Published on 2017-09-15
img

हरिद्वार १५ सितम्बर। 
देव संस्कृति विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना विभाग की स्वयंसेवी कु. प्राची अग्रवाल (बी.एस.सी. अंतिम वर्ष) का चयन इण्टरनेशनल डेलीगेशन हेतु हुआ है। कु. प्राची १४ से २१ सितम्बर तक फिलिस्तीन में रहेंगी। भारत सरकार के युवा एवं खेल मंत्रालय द्वारा चयनित होने पर कु. प्राची ने खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि यह चयन परम पूज्य गुरूदेव एवं वंदनीया माताजी के आशीर्वाद से तथा अखिलविश्व गायत्री परिवार प्रमुख एवं देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी के मार्गदर्शन में ही हुआ है। कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कु. प्राची को शुभकानाएँ देते हुए कहा कि इस तरह के कार्यक्रमों से एक ओर अपनी संस्कृति का प्रचार प्रसार होता है तो दूसरी ओर इससे व्यक्तित्व का विकास भी होता है। 
कु. प्राची की इस उपलब्धि पर देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी ने शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय डेलीगेशन में अपने प्रस्तुतिकरण का सुनहरा अवसर मिलता है। इसके माध्यम से अपनी संस्कृति के विविध आयामों से परिचित  कराकर उस देश में अपनी अच्छी छाप छोड़ी जा सकती है। उन्होंने कहा कि पूरे उत्तराखण्ड से एक स्वयंसेवी का चयन होना देव संस्कृति विश्वविद्यालय में हो रहे विद्यार्थियों के विकास को और भी पुष्ट और स्पष्ट करता है। 
रा.से.यो. के समन्वयक डॉ. अरुणेश पाराशर के अनुसार पूरे देश से ३९ स्वयंसेवियों का चयन किया गया है। युवा एवं खेल मन्त्रालय द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य आपसी सामंजस्य एवं संस्कृति को लेकर अच्छे सम्बन्धों को बढ़ावा देना है। इससे पहले भी एक छात्रा ने पूर्व डेलिगेशन में चीन में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के साथ पूरे उत्तराखण्ड का नाम रोशन किया था। कु. प्राची के चयन पर पूरे विश्वविद्यालय परिवार ने उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएँ दीं। 


Write Your Comments Here:


img

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन

क्षमता का विकास करने का सर्वोत्तम समय युवावस्था - डॉ पण्ड्याराष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के युवाओं को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापनहरिद्वार 17 अगस्त।गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का आज समापन हो गया। इस सम्मेलन में राष्ट्रीय राजधानी.....

img

दे.स.वि.वि. के ज्ञानदीक्षा समारोह में भारत के 22 राज्य एवं चीन सहित 6 देशों के 523 नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

जीवन खुशी देने के लिए होना चाहिए ः डॉ. निशंकचेतनापरक विद्या की सदैव उपासना करनी चाहिए ः डॉ पण्ड्याहरिद्वार 21 जुलाई।जीवन विद्या के आलोक केन्द्र देवसंस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज के 35वें ज्ञानदीक्षा समारोह में नवप्रवेशार्थी समाज और राष्ट्र सेवा की ओर.....

img

देसंविवि की नियंता एनईटी (योग) में 100 परसेंटाइल के साथ देश भर में आयी अव्वल

देसंविवि का एक और कीर्तिमानहरिद्वार 19 जुलाईदेव संस्कृति विश्वविद्यालय ने एनईटी (नेशनल एलीजीबिलिटी टेस्ट -योग) के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। देसंविवि के योग विज्ञान की छात्रा नियंता जोशी ने एनईटी (योग)- 2019 की परीक्षा में 100.....