फिलिस्तीन में भारतीय संस्कृति का परचम फहराकर लौटी देसंविवि की छात्रा कु. प्राची

Published on 2017-10-02
img

केन्द्रीय खेल मंत्रालय की ओर से चयनित दल में शामिल थी देसंविवि की छात्रा
हरिद्वार २ अक्टूबर।

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना विभाग से फिलिस्तीन दौरे पर गयी कु. प्राची अग्रवाल विश्वविद्यालय लौट आयी। युवा एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार की ओर से चयनित तीस सदस्यों के दल में देसंविवि की कु. प्राची ने महत्वपूर्ण उपलब्धि प्राप्त की।

लौटने के बाद चर्चा करते हुए कु. प्राची ने बताया कि प्रथम दिन वहाँ के भौगोलिक एवं सांस्कृतिक तत्वों से दल को परिचित कराया गया। इससे टेक्नोपार्क, सांस्कृतिक स्थलों के साथ- साथ शैक्षणिक स्थलों को भी समझने का अवसर मिला। भारतीय युवा दल के साथ जिज्ञासा संबंधी विशेष गोष्ठी का आयोजन हुआ, जिसमें भारतीय युवाओं ने मेजबान युवाओं की भारतीय संस्कृति एवं ऋषि प्रणीत संस्कार परंपरा से संबंधित जिज्ञासाओं का समाधान किया। वहीं मेजबान युवाओं ने अपने देश की मूल संस्कृति से इन्हें अवगत कराया।
इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य एक दूसरे की संस्कृति, सांस्कृतिक विरासत एवं अन्य नए- नए आयामों से एक दूसरे को परिचित कराना था। मुस्लिम आबादी होते हुए भी यहाँ भारतीय दल का बहुत सम्मान किया गया। कृषि संबंधी कार्यो में वहाँ बहुत रचनात्मक कार्य हो रहे हैं और आधुनिक तकनीकी का उपयोग कर कम पानी वाले क्षेत्रों में भी वे अच्छी पैदावार कर लेते हैं।

भारतीय संस्कृति का प्रचार- प्रसार कर लौटने पर प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्याजी ने उन्हें बधाई देते हुए कहा कि एक दूसरे को समझने का सबसे उचित माध्यम संस्कृतियों का आदान- प्रदान है। प्रतिकुलपति जी ने संस्कृति के आदान- प्रदान पर एक प्रोजेक्ट बनाने एवं अपने अनुभवों को बाँटने हेतु प्रस्तुतिकरण के लिए प्रोत्साहित किया। राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक डॉ. अरूणेश पाराशर के अनुसार एक्वेसी में प्राची द्वारा प्रस्तुत सांस्कृतिक कार्यक्रम ने सभी को आकर्षित किया। उपस्थित मेजबान युवाओं ने देवभूमि व देसंविवि की झलक झांकी से अभिभूत दिखाईर् दिये और देवभूमि व देवसंस्कृति विवि को जानने समझने के लिए आने की इच्छा प्रकट की है। डॉ पाराशर ने बताया कि विशेष प्रस्तुति के लिए विवि की छात्रा प्राची को एनएसएस के डायरेक्टर ने भी सम्मानित किया।

img

तीन दिवसीय राष्ट्रीय प्रतिभाशालियों की प्रशिक्षण शिविर का समापन

सद्गुणों की खेती करना सिखाती है संस्कृतिः डॉ पण्ड्याजीमेधावियों को किया गया सम्मानित, विद्यार्थियों ने कहा- अनमोल है यह सम्मानहरिद्वार, १८ मई।गायत्री परिवार के अभिभावक डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि भारतीय संस्कृति सद्गुणों की खेती करना सिखाती है। जिस.....

img

शांतिकुंज पहुँचे विहिप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष

हरिद्वार, १२ मई।विश्व हिन्दू परिषद के नवनिर्वाचित अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री विष्णु सदाशिव कोकजे गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी व शैलदीदीजी से भेंट परामर्श करने प्रातः ८.३० बजे गायत्री तीर्थ शांतिकुंज पहुँचे। यहाँ करीब चालीस मिनट तक चले भेंट में.....

img

ग्रांड मास्टर ऑफ योगा प्रतियोगिता में छाये देसंविवि के विद्यार्थी

ग्रांड मास्टर ऑफ योगा प्रतियोगिता में छाये देसंविवि के विद्यार्थी१३ राज्यों के प्रतिभागियों को पछाड कर प्रथम व तृतीय रहेहरिद्वार, १० मई।प्रगति मैदान दिल्ली में आयोजित ग्रांड मास्टर ऑफ योगा प्रतियोगिता में देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने उत्कृष्ट प्र्रदर्शन करते.....


Write Your Comments Here: