समाज में सद्ज्ञान का प्रकाश फैलाते पुस्तक मेले

Published on 2017-10-10
img

प्रदर्शनी देखकर निकलने वाले प्रत्येक परिजन को अखण्ड ज्योति, युग निर्माण योजना, प्रज्ञाअभियान आदि पत्रिकाएँ नि:शुल्क दी जाती थीं। देखा गया कि उन्हें पढ़ने के बाद वे पुन: आये और पत्रिकाओं के मासिक व आजीवन सदस्य बनकर गये।५०० रुपये से अधिक साहित्य खरीदने वाले को क्रांतिधर्मी २८ पुस्तकों का सेट नि:शुल्क दिया जाता था।सात वर्षों से चली आ रही परम्परा

पुणे। महाराष्ट्र :
पुणे शाखा ने सुप्रसिद्ध आयार्य अत्रे सभागृह में नौ दिवसीय पुस्तक प्रदर्शनी का आयोजन किया। इसके माध्यम से ३० से ३५ हजार पुस्तकें घर- घर पहुँचाने में सफलता मिली। उल्लेखनीय है कि स्थानीय गायत्री परिवार द्वारा पिछले सात वर्षों से प्रतिवर्ष ऐसी पुस्तक प्रदर्शनी लगायी जा रही है।

पुस्तक प्रदर्शनी का उद्घाटन महापौर मुक्ता तिलक एवं दैनिक आज का आनन्द के सम्पादक श्री श्याम अग्रवाल ने किया। प्रबुद्ध जनों ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि इस पुस्तक मेले की वैज्ञानिक अध्यात्मवाद पर आधारित पुस्तकें बच्चे, बड़े, बुजुर्गों तक सबको पसंद आती हैं। इसमें समाज के हर वर्ग के लिए उपयोगी साहित्य मिलता है। अनेक पाठकों ने गुरुदेव के विचारों से उनके चिंतन में आये बदलाव की स्वीकारोक्तियाँ लिखीं।

बच्चों की विज्ञान प्रदर्शनी में दिखाई दिया युगऋषि के वैज्ञानिक चिंतन का प्रभाव
वडोदरा। गुजरात
श्री गायत्री प्रज्ञापीठ, गुरुदेव आॅब्जर्वेटरी वडोदरा ने नगर से ५५ किमी. दूर हांदोड़ के विद्यालय में अपना ८४वाँ पुस्तक मेला लगाया।

हांदोड़ के इस विद्यालय में 'सस्टेनेबल एण्ड रीयूज़ेबल एनर्जी एण्ड ग्लोबल वॉर्मिंग' विषय पर विज्ञान मेले का आयोजन किया गया था। आसपास के ५० वर्ग किलोमीटर के ४० गाँवों के विद्यालयों ने इसमें भागीदारी की। गायत्री परिवार की साहित्य प्रदर्शनी ने वहाँ आने वाले हजारों विद्यार्थियों को वैज्ञानिकता के आधार पर धर्म को समझने और तमाम समस्याओं का विज्ञान सम्मत समाधान खोजने में महत्त्वपूर्ण सहयोग किया। परिणामस्वरूप इन सभी ४० गाँवों के विद्यालयों में पुस्तक मेला लगाने की संभावनाएँ बनीं।
गुरुदेव आॅब्ज़र्वेटरी द्वारा दो मल्टीमीडिया प्रेज़ेण्टेशन भी दिखाये गये, जिनका विषय था 'जन- जन तक विज्ञान पहुँचे' और 'क्लाइमेट चेंज, ग्लोबल वॉर्मिंग और हमारी जवाबदारी'।

राष्ट्रीय पुस्तक मेलों में भागीदारी की, राज्यपाल- मुख्यमंत्री भी आये
लखनऊ। उत्तर प्रदेश

गायत्री ज्ञान मंदिर, इंदिरा नगर हर वर्ष मोती महल लॉन, लखनऊ में लगने वाले राष्ट्रीय पुस्तक मेले में भागीदारी करता है। इस वर्ष यह पुस्तक मेला ११ से २० अगस्त की तारीखों में आयोजित हुआ। गायत्री परिवार ने भी भाग लिया। राज्यपाल, उप मुख्यमंत्री, सांसद, अधिकारी, शिक्षक, वैज्ञानिक आदि हर वर्ग के बुद्धिजीवियों ने युगऋषि के साहित्य का लाभ लिया। समारोह के समापन पर आयोजकों ने गायत्री ज्ञान मंदिर के कार्यवाहक श्री उमानंद शर्मा को सम्मानित भी किया।

