Published on 2017-09-24
img

राजनांदगाँव। छत्तीसगढ़

गायत्री परिवार द्वारा संचालित माँ भगवती वात्सल्य निकेतन पिछले कई वर्षों से नक्सल पीड़ित अनाथ बच्चों का लालन- पालन कर रहा है। इस वर्ष 19 ऐसे बच्चे बस्तर के बीजापुर कोन्टा क्षेत्र से लाये गये हैं। इनकी उम्र 4 से 8 वर्ष है। वहाँ 19 बच्चे पहले से भी पाले जा रहे थे। इन सभी बच्चों का पालन- पोषण बिना किसी शासकीय अनुदान के किया जाता है। नगर के उदारमना महानुभाव भी इस कार्य में गायत्री परिवार का सहयोग बड़े उत्साह के साथ करते हैं।

नि:शुल्क चिकित्सा जाँच शिविर

28 अगस्त को माँ भगवती वात्सल्य निकेतन में नक्सल पीड़ित बच्चों का नि:शुल्क स्वास्थ्य परीक्षण आयोजित हुआ। नगर के प्रतिष्ठित चिकित्सकों पद्मश्री डॉ. पुखराज बाफ ना, डॉ. उत्तम कोठारी, डॉ. ताराचंद सोनी, डॉ. नरेन्द्र गाँधी, डॉ. नरेश कटियारा एवं डॉ. भिकम वैद्य ने बच्चों का सूक्ष्म स्वास्थ्य परीक्षण किया। भारतीय बाल स्वास्थ्य अकादमी, राजनांदगांव ने प्रतिमाह नि:शुल्क जाँच एवं दवा वितरण कार्य जारी रखने का आश्वासन दिया। पारस डायग्नोस्टिक सेंटर ने बच्चों की नि:शुल्क जाँच एवं टीके लगाने का आश्वासन दिया।

इस अवसर पर सर्वश्री जुगलकिशोर लड्ढा, नन्दकिशोर सुरजन, प्रेमप्रकाश सिंघल, हरीश गाँधी, सुनील ठक्कर, संजय लड्ढा, श्रीमती शकुन्तला लश्कर, शेखर लश्कर एवं वात्सल्य निकेतन के अधीक्षक श्री सार्वा जी का योगदान रहा।


Write Your Comments Here:


img

11 जनवरी, देहरादून। उत्तराखंड ।

दिनांक 11 जनवरी 2020 की तारीख में देव संस्कृति विश्वविद्यालय शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिकुलपति आदरणीय डॉक्टर चिन्मय पंड्या जी देहरादून स्थित ओएनजीसी ऑडिटोरियम में उत्तराखंड यंग लीडर्स कॉन्क्लेव 2020 कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे जहां पर उन्होंने उत्तराखंड राज्य के विभिन्न.....

img

ज्ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....

img

ञानदीक्षा समारोह में लिथुआनिया सहित देश के 12 राज्यों के नवप्रवेशी विद्यार्थी हुए दीक्षित

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि जो आचरण से शिक्षा दें वही आचार्य है और ऐसे आचार्यगण ही विद्यार्थियों को चरित्रवान बना सकते हैं। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि जिस तरह चाणक्य ने अपने ज्ञान व.....