय दूतावास में :   2 जुलाई को ग्रेट ब्रिटेन के भारतीय दूतावास में गुरुपूर्णिमा पर्व मनाया गया। यह समारोह नेहरू युवाकेन्द्र के मीडिया उपकरणों से सुसज्जित मिनी ऑडिटोरियम में हुआ। पूज्य गुरुदेव के संदर्भ में पूर्व राष्ट्रपति डॉ. शंकरदयाल शर्मा का वीडियो संदेश, भजन संध्या-एक शाम गुरुवर के नाम और गुरुगरिमा संबंधी गीतों ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। भारतीय दूतावास में पहली बार इतना भव्य कार्यक्रम आयोजित हुआ था। वहाँ की विदेश सेवा अधिकारी श्रीमती पद्मजा और श्री गौरीशंकर ने दूतावास में परम पूज्य गुरुदेव का साहित्य स्थापित करने की इच्छा व्यक्त की। उल्लेखनीय है कि भारतीय दूतावास ने अपने द्वारा प्रकाशित पत्रिका के कवर पृष्ठ पर शांतिकुंज से आये पुरोहितों का चित्र प्रकाशित किया था।

भारतीय दूतावास में विदेश सेवा अधिकारी श्रीमती पद्मजा परम वंदनीया माताजी के हाथों से भोजन ग्रहण कर चुकी हैं। उन्होंने दिल्ली स्थित अपने आवास पर मिशन के साहित्य का संकलन किया है।

वेम्बली : उत्तरी लंदन के वेम्बली शहर स्थित सनातन मंदिर में सात कुण्डीय गायत्री यज्ञ के साथ गुरुपूर्णिमा पर्व मनाया गया। वहाँ शांतिकुंज प्रतिनिधि प्रो. विश्वप्रकाश त्रिपाठी ने याजकों को विद्या विस्तार का तंत्र बनाने, संस्कार परंपरा को पुनर्जीवित करने और नारी जागरण के लिए प्रमुख रूप से प्रेरित किया। सैकड़ों याजकों ने गुरुचरणों में अपनी संकल्प श्रद्धांजलि अर्पित की।
क्रोएडन : 3 जुलाई को क्रोएडन स्थित माता भगवती कुंज में गुरुपूर्णिमा पर्व अत्यंत श्रद्धाभाव के साथ मनाया गया। कार्यक्रम आयोजन में श्री किरण भाई सुलोचना बेन, दिनकर भाई कोकिला बेन, योगेश भाई रंजन बेन का सराहनीय सहयोग रहा।

7 जुलाई को डेरा सचखंड नानक धाम दरबार में आयोजित हुए गुरुपर्व समारोह में ननीटन, पंजाब से आये सिक्ख बड़ी संख्या में उपस्थित थे। शांतिकुंज प्रतिनिधियों ने गीत-संगीत के साथ गुरु नानक से गुरुगोविंद सिंह तक की शौर्य गाथा सुनाकर गुरुओं की आदर्श परंपरा के प्रति आस्था बढ़ाई। परम पूज्य गुरुदेव के रूप में एक सद्गुरु की शिक्षाओं को ग्रहण करते हुए वे अभिभूत हो गये। उन्होंने बड़ी श्रद्धा के साथ समाज और राष्ट्र की सेवा के संकल्प लिये।

लेस्टर : 8 जुलाई को गायत्री चेतना केन्द्र लेस्टर में गुरुपूर्णिमा पर्व मनाया गया। भावभरे गीतों की मनोभूमि में प्रो. त्रिपाठी जी द्वारा पूज्य गुरुदेव के अनुदानों की गाथा सुन सभी भावविभोर हो उठे। जो कभी पूज्य गुरुदेव से मिले थे, वे उन ऐतिहासिक क्षणों को याद करते हुए भावविभोर हो गये। गुरुसत्ता को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए नैष्ठिक परिजनों ने विचार क्रांति अभियान को अपेक्षित गति देने के संकल्प लिये। बर्मिंघम से आये बालरोग विशेषज्ञ डॉ. रजनीश वालिया ने शांतिकुंज के शताब्दी चिकित्सालय में सेवा प्रदान करने का भाव व्यक्त किया।


Write Your Comments Here:


img

लिथुआनिया पहुँची गुरुज्ञान की लाल मशाल

 अपने लंदन और यूरोप के दौरे में दे० सं० वि० वि० के प्रति कुलपति डॉ. चिन्मय पंड्या जी ने बाल्टिक समुद्र के पास स्थित लिथुआनिया देश का दौरा किया जिसमे अनेक महत्वपूर्ण उपलब्धियाँ के पुष्पगुच्छ उन्होंने दिवाली के पावन पर्व.....

img

बाढ़ राहत अभियान गायत्री परिवार भिवंडी मुम्बई

गायत्री परिवार भिवंडी के सहयोग से आज कोल्हापुर में डॉ दिपक सालुंखे प्राथमिक विद्या मंदिर एवं राजऋषि छत्रपति शाहू महाराज हाई स्कूल के बाढ़ पीड़ित छात्र छात्राओं को 400 स्कूली बेग वितरित किया गया। इस वितरण अभियान में इचलकरंजी गायत्री.....