Published on 2017-09-20
img

लोकप्रिय हो रहा है पंचवटी रोपण अभियान - भारी पानी बोर्ड के हर संयंत्र में रोपी जा रही हैं पंचवटियाँ

शांतिकुंज में आन्दोलन प्रकोष्ठ प्रभारी श्री के.पी. दुबे की प्रेरणा और दिया, मुम्बई के सदस्यों के नैष्ठिक प्रयासों से पंचवटी रोपण अभियान को नवगति प्राप्त हो रही है। दिया, मुम्बई ने इसके लिए एक प्रज़ेण्टेशन तैयार किया है, जो जागरूक जनमानस को खूब भा रहा है।

भारी पानी बोर्ड के चेअरमेन एवं चीफ एक्ज़ीक्यूटिव वैज्ञानिक श्री अवधेश नारायण वर्मा इस अभियान से बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने पूरे भारत में भारी पानी संयंत्र के हर प्लाण्ट में पंचवटियाँ लगाने का संकल्प लिया है। वे व्यक्तिगत रूप से हर प्लांट में जाकर इस दिशा में अपने अधिकारियों, कर्मचारियों को जागरूक कर रहे हैं। १ अगस्त से १९ अगस्त के बीच वडोदरा, कोटा, तलचेर- ओडिशा, मनुगुरु- तेलंगाना आदि प्लांटों में वे कुल ७ पंचवटियाँ लगवा चुके हैं।

दिया, मुम्बई के प्रमुख कार्यकर्त्ता श्री जतीन दवे के अनुसार उनका प्रयास केवल वृक्षारोपण करना नहीं, अपितु पर्यावरण संकट का स्थाई समाधान करने के लिए जनमानस को प्रेरित करना है। इसके लिए कर्मचारियों को वृक्षारोपण से पहले के संकट, लगाये जाने वाले पौधों के लाभ की जानकारियाँ दी जाती है, प्रशिक्षण दिया जाता है। उत्साह की बात है कि कर्मचारी इस अवसर पर अपने- अपने गाँव, घर में पंचवटियाँ लगाने के संकल्प ले रहे हैं।


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....