आई.आई.टी- एन.आई.टी. के ५००० छात्रों में से चयनित हुए गायत्री विद्यापीठ के आशुतोष वैष्णव

Published on 2017-09-26
img

रॉयल इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नालाजी, स्वीडन से मिली स्कॉलरशिप

आई.आई.टी- एन.आई.टी. के ५००० छात्रों में से चयनित होने वाला एकमात्र विद्यार्थी है आशुतोष

रॉयल इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नालाजी इलेक्ट्रिकल फील्ड में विश्व में १७वीं रैंक की संस्था है जहाँ के एक स्नातक को नोबल प्राइज़ भी मिला है।

रॉयल इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नॉलाजी स्टाकहोम, स्वीडन मास्टर्स डिग्री के लिए हर वर्ष एक भारतीय विद्यार्थी को स्कॉलरशिप देता है। इस वर्ष यह गायत्री विद्यापीठ, शांतिकुंज में १२वीं तक की शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्र चि. आशुतोष वैष्णव को प्रदान की गयी है। चि. आशुतोष पिछले ३२ वर्षों से शांतिकुंज में जीवनदानी कार्यकर्त्ता के रूप में सेवाएँ प्रदान कर रहे श्री राजकुमार वैष्णव एवं श्रीमती शालिनी वैष्णव का सुपुत्र है।

अभिभावकों के शुभाशीष मिले
शांतिकुंज परिवार के सर्वोच्च अभिभावक आद. डॉ. प्रणव पण्ड्या जी एवं आद. शैल जीजी ने २२ अगस्त को अपने शुभाशीषों के साथ मंगल तिलक करते हुए भावभरी विदाई दी। इस अवसर पर उन्होंने गुरुदेव के विचार और अपनी संस्कारयुक्त शिक्षा की बुनियाद पर ही आगामी उच्च शिक्षा और शोधकार्यों को जारी रखने की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा कि सारा विश्व हमारी ओर आशा भरी निगाहों से देख रहा है, हमें उसे गुरुदेव के विचारों में ढालना है, यह हमें हर पल याद रहना चाहिए। चि. आशुतोष की इस सफलता पर गायत्री विद्यापीठ के शिक्षकों ने भी गौरव की अनुभूति की और अपने शुभाशीष दिये।

सफलता की कहानी
चि. आशुतोष वैष्णव प्रारंभ से ही गायत्री विद्यापीठ का होनहार विद्यार्थी रहा। १२वीं कक्षा के बाद उसका चयन आई.आई.टी. जोधपुर में हो गया, जहाँ से उसने बी.टेक की पढ़ाई की। आई.आई.टी- एन.आई.टी. के ५००० छात्रों के मध्य के.टी.एच. मास्टर चेलेन्ज में सेटेलाइट नेटवर्किंग कम्यूनिकेशन क्षेत्र में प्रथम स्थान प्राप्त किया। तत्पश्चात् रॉयल इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नालाजी स्टॉकहोम के इन्फार्मेशन एवं नेटवर्किंग इंजीनियरिंग मास्टर्स प्रोग्राम के प्रमुख मेट्स बेंगट्सन ने स्काइप पर डेढ़ घण्टे का इन्टरव्यू लिया। बंगलौर के एक समारोह में चि.आशुतोष के चयन की घोषणा की गयी। इस आशय का सम्मान पत्र चि.आशुतोष को प्रदान किया गया। वर्तमान में वह मास्टर्स प्रोग्राम कोआर्डिनेटर की क्रिस्टिना ला वेर्डे के मार्गदर्शन में अध्ययन कर रहा है।

img

तीन दिवसीय राष्ट्रीय प्रतिभाशालियों की प्रशिक्षण शिविर का समापन

सद्गुणों की खेती करना सिखाती है संस्कृतिः डॉ पण्ड्याजीमेधावियों को किया गया सम्मानित, विद्यार्थियों ने कहा- अनमोल है यह सम्मानहरिद्वार, १८ मई।गायत्री परिवार के अभिभावक डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि भारतीय संस्कृति सद्गुणों की खेती करना सिखाती है। जिस.....

img

शांतिकुंज पहुँचे विहिप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष

हरिद्वार, १२ मई।विश्व हिन्दू परिषद के नवनिर्वाचित अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री विष्णु सदाशिव कोकजे गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी व शैलदीदीजी से भेंट परामर्श करने प्रातः ८.३० बजे गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पहुँचे। यहाँ करीब चालीस मिनट तक चले भेंट में.....

img

ग्रांड मास्टर ऑफ योगा प्रतियोगिता में छाये देसंविवि के विद्यार्थी

ग्रांड मास्टर ऑफ योगा प्रतियोगिता में छाये देसंविवि के विद्यार्थी१३ राज्यों के प्रतिभागियों को पछाड कर प्रथम व तृतीय रहेहरिद्वार, १० मई।प्रगति मैदान दिल्ली में आयोजित ग्रांड मास्टर ऑफ योगा प्रतियोगिता में देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने उत्कृष्ट प्र्रदर्शन करते.....


Write Your Comments Here: