Published on 2017-10-04
img

अद्भुत कथाकार हैं डॉ. रामनारायण त्रिपाठी - श्री वीरेन्द्र अग्रवाल
कथा प्रसंगों के संग बड़ी कुशलता से गूँथे युग निर्माणी सूत्र- सिद्धांत

जयपुर। राजस्थान
अपने मिशन में भामाशाही परम्परा का आदर्श प्रस्तुत कर रहे श्री वीरेन्द्र अग्रवाल के आवास गायत्री विला, जय जवान कॉलोनी, दुर्गापुरा में १० से १७ सितम्बर की तारीखों में श्रीमद्भागवत कथा सप्ताह सम्पन्न हआ। इसके कथा व्यास गायत्री शक्तिपीठ चित्रकूट मध्य प्रदेश के व्यवस्थापक डॉ. रामनारायण त्रिपाठी थे। अपने रक्त के कण- कण में मात्र गुरुदेव की प्रेरणाओं को ही हृदयंगम करने वाले श्री वीरेन्द्र जी ने उनकी कथा सुनने के बाद गद्गद हृदय से कहा, "अद्भुत कथाकार हैं डॉ. रामनारायण त्रिपाठी।"

आमतौर पर श्रीमद्भागवत कथा के कथाकार संगीत और अपने वाग्विलास से कथानकों को ऐसा रोचक बनाने का प्रयास करते हैं, जिससे श्रोता भक्तिभाव में झूमते नज़र आयें। लेकिन परम पूज्य गुरुदेव के अनन्य भक्त और नैष्ठिक युग निर्माणी कार्यकर्त्ता डॉ. रामनारायण त्रिपाठी का कथा कहने का ढंग ही निराला है। वे विभिन्न कथानकों और उनके पात्रों का दर्शन परम पूज्य गुरुदेव के विचारों के साथ समझाते हैं। उनके माध्यम से व्यक्ति निर्माण, परिवार निर्माण और समाज निर्माण के सूत्र बताते हैं, वर्तमान युग की समस्याओं का समाधान सुझाते नज़र आते हैं।

कथा का शुभारंभ १० सितम्बर को २५१ कलशों के साथ निकाली गयी शोभायात्रा से हुआ। श्री वीरेन्द्र जी और उनके सुपुत्र आलोक, संजय, विनय श्रीमद्भागवत जी को मस्तक पर धारण कर यात्रा में शामिल हुए। स्थानीय शिव मंदिर से आरंभ होकर पूरी कॉलोनी का चक्कर लगाते हुए यह कथा पाण्डाल पहुँची।

सात दिनों तक चली कथा में जीवन की गरिमा, गुरुकृपा का प्रभाव, अंत:करण चतुष्टय, धर्मधारणा, कपिल का सांख्य दर्शन, पारिवारिक पंचशील, आज का युगधर्म जैसे अनेक विषय विविध कथा प्रसंगों के बीच उभरे। इन्हें युग निर्माण के सत्संकल्प और गुरुदेव के बताये सूत्र वाक्यों के आधार पर समझाया गया। केवल कथा सुनने का ही नहीं, अपनी व्यक्तिगत, पारिवारिक एवं राष्ट्रीय जिम्मेदारियाँ पूरी करने के लिए साहसपूर्वक आगे आने का संकल्प उन्होंने श्रोताओं उभरा। लोकायुक्त श्री एस.एस. कोठारी, श्री वीरेन्द्र जी का पूरा परिवार, श्री राम शरण गुप्ता, ज्ञानचंद्र अग्रवाल, श्री प्रकाश काबरा और सैकड़ों गणमान्य मंत्रमुग्ध होकर नित्य कथा श्रवण करते दिखाई दिये।


Write Your Comments Here:


img

बालसंस्कारशाला

शक्तिपीठ युवामंडल द्वारा प्रत्येक रविवार को शाहजहांपुर नगर क्षेत्र में आठ बाल संस्कार शाला संचालित होती है जिसमें शक्तिपीठ बाल संस्कारशाला ,आनंद बाल संस्कार शाला भगवती बाल संस्कार शाला ,शिव बाल संस्कार शाला ,श्री राम बाल संस्कार शाला ,स्वामी विवेकानंद.....

img

सम्मान समारोह

13/10/19 को गायत्री प्रज्ञा पीठ कुँवाखेड़ा लक्सर हरिद्वार उत्तराखंड में वरिष्ठ कार्यकर्ता श्री बूलचंद जी को शारिरिक कार्य से विश्राम एवँ मार्गदर्शक नियुक्त होने पर उनका सम्मान एवं भोग प्रसाद का कार्यक्रम संम्पन हुआ।.....