देहरादून। उत्तराखंड
राष्ट्रीय पुस्तक न्यास द्वारा देहरादून के सुप्रसिद्ध परेड ग्राउण्ड में २८ अगस्त से ५ सितम्बर तक पुस्तक मेले का आयोजन किया गया। गायत्री परिवार की स्थानीय शाखा ने भी इसमें भागीदारी करते हुए लोगों तक सत्साहित्य पहुँचाने में अहम भूमिका निभाई। राज्यपाल और मुख्यमंत्री जी ने भी परम पूज्य गुरुदेव के साहित्य को बड़े उत्साह से देखा और विचार क्रांति अभियान की सराहना की।

विद्यार्थियों को विचार संजीवनी प्रदान करते पुस्तक मेले
जोबट, अलीराजपुर। मध्य प्रदेश
गायत्री शक्तिपीठ जोबट पर २ एवं ३ सितम्बर को युग साहित्य पुस्तक मेला लगाया गया। समाज के सभी वर्गों के लोगों, विद्यालय एवं छात्रावासों के विद्यार्थियों की उपस्थिति चर्चा का विषय रही। युग निर्माणी साहित्य ने लोगों को इतना प्रभावित किया कि जो लोग हलके मन से मात्र कौतूहलवश आये थे, वे भी पुस्तकों के शीर्षकों में अपनी समस्याओं का समाधान खोजते नज़र आये।

पानीपत। हरियाणा : २६ अगस्त से ३ सितम्बर तक पानीपत नगर, सोनाली रोड पर गायत्री परिवार की स्थानीय शाखा द्वारा पुस्तक मेले का आयोजन किया गया। इसमें ६० हजार से अधिक रुपयों का साहित्य बिका। कुछ ज्ञानयज्ञ के होताओं ने नि:शुल्क साहित्य भी वितरित किया।

नगर के निजी विद्यालयों का भरपूर सहयोग मिला। पानीपत रिफाइनरी, एन.एफ.एल., पानीपत थर्मल प्लांट के अधिकारियों ने गायत्री परिवार के विचार क्रांति अभियान की बहुत प्रशंसा की। पुस्तक मेले का समापन गायत्री महायज्ञ के साथ हुआ।


Write Your Comments Here:


img

गायत्री परिवार यूथ ग्रुप कोलकाता ने आरंभ किए कई नये अभियान

विश्व पर्यावरण दिवस पर गतिशील हुआ वृक्षगंगा अभियानजगदल में हर गुरुवार को होगा वृक्षारोपणकोलकाता। प. बंगालगायत्री परिवार यूथ ग्रुप कोलकाता ने विश्व पर्यावरण दिवस से एक नई पहल की। उस दिन जगदल में १०१ पेड़ लगाये गये। इसके साथ जगदल.....

img

छत्तीसगढ़ में चल रही है व्यक्तित्व निर्माण आवासीय शिविरों की शृंखला

विजन -२०२६ के अंतर्गत चल रहा है अभियान २७ शिविर आयोजित होंगेजनवरी २०१८ को नागपुर में आयोजित युग सृजेता युवा सम्मेलन का एक महत्त्वपूर्ण सूत्र था च्विजन -२०२६ज् का आधार युवा जागृति अभियान है। छत्तीसगढ़ के प्रांतीय युवा संगठन ने.....

img

बिहार शक्तिपीठ प्रांगण में १०८ पौधे रोपे

१५००  पेड़ सभी १४ ब्लॉकों में  रोपे जायेंगेनवादा। बिहारगायत्री शक्तिपीठ नवादा ने विश्व पर्यावरण दिवस पर शक्तिपीठ प्रांगण में १०८ पौधे लगाते हुए इस वर्ष के संकल्पित वृक्षगंगा अभियान का शुभारंभ किया। उल्लेखनीय है कि शक्तिपीठ से.....