शांतिकुंज का पूर्वांश बना राष्ट्रीय स्कूल चैम्पियनशीप का बेस्ट आल राउंडर

Published on 2017-10-28
img

हरिद्वार, २८ अक्टूबर।
गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के कार्यकर्त्ता अपनी सेवा में कार्य में रात दिन जुटे रहते हैं, तो वहीं उनके बच्चे गायत्री परिवार के प्रमुखद्वय श्रद्धेय डॉ. प्रणव पण्ड्याजी एवं श्रद्धेया शैलदीदीजी के मार्गदर्शन में खेल, योग, शिक्षा, शोध जैसी अनेक विधाओं में कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं। डॉ. पण्ड्या व शैलदीदी बच्चों की शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के लिए सदैव प्रेरित करते हैं। उनकी प्रेरणा का ही परिणाम है कि गायत्री परिवार के बच्चे विभिन्न क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है।

पिछले दिनों देहरादून में आयोजित राष्ट्रीय स्कूल चैम्पियनशिप क्रिकेट प्रतियोगिता में देश भर के १२ राज्यों की टीम ने भागीदारी की। तमिलनाडू के विरुद्ध खेलते हुए गायत्री विद्यापीठ के कक्षा ७ के छात्र पूर्वांश ध्रुव अपने बेहतरीन फार्म को बरकरार रखा। वे ६७ गेंदों में १५८ रन (नाबाद) की धुंआधार पारी खेलकर न केवल अपनी गढ़वाल जोन की टीम को विजयी ट्राफी दिलाई, बल्कि अपने नाम एक पारी में सर्वश्रेष्ठ रन का स्कोर भी बनाया। अपनी पारी में ७ गगनचुम्बी छक्के व २२ चौके लगाया। विपक्षी तमिलनाडू की टीम पूर्वांश के सामने असहाय नजर आये और पूर्वांश का विकेटलेने के लिए अपने सात गेंदबाजों का प्रयोग किया।

वहीं गेंदबाजी में पूर्वांश ने तमिलनाडू के ४ खिलाड़ियों को पैवेलियन भेजकर उसकी कमर तोड़ दी। पूर्वांश के इस हरफनमौला खेल के लिए उसे बेस्ट आल राऊंडर का खिताब से नवाजा गया। यहाँ बताते चलें कि पिछले दिनों अपने पहले विदेश (मलेशिया) दौरे में भी पूर्वांश ने भारत को जीत दिलाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। शांतिकुंज लौटने पर श्रद्धेय डॉ. साहब व श्रद्धेया दीदीजी ने पूर्वांश को शुभ कामनाओं के साथ उसकी जीत के लिए बधाई दी।

शांतिकुंज कार्यकर्त्ता मालिकराम ध्रुव व राधा ध्रुव अपने बेटेा पूर्वांश की सफलता पर खुशी प्रकट करते हुए कहा कि उसकी सफलता में गायत्री महामंत्र के नियमित जप का विशेष योगदान है। उसकी दिनचर्या में गायत्री मंत्र का जप, योग शामिल है।

img

देसंविवि में उसिनदिएना पर्व हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न

आदमी की नस्ल सुधारने का कार्य कर रहा देसंविवि : डॉ. महेश शर्मावैश्विक एकता एवं शांति के लिए गायत्री परिवार पूरे विश्व में सक्रिय : डॉ. पण्ड्याजीरेनासा, संस्कृति संचार का हुआ विमोचन, डॉ. पण्ड्याजी ने अतिथियों को किया सम्मानितहरिद्वार २३.....

img

जीवन यज्ञमय हो : डॉ. पण्ड्याजी

डॉ पण्ड्याजी ने विद्यार्थियों को बताया मानव जीवन की गरिमा का धर्महरिद्वार २० अप्रैल।देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. प्रणव पण्ड्याजी ने कहा कि मानव जीवन यज्ञमय होना चाहिए। यज्ञ अर्थात् दान, भावनाओं का दान, कर्म का दान आदि। जो कुछ.....