Published on 2017-10-12
img

धुले। महाराष्ट्र :

२४ से २८ दिसम्बर २०१७ की तारीखों में धुले में १०८ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ सम्पन्न होने जा रहा है। इसके प्रयाज क्रम में पूरे क्षेत्र में प्रज्ञा आलोक पहुँचाने का प्रशंसनीय अभियान चला रखा है।
  •  १५ से १९ अगस्त तक धुले एवं नंदुरबार जिले के कार्यकर्त्ताओं का प्रशिक्षण शिविर रखा गया। इसमें ६९ भाई बहिनों ने कर्मकाण्ड, डफली, संभाषण, योग आदि का प्रशिक्षण लिया। शांतिकुंज से पहुँची श्री योगीराज बल्कि एवं मयाचंद भारद्वाज की टोली ने शिविर संचालन किया। ५२ टोलियों का गठन हुआ, जिनके माध्यम से घर- घर जनसंपर्क, यज्ञ, दीपयज्ञों का अभियान चलाया जा रहा है।
  •  इस यज्ञ के निमित्त ११०० कलश तैयार किये गये हैं। प्रत्येक समाज के प्रमुख स्थानों पर सार्वजनिक यज्ञों के माध्यम से इनकी स्थापना की जा रही है। २० अगस्त को पाटीदार समाज में ११ कुण्डीय यज्ञ हुआ। इसके माध्यम से ९८ घरों में कलश स्थापित हुआ। सभी ने मुख्य आयोजन तक उसके समक्ष जप, साधना, प्रार्थना करने के संकल्प लिये। इस प्रकार के आयोजन अब तक कई समाजों में किये जा चुके हैं।
अयोध्या, फैजाबाद। उत्तर प्रदेश
अयोध्या में होने जा रहे २४ कुण्डीय यज्ञ के प्रयाज के अन्तर्गत जगह- जगह सम्मेलन, संगोष्ठियाँ आयोजित की जा रही हैं। इनके माध्यम से प्रज्ञा मण्डल, महिला मण्डल, युवा मण्डलों का गठन किया जा रहा है। लोगों को नियमित गायत्री उपासना करने के लिए प्रेरित- संकल्पित किया जा रहा है। जोन समन्वयक श्री देशबंधु तिवारी के अनुसार हर क्षेत्र में बाल संस्कार शालाएँ आरंभ करने और युवाओं को अभियान से जोड़ने का प्रमुख लक्ष्य रखा गया है।

१० सितम्बर को साहू पैलेस, रायबरेली बाईपास पर एक विशेष संगोष्ठी हुई, ६०० लोगों ने इसमें भाग लिया जिनमें ४०० युवा थे। उनसे बेटा- बहू, बेटी- दामाद सम्मेलन में भाग लेने और नशा त्यागने के संकल्प पत्र भराये गये। ऐसे सम्मेलन जगह- जगह आयोजित किये जा रहे हैं। सुल्तानपुर के श्री पवित्र जी, लखनऊ के श्री सुधाकर जी, सीतापुर के प्रो. हिमांशु त्रिवेदी एवं हेमंत त्रिवेदी ने इस संगोष्ठी में युवाओं में समाजोपयोगी प्रगतिशील जीवन जीने का उत्साह जगाया।


Write Your Comments Here:



Warning: Unknown: write failed: No space left on device (28) in Unknown on line 0

Warning: Unknown: Failed to write session data (files). Please verify that the current setting of session.save_path is correct (/var/lib/php/sessions) in Unknown on line 